सोमवार, 10 सितंबर 2012

आह …… इमरोज जी का खत ………ब्लॉग4वार्ता…… ललित शर्मा

ललित शर्मा का नमस्कार, मुंबई की एक अदालत ने विवादित कार्टून बनाने वाले कार्टूनिस्ट असीम त्रिवेदी को एक सप्ताह की पुलिस हिरासत में भेज दिया। असीम पर कार्टून में भारत का रेप और संसद को टायलेट बताए जाने का आरोप है। मुंबई पुलिस ने रविवार को असीम को गिरफ्तार किया। इसके बाद उसे अदालत में पेश किया गया। असीम पर आरोप है कि उन्होंने आपत्तिजनकर कार्टून बनाकर राष्ट्रीय प्रतीक का अपमान किया है। त्रिवेदी पर अश्लील और गंदे कार्टून को अपने वेब पोर्टल पर डालने का भी आरोप है। पुलिस ने उनके वेब पोर्टन को बंद कर लिया है। हालांकि फेसबुक के पेज पर अभी भी कार्टून मौजूद हैं। असीम पर राजद्रोह का केस दर्ज किया गया है। अब चलते हैं आज की वार्ता पर………प्रस्तुत हैं कुछ लिंक्स……

इमरोज़ जी का ख़त और हीर का जवाब ठीक जन्मदिन वाले दिन इमरोज़ जी का ख़त मिलता है ... जिसका हिंदी तर्जुमा** आप सबके ** लिए ..... खास दिन .....३१/८/१२ * किसी खास के साथ कोई भी दिन ख़ास हो जाता है जिस दिन हीर जन्मी थी वह दिन भी खास था और...लिखता गया समय लिखता गया समय .... *रचते गए इतिहास वो ,* *लिखता गया समय ,* *हम रहे उन्माद में* *सब भूलते गए -* * **घास की रोटी मिली* *पर हौसला न कम हुआ ,* *रक्षार...नारी ब्लॉग के माध्यम से एक विचार-विमर्श का आयोजन नारी ब्लॉग के माध्यम से एक विचार-विमर्श का आयोजन किया जा रहा है। यह एक प्रशंसनीय प्रयास है। इसे प्रतियोगिता का रूप दिया गया है जिसमें 15 अगस्त 2011 से 14 अगस्त 2012 के बीच में पब्लिश की गयी ब्लॉग प्रविष्...

जहाँ सूखे में भी बहार है -- दुबई वर्षों पहले हम मित्रों ने एक ख्वाब बुना था -- बाल बच्चों समेत विदेश यात्रा पर जाने का . ख्वाब पूरा हुआ पूरे ३२ साल बाद जब तीन मित्रों को इक्कट्ठा कर पाए और कार्यक्रम बना पाए, हालाँकि अब बाल तो सभी के कम ह... फेसबुक और अभिव्यक्ति की लक्ष्मणरेखा फेसबुक पर अमर्यादित,गाली गलौज, पर्सनल कमेंटस (छींटाकशी) आदि को तुरंत हटादें साथ ही सार्वजनिक तौर पर सावधान करें। न माने तो ब्लॉक कर दें। -----भारत परिक्रमा- बारहवां दिन 19 अगस्त 2012 ठीक समय पर ट्रेन चल पडी। यह थी जन्मभूमि एक्सप्रेस (19107) जो अहमदाबाद से ऊधमपुर जाती है। यह गाडी तकरीबन सालभर पहले ही चलना शुरू हुई है। यह एक ऐसी ...

भूल हुई है अपार, फिर भी मिला है प्यार संचार के विभिन्न माध्यमों से जन्मदिन पर ढेर सारे बधाई सन्देश प्राप्त हुए है.विज्ञानं का युग है अतः संदेशों के आदान-प्रदान में ना असुविधा होती है और ना ही विलंब. संचार के अनेक माध्यम हो गए है .एक ज़माना था ज...अब नहीं पीटेगा वह मेरी क्या गलती है ...मुझे क्यों मार रहे हो...आप जैसा बोलते हैं , वैसा ही तो करते आ रही हूँ....मत मारो...मुझे मत मारो..." इन्हीं चीखों के साथ एक घर के अन्दर से महिला के जोर-जोर से रोने की आवाज़ आ रही थी. ब...आह ...-बड़ों के कंधे पर अर्थी, उठायी जाए बच्चों की !* *तो बूढी जिंदगी में, और जीना बोझ लगता है !* *अगर बेटे को, लथपथ खून से, कोई पिता देखे !* *तो ईश्वर नाम पर, विश्वास करना,बोझ लगता है !*

पहली कमाई पूरी मिल पाई मैं मुंबई में वकालत की पढ़ाई कर रहा था और इंडियन पीपल्स थिएटर एसोसिएशन ( इप्टा) से भी जुड़ा हुआ था। थिएटर हम लोग शौकिया तौर पर करते थे। इप्टा में ही नामचीन निर्देशक एम.एस. सथ्यु थे जो अपनी पहली फ़िल्म ...अब थोड़ा सुकून है वो साया जो वक्त बेवक्त मेरे इर्दगिर्द मंडराता था अब उसका ठौर कहीं और है साए भी आवारा होते है पहली बार जाना पर थोड़ा सुकून है आमीन !!!!! -----दिव्या------- न जाने कहाँ गयी .... जेठ की तपती दुपहरी गरम साँसों की आवाजाही लू भी जब जी जला रही तब...एकाएक उसने कहा कि वो दूर जाने वाला है कुछ दिन का विरह बीच में आने वाला है . मैंने कहा,बता कर जाना उसका कहना कि मुझसे कहे बिना क्य...


मिलते हैं अगली वार्ता में राम राम.....

4 टिप्पणियाँ:

रोचक सूत्र..काश अभिव्यक्ति बाधित न हो।

बढ़िया लिंक्स, शानदार वार्ता...

बढिया वार्ता
अच्छे लिंक्स

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणी में किसी भी तरह का लिंक न लगाएं।
लिंक लगाने पर आपकी टिप्पणी हटा दी जाएगी।

Twitter Delicious Facebook Digg Stumbleupon Favorites More