मंगलवार, 1 जनवरी 2013

डायलौग डिलीवरी मत कीजिये 2013 आया...ब्लॉग 4 वार्ता...ललित शर्मा

ललित शर्मा का नमस्कार, लो जी 2013 आ ही गया। 2012 के अनुभव बहुत ही कड़ुवे रहे। मंहगाई सुरसा मुख की तरह बढती रही। लेकिन डीजल और पैट्रोल के दाम के साथ गैस सिलेंडर की मुल्य वृद्धि एवं कोटा सिस्टम ने गृहणियों को सरकार के प्रति अपना गुस्सा निकालने हेतु मजबूर कर दिया। 3 सिलेंडरों का कोटा लेने के बाद 4 था सिलेंडर 900 से अधिक मूल्य का लोगों की रसोई में पहुंच चुका है। 2012 ने जाते-जाते जनमानस को झकझोर कर रख दिया। दामिनी के बलात्कार के कारण युवाओं के स्वस्फ़ूर्त आन्दोलन ने सरकार को चिंतन करने के लिए मजबूर कर दिया। इस कड़ुवे घूंट को पीने के बाद 2013 आ ही गया। आशा है कि यह वर्ष सभी के लिए शुभ होगा। सभी जन स्वास्थ्य, समृद्धि एवं शांति के साथ जीवन यापन कर सकेगें। ब्लॉग4वार्ता के सभी पाठकों को नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं ……… प्रस्तुत हैं कुछ उम्दा चिट्ठों के लिंक …

नव-वर्ष में उगते सूरज की सुनहरी रश्मियाँ - *नव-वर्ष में उगते सूरज की * *सुनहरी रश्मियाँ * * समाहित हो जन-मानस के * *रग रग में * *कर दे समूल नष्ट * *शारीरिक व्याधियों को, * *मानसिक विकृतियो... कुछ न कह कर सब कुछ कह जाना - कुछ कहूँ, उससे पहले यह वीडियो अंश देखिए। यदि पहले देख चुके हैं तो एक बार फिर देखिए, ध्यान से। यह वीडियो अंश मैंने फेस बुक पर, एक ‘फेस बुक मि...शुभकामनाएँ... - *शुभ वंदन करे हम हे गणराज ...* *शुभता ही शुभता ले आओ * *आप हम सबके द्वार...* *मंगलमय हो नववर्ष सभी का* *दो ऐसा वरदान....* *तन मन शुद्ध हो सभी का* *रोगों... 

नया साल मुबारक 2013 - सीजी रेडियो पर सुनिए नववर्ष के आगमन कविताएं पॉडकास्ट में सम्मिलित कवि 1. अटल विहारी बाजपेयी - एक बरस बीत गया 2. हरिवंश राय बच्चन - नव वर्...  रतियावन की चेली … - बेटा! मेरा परिवार बहुत बड़ा है, हम 3 भाई हैं, मंझला भाई के पास खेती -किसानी के साथ ट्रैक्टर भी है। छोटा भाई भी गाँव में खेती किसानी करता है। .2013 - दो हजार बारह गया "तेरह" का  आगाज। मनोकामना पूर्ण हों बनें सभी के काज।। बनें सभी के काज द्वेष ना उपजे उर में। बढ़े प्रेम-सौहार्द ख़ुशी महके घर-घर में।। जनहित की... 

नववर्षागमन - नववर्षागमन आओ खाएं सौगंध, करें तैय्यारी. तैय्यारी नववर्षागमन की. आन पड़ी है आवश्यकता अब तो नव बीज वपन की बदले आचारण अपना, छोड़ दें आदत स्वस्तवन की करें लहू... मिट्टी - मिट्टी है तो मिट्टी होगी सूखी होगी गीली होगी ठंडी होगी तपती होगी कुछ खट्टी कुछ मीठी होगी मिट्टी है तो मिट्टी होगी। मिट्टी को आकार दिया तो रंगों का संसार..नव वर्ष कैसा हो - आप सब को नव वर्ष के लिए हार्दिक शुभकामनाएं | प्रस्तुत है एक रचना :- उडती चिंगारी ,सुलगती आग बढता जन आक्रोश फिर भी मतलब के लिए अपने हाथ सेकते लोग सा... 

नए वर्ष की दास्तान - नए वर्ष की दास्तान कैसे कहें शुभ हो नव वर्ष जब की बिछी है सामने जाते हुए वर्ष की खून से लथपथ देह पिछले वर्ष भी तो यही कहा था पर नहीं थमा आतंक रुक...  .नूतन वर्ष की वधाईयां ! - *सच कहूं तो इस बार इस नववर्ष की बेला पर मन में कोई ख़ास उत्साह नहीं है, फिर भी जीवन रूपी कारवां उम्मीदों के सहारे ही आगे बढ़ता है इसलिए आप सभी को नूत...नव-वर्ष संकल्प - चलो एक साल और चल बसा. जाते जाते बहुत कड़वी यादें छोड़ गया. पूरे साल भर आंदोलनों, अव्यवस्थाओं व अनाचारों का घुन्ध छाया रहा. इसमें इस बेचारे साल का क्या कसू...

रोज़मर्रा की छोटी-छोटी बातों में...... - रोज़मर्रा की छोटी-छोटी बातों में जब ढूँढने लगी खुशियाँ तो लगा...... खुशियों की कोई कीमत नहीं होती, रद्दी से मिले एक सौ अस्सी रूपये में खुशी होती है, मटर पच्...  ओस में शब्द भी कुछ नम से हो जाते हैं - "नींद थक जाती है मेरी पलकों पर जगते -जगते, ओस में शब्द भी कुछ नम से हो जाते हैं धूप महकती है मेरी क्यारी के फूलों की फुनगी पर सुबह की चाय जब पीता हूँ मैं तो ...डायलौग डिलीवरी मत कीजिये प्रधानमन्त्री जी - "गैंगरेप पीडिता की मौत व्यर्थ नहीं जाने देंगे" --मनमोहन सिंह -------------------------------------------- अब क्या इसको भी कैश करेंगे ? सियासत करेंगे मौत पर भ... 

या साल मनाने का एक तरीका यह भी - हमारे मित्र मिश्रा जी, जो कि धार्मिक प्रवृति के व्यक्ति हैं, ने हमसे पूछा, "बताइये तो सही कि आप नया साल कैसे मनायेंगे?" हमने कहा, "मिश्रा जी, जीवन में ऐसे ..नरभक्षी जिस वाहन में थे वही उनकी चलती फिरती टेरिटरी थी! - किसी एक की पीड़ा जब पूरी कायनात की पीड़ा बन जाय ,करोड़ों आँखें नम हो उठें ,लगे कि कोई अपना ही बीच से उठ चला गया हो,जन जन के मन संवेदित हो उठे हों और ह्र... सन दो हज़ार तेरह में ........ - *सन दो हज़ार तेरह में ........ **सजा मिले ........ गुंडों को, मवाली को, काली पट्टी वाली गाड़ी को, अफज़ल गुरु को, कांडा को, कलमाड़ी को, जिसमें तिनका मिले हर उस... 

 

वार्ता को देते हैं विराम ……… पुन: सभी मित्रों को नव वर्ष की बधाईयाँ। 

9 टिप्पणियाँ:

नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं

मुझ पर कृपा दृष्टि डालने तथा कृपा वर्षा करने के लिए बहुत-बहुत धन्‍यवाद।

बहुत उम्दा.बेहतरीन वार्ता ,,,,
नए साल 2013 की हार्दिक शुभकामनाएँ|
==========================
recent post - किस्मत हिन्दुस्तान की,

आपको भी नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं!

अच्छी वार्ता |नव वर्ष पर हादिक शुभ कामनाएं |
मेरा रचना शामिल करने के लिए आभार |
आशा

दिन तीन सौ पैसठ साल के,
यों ऐसे निकल गए,
मुट्ठी में बंद कुछ रेत-कण,
ज्यों कहीं फिसल गए।
कुछ आनंद, उमंग,उल्लास तो
कुछ आकुल,विकल गए।
दिन तीन सौ पैसठ साल के,
यों ऐसे निकल गए।।
शुभकामनाये और मंगलमय नववर्ष की दुआ !
इस उम्मीद और आशा के साथ कि

ऐसा होवे नए साल में,
मिले न काला कहीं दाल में,
जंगलराज ख़त्म हो जाए,
गद्हे न घूमें शेर खाल में।

दीप प्रज्वलित हो बुद्धि-ज्ञान का,
प्राबल्य विनाश हो अभिमान का,
बैठा न हो उलूक डाल-ड़ाल में,
ऐसा होवे नए साल में।

Wishing you all a very Happy & Prosperous New Year.

May the year ahead be filled Good Health, Happiness and Peace !!!

नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं..........

सबसे पहले नव वर्ष की बहुत बहुत शुभकामनायें। वार्ता मे प्रथम स्थान देने के लिये शुक्रिया। कल हमने फोनवा से बतियाने के लिये बहुत टराई किया ……फोनवा बंद……मतलब कछु रिस्पोंस ही नही ……काहे भाई?????

नववर्ष की शुभकामनायें..

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणी में किसी भी तरह का लिंक न लगाएं।
लिंक लगाने पर आपकी टिप्पणी हटा दी जाएगी।

Twitter Delicious Facebook Digg Stumbleupon Favorites More