सोमवार, 19 सितंबर 2011

वो बुरी औरत आज आईने में खुद को न देख ------ ब्लॉग4वार्ता ----- ललित शर्मा

ललित शर्मा का नमस्कार, कल शाम भूकंप के झटकों का समाचार मिला और एक नए एग्रीगेटर का उदय हुआ. यहाँ आपको ५०० से अधिक ब्लॉग अपडेट मिलेंगे. सरलता से खुलने वाले इस अग्रीगेटर से आप मनचाही पोस्ट पढ़ सकते हैं. कल के भूकंप ने कई राज्यों में धरतीको हिला कर तबाही ला दी. इसे ही कहते हैं प्राकृतिक आपदा. बैठे बिठाये समस्याओं में फंसना. प्रकृति से छेड़छाड़ के नतीजे अब सामने आ रहे हैं, ग्लोबल वार्मिंग के रूप में वार्निग मिल रही है की चेत जाओ. अगर नहीं चेते तो चेतने के लिए बचाना भी कठिन है. भादो के महीने में लगातार बारिश हो रही है, सावन की तरह गर्जन-तर्जन के साथ मुसलाधार वर्षा का कोई लाभ नहीं है. किसान को वर्षा समय पर चाहिए. ग्लोबल वार्मिंग से समय चक्र बदल रहा  है, समय चक्र के बदलाव पर नजर रख कर,  बदलाव को ही स्थायी मान कर कार्य करना चाहिए. अब चलते हैं आज की ब्लॉग4वार्ता में............

भूकंप के झटकों से हिला छतहार *आज शाम छह बजकर ग्यारह मिनट पर भूकंप के तेज झटकों से छतहार और आसपास के इलाके दहल उठे। गांववासी रोजमर्रा के कामों से निपटकर घर लौटे ही थे कि अचानक भूकंप का ...भूकंप का समाचार सबसे पहले छ्तहार से मिला मुखिया जी ने बताया, भूकंप से सभी लोग डरे हुए है, दो बार इस इलाके में पहले भी भरी भूकंप से जाना मॉल की हानि हुयी थी...गिर रहा है 6.5 टन का सेटेलाइट आपको शायद जानकर हैरानी हो कि मानव निर्मित 2200 टन कबाड़ पृथ्वी की कक्षा में मौजूद है। पृथ्वी की कक्षा में सेटेलाइट भेजने वाले देशों की संख्या बढ़ती जा रही...सर्वाधिकार सुरक्षित हैं ..... उनके अनुसार संसद एक सर्वोच्च संस्था होती है | उसकी एक गरिमा होती है | और एक मर्यादा भी होती है | इस पर उन्हें बहुत गर्व है | और इसे भंग करने के सारे अधिक..


हाशिये का समाज केंद्र की ओर -हाशिये का समाज केंद्र की ओर.... बहाना था रविन्द्र प्रभात की नई पुस्तक "हिंदी ब्लॉगिंग का इतिहास" के लोकार्पण का . इस मौके पर भाषा, बोली, लिपि से लेकर न्यू...कल्पना के पंख जीवन में पंख लगाए आसमान छूने को कई स्वप्न सजाए साकार उन्हें करने को | उड़ाती मुक्त आकाश में खोजती अपने अस्तित्व को सपनों में खोई रहती थी सच्चाई से दूर बहुत |....भूकंप के झटके बनारस में भी महसूस किये गये भूकंप के झटके। सच कहें तो हमने नहीं महसूस किये। हम तो गहरी नींद में सो रहे थे। एक गोष्ठी से लौटे थे जिसका विषय था... अखंडता, ...तुमसे जुदा होकर !! कभी गमो की दलदल में हम भी डूबे थे , अब निशां पड़ेंगे , सुखों की सूखी जमीं पर , तुमसे जुदा होकर !! कभी मुद्तों -मुद्तों भीगे आँखों की बारिश में हम भी थे अब दिमाग झन्ना गया है 'दैट गर्ल इन येलो बूट्स' देखकर..पिछले कई बार से बहुत झेलू फिल्म देख देख कर काफी कोफ़्त हो रही थी तो आज सोचा एक कोई घोषित "लीक से हटकर " फिल्म देखी जाय....सो चला गया " दैट गर्ल इन येलो ...


जनम-दिन मुबारक *तुम जिओ हजारो साल * *साल के दिन हो पचास हजार** * *मेरा बेटा --सन्नी ~~~~'लिफाफा छोडूंगा नहीं ! '* * * *जनम -दिन मुबारक * *मेरी जिन्दगी* में हादसों ...काका हाथरसी के जन्मदिन व पुण्यतिथि पर विशेष प्रभुलाल गर्ग "काका हाथरसी"*काका हाथरसी* (18 सितंबर 1906 :: 18 सितंबर 1995) *जीवन के संघर्षों के बीच हास्य की फुलझड़ियाँ जलाने वाले काका ने 1932 में हाथरस...मैं और वेधशाला मैं दैनिक भास्कर के उज्जैन ब्यूरो में सिटी रिपोर्टर पदस्थ हुआ। नया-नया था। उस प्राचीन नगरी के चप्पे-चप्पे को लेकर गजब का कौतुहल था। जो बीट मिली उनमें महाका...Bolte Vichar 16 - व्यक्ति-चयन और आलोचना का संसार -बोलते वि‍चार 16 आलेख व स्‍वर - डॉ.आर.सी.महरोत्रा जिस प्रकार संसद और विधानसभा में पक्ष की अच्छी-से-अच्छी बातों का विपक्ष को विरोध को विरोध करना ‘जरूरी’ हो...यह शख्स ...... मत कहो कि यह शख्स , सड़क पर नंगा पड़ा है | धरती बिछौना है इसका , इसने तो आसमान ओढ़ा है| यह शख्स जो प्यास से, बेहोश हो कर गिर पड़ा है| उसने तो अपने आँखों..

भारत का एकमात्र मेंढक मंदिर - *- डॉ. शरद सिंह* उत्तर प्रदेश में लखनऊ से सीतापुर मार्ग पर लखीमपुर खीरी से लगभग 12कि.मी. दूर ओएल कस्बा है. यहां भारत का एकमात्र मेंढक मंदिर स्थित है. ...मिटे न मन की प्यास सावन भादों जमकर बरसे, बहे पवन उनचास। जल ही जल है, सृष्टि तरल है, मिटे न मन की प्यास।। झूठ फ़रेब और सच्चाई, यह तो युग-युग से है भाई। भोले करते गरलपान हैं, ..."वो बुरी औरत" वाणी की कहानी की अगली कड़ी.......... "वो बुरी औरत" वाणी की कहानी की अगली कड़ी किसी भी श्रमशील कार्य करने की आदत वाणी में बिल्कुल नहीं थी, और शारीरिक क्षमता से अधिक कार्य कर लेने के बाद वो थकन ...आज आईने में खुद को न देख आज आईने में खुद को न देख, जिंदगी को आईने से भी न देख। रहने दे उसको वक्त में ही छिपा, बेवजह परदों को हटाकर न देख। वही कुछ चेहरे हैं जा...बुद्धिमान लडकी एक बुद्धिमान लडकी सप्ताह में एक दिन डिग्रियों पर से धूल पोंछ कर सहेज कर रख देती है आलमारी में एक बुद्धिमान लडकी तितलियों की तरह अब पंख नहीं संवारती...

जनसंस्कृतियाँ और साम्राज्यवादी संस्कृति – दूसरा भाग जनसंस्कृतियाँ और साम्राज्यवादी संस्कृति – दूसरा भाग शिवराम ( शिवराम का भारतीय समाज के संदर्भों में जनसंस्कृतियों की विकास-अवस्थाओं और साम्राज्यवादी अपसंस्क...रोचक गणनाएँ अधिकतर लोगों को गणित कठिन विषय लगता है क्योंकि गणित को शुष्क विषय माना जाता है। किन्तु यह भी सत्य है कि गणित की अनेक गणनाएँ बहुत ही रोचक भी हैं। जरा निम्न ...क्या सिर्फ़ गुज़रात मे ही दगे गुये है?कोई तो बोलो,पंजाब नही तो दिल्ली या आसपास हुये दगों पर ही बोल दो -गुजरात माने दंगे!मोदी यानी नरसंहार!गोधरा रेल कांड का कोई माने नही,बेस्ट बेकरी कांड इंसानियत पर बदनुमा दाग!मोदी का उपवास नाटक!कांग्रेस का अनशन नाटक नही नाटक...नरेंद्र दामोदर भाई मोदी , हमें आपकी ज़रुरत है १७ साल की आयु में अपने परिवार को त्यागकर समस्त देशवासियों को अपना परिवार मान लिया और आज की तारीख तक अपने देशवासियों की सेवा में लगे हुए हैं। गुजरात प्रदेश ...

मानवाधिकार घोषणा पत्र -कोई मनुष्य किसी का दास नहीं हैसभी मनुष्य अपने अधिकारों के लिए जन्मजात स्वतंत्र और समान हैं। घोषणापत्र में निर्धारित मानवाधिकार हर नस्ल, राष्ट्रीयता, धर्म औ...छत्तीसगढ़ के हस्त शिल्प विकास हेतु कटिबद्ध मेजर अनिल सिंग प्रदेश में हस्तशिल्प से जुड़े मेहनतकश कलाकारों के क्षमता विकास और तकनीकी उन्नयन के लिए किए जा रहे प्रयासों से छत्तीसगढ़ की हस्तकला और कलाकारों को एक नई पहच...घुटने में अभी भी हेड़ेक है बात पिछले से भी पिछले मंगलवार की है,यानि 6/9/11 की। दोपहर करीब दो बजे का समय था। रिमझिम फुहारें पड़ रही थीं सो उनका आनंद लेने के लिए पैदल ही घर की ओर निकल प...आज डॉ कुमारेन्द्र सिंह सेंगर का जनमदिन है आज, 19 सितम्बर को रायटोक्रेट वाले डॉ कुमारेन्द्र सिंह सेंगर का जनमदिन है बधाई व शुभकामनाएँ.देखईया के जर जाये गऊकिन!गणपति विसर्जन के दिन श्रीमती जी ने चेताया कि आज लम्बोदर महाराज जी को विदा करना है. कहीं चले मत जाना. दोपहर को सिराये आना इन्हें. हमने उनकी आज्ञा सिरोधार्य...

लोदी का उपवास - चचा अखबारी की गप्पशाला किसी बड़े शहर के पार्क में टहलते हुए, कस्बे की चाय की दुकान पर ठल्ले बैठे, गाँव के चौपाल पर सजी महफिल में या फिर काशी के अस्सी में, एक शख्स अक्सर मिल जाते ...नहर वाली गली नहर वाली गली का किस्सा सचमुच घंटों का किस्सा है हुजूर कहां है नहर ? नहर नहीं सड़क है हुजूर, आप जहां खड़े हैं क्यों छेड़ रहे हो नहर का इतिहास छपाक-छपाक गोत...रेलवे की साईट हैक करके चल रहा हैं तत्काल टिकट बुकिंग का फर्जीवाड़ा ( IRCTC site hacking software) रेलवे की साईट को हैक करने का सोफ्टवेयर धडल्ले से बाजार में बिक है, जिससे कई जालसाज रेलवे को चूना लगा रहे हैं | इस तरीके का सोफ्टवेयर अभी बनारस में पकड़ा गया...सब भगवान् भरोसे है ....... कमबख्त नन्ही सी जान पे इतनी मुसीबतें .......कल जब लिखने बैठा था तो सोच के तो कुछ और चला था ....शुरू भी किया ,पर आधे रास्ते में जा के हवा निकल गयी .... बड़ी ...वे सूरज को स्पेस नहीं देते ! यूं तो सुबह को जागे हुए अरसा हो गया ... पर घने स्याह बादल आहिस्ता आहिस्ता लपकते टपकते हुए माहौल को गहरी स्याह रंगत में जकड़े हुए , गोया उन्हें एक जिद सी क...

कुत्तों के चरवाहे - जिस तरह से गोरू और बकरियों के चरवाहे होते हैं वैसे ही कुत्तों के भी होते हैं। जिस तरह से समाज के हर वर्ग में श्रेणीबद्धता पाई जाती है वैसे ही चरवाहों में ...कृष्ण लीला ---------भाग 13 जाकर योगी बैठ गया ध्यान में कर रहा करुण पुकार है भोले नाथ ध्यान में विनती करते हैं प्रभु दर्शन को नैना तरसते हैं क्या इतने पास होकर भी दर्शन नहीं होंगे अविरल...वन्दे वाणी विनायकौ प्रस्तुत है राकेश कुमार जी के ब्लॉग "मनसा वाचा कर्मणा" से एक पोस्ट वन्दे वाणी विनायकौ--- इनकी एक और पोस्ट ’ऐसी वाणी बोलिए’ भी यहाँ सुन सकते हैं।इबादत नाम दिये जाते हैं काम नहीं करते कुछ ऐसे लोग जिये जाते हैं खून जला कुछ पैसा जोड़े और पिये जाते हैं दोस्तों की आपस में बातें नए जमाने की सौगात अभिवादन करते गाली में बात किये जात..खुद ही विकल्प बनना होगा पेट्रोल की कीमतें बढ़ा दी गई हैं। रसोई गैस की नई कीमतें निर्धारित करने के लिए होने वाली मंत्री समूह की बैठक स्थगित हो गई। वह हफ्ते दो हफ्ते बाद हो लेग...

मिलते हैं अगली वार्ता में राम राम.............

13 टिप्पणियाँ:

ललित जी अब मैं तो आपके इस ब्लॉग की नियमित पाठक हो गयी हूँ |
आपका लेखन बहुत धारदार होता है |आज भी बहुत सी लिंक्स और अच्छी प्रस्तुति |

बधाई |
आभार मेरी रचना शामिल करने के लिए |
आशा

अच्छे लिंक्स ...
नए एग्रीगेटर की बधाई!

छत्तीसगढ़ में भूकंप नहीं आने का कारण ( http://blogabhanpur.blogspot.com/) समझ में आया :)

बढ़िया और कई नए लिंक पढ़ने को मिले...नया एग्रीगेटर को आज ही देख पाए.. बहुत बहुत शुक्रिया

"प्रकृति से छेड़छाड़ के नतीजे अब सामने आ रहे हैं, ग्लोबल वार्मिंग के रूप में वार्निग मिल रही है की चेत जाओ. अगर नहीं चेते तो चेतने के लिए बचना भी कठिन है. "
बहुत जरुरी सन्देश के साथ वार्ता का आरम्भ... अच्छे लिंक्स ...
नए एग्रीगेटर की बहुत-बहुत बधाई....

गम्‍भीर वार्ता

अति सुंदर उपहार। सरप्राइज के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद।

यहाँ आकर क्षुब्ध हो जाती हूँ ..किसे पढू ? किसे छोडू ? कुछ समझ नहीं पाती हूँ ..एक से बढकर एक लिंक ! मेरी स्टोरी के लिए धन्यवाद ललित जी !

सुंदर लिंक्स और बढ़िया प्रस्तुति.

अच्छे लिंक्स ...
मेरे लेख ‘भारत का एकमात्र मेंढक मंदिर’ को वार्ता में स्थान देने के लिए हार्दिक आभार...

सभी लिंक्स अच्छे हैं...आभार आपका....

बहुत अच्‍छे लिंक्‍स .. पढना शुरू करती हूं .. आभार !!

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणी में किसी भी तरह का लिंक न लगाएं।
लिंक लगाने पर आपकी टिप्पणी हटा दी जाएगी।

Twitter Delicious Facebook Digg Stumbleupon Favorites More