रविवार, 13 फ़रवरी 2011

टोल टैक्स.... एक प्रकार का सरकारी गुंडाराज -- ब्‍लॉग4वार्ता -- देव कुमार झा

सभी लोगों को देव बाबा की राम राम....
लीजिए भैया आज की वार्ता का आनन्द लीजिए..... वैसे फरवरी का महिना है और आप लोग भी अब मार्च की टैक्स प्लानिंग और टैक्स के आंकड़े की गुणा-गणित में लगे होंगे.... लीजिए आप लोगों के सामने कुछ आंकड़े रखे जाएँ..... आखिर हमारी सरकार की टैक्स से होने वाली आय आखिर कितनी है? अंदाज़ा लगाइए.... लीजिये आपकी मुश्किल आसान की जाए.... 

रूपये ३,१७,५०१  करोड़!!! जी हाँ.... तीन लाख करोड़ रूपये..... 

कार्पोरेट्स से होने वाला कलेक्शन :- लगभग २,१६,८७२ करोड़ रूपये 
हम और आप यानी की इन्डिविडुअल :- लगभग १,००,१९१ करोड़ रूपये.....  

यकीन ना आए तो फ़िर इसे देखिए.....  यह तो डायरेक्ट टैक्स की गणना थी, अब ज़रा इन्डायरेक्ट टैक्स की बात की जाए..... मनोरंजन टैक्स.... ४५%  एक सुई या पारले जी का बिस्कुट से लेकर रोज़-मर्रा की ज़रूरत की हर चीज इन-डायरेक्ट टैक्स के दायरे में आती है.....  और फिर बिना बात के लगने वाला सर्विस टैक्स....  क्या किया जाए..... कुछ समझ नहीं आता इनका.... 

अब ज़रा एक और तस्वीर की ओर गौर कीजिए.... टोल टैक्स!!! उदाहरण के लिए मुम्बई और नवी मुम्बई के बीच बनें दो पुल.... वाशी और ऐरोली.... रेट लिस्ट पर गौर किया जाए.....  कार: ३० रुपए, बस :- ६५ रुपये....  

और ज़रा गौर कीजिये.... मुम्बई और पुणे के एक्सप्रेस वे पर टोल रेट का....   कार १४० रूपये.... बस :- ४११ रूपये.... ट्रक :- ७१० रूपये... मल्टी-एक्सेल ट्रक :- ९४६ रूपये|  यह महज़ आंकड़े नहीं है.... यह एक प्रकार का सरकारी गुंडाराज है.... एक बार किसी पुल, या किसी सड़क पर टोल शुरू हो जाए तो फिर वह सरकार के लिए एक धन उगाही का माध्यम बन जाता है... फिर वह कभी भी बंद नहीं होता.... अजी बन्द होनें का तो छोडिये.... टोल की रकम कभी कम भी नहीं होती..... केवल बढती ही रहती है.....  मालूम नहीं क्यों मगर इस पर किसी की नज़र क्यों नहीं जाती.....   चलिए भाई इस सरकारी गुंडाराज़ से कभी तो मुक्ति मिलेगी, इसी उम्मीद के साथ आज की वार्ता को आगे बढ़ाते हैं.... 
-------------------------------------------------------

















&

आज की ब्लाग वार्ता यहीं तक......  मगर जाते जाते कुछ खबरिया लिंक्स को छोडे जाते हैं.... बीते २४ घंटों की कुछ रोचक न्यूज़ लिंक्स






आज की वार्ता यहीं तक... फिर मिलेंगे....

जय हिंद
देव कुमार झा

13 टिप्पणियाँ:

अच्छे लिनक्स से सजी वार्ता देव कुमार जी ..... धन्यवाद

सरकारी गुण्डाराज तो बना रहेगा। गत वर्ष नागपुर से मुम्बई गोवा तक मैने हर 25-30 किलोमीटर पर हजारों रुपए टोल के नाम पर दिए हैं। इतना टोल टैक्स तो भारत में और कहीं भी नहीं है।

बढिया वार्ता
आभार

रश्मिप्रभा जी को जन्मदिन की शुभकामनाएँ!

अच्छे लिनक्स से सजी वार्ता.

बहुत अच्छे लिंक मिले आपकी इस वार्ता से । धन्यवाद !

कार्पोरेट्स से होने वाला कलेक्शन :- लगभग २,१६,८७२ करोड़ रूपये
हम और आप यानी की इन्डिविडुअल :- लगभग १,००,१९१ करोड़ रूपये.....
और एक ही घोटाले मे हड़प लिया जाने वाली जनता की गाढ़ी कमाई ??
रु.1,76000,00000000,(1,76,000करोड़) ये एक घोटाले की तस्वीर है ...
27 फरवरी को दिल्ली मे राष्ट्रपति और प्रधान मंत्री को भ्रष्टाचार के खिलाफ ज्ञापन देने हेतु हस्ताक्षर अभियान का हिस्सा बनें।

आदरणीया रश्मी जी को जन्मदिन की बहुत बहुत बधाई|

देव बाबु अब समय आ गया है कि आप वार्ता में कुछ नए प्रयोग भी करें ... वैसे एक पाठक के रूप में कहूँ तो आपकी वार्ता हमेशा ही लुभाती है ... बधाइयाँ और शुभकामनाएं !

आज की वार्ता में आपने जो तथ्य प्रस्तुत करें है वह सच में काफी कुछ बताते है सरकारी गुंडाराज के बारे में !

अच्छी वार्ता अच्छी लिंक्स |
बधाई
आशा

बेहतरीन,

देव बाबा की जय!!

आप सभी का आभार,
@शिवम भैया:- बिल्कुल वार्ता में नये प्रयोग भी किये जाएंगे... बस अपना अनुराग बनाए रखें..

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणी में किसी भी तरह का लिंक न लगाएं।
लिंक लगाने पर आपकी टिप्पणी हटा दी जाएगी।

Twitter Delicious Facebook Digg Stumbleupon Favorites More