गुरुवार, 3 मार्च 2011

शिखा वार्श्नेय ABBS की अध्यक्ष एवं इंदू पुरी सचिव निर्वाचित-- ब्लॉग4वार्ता --- ललित शर्मा

ललित शर्मा का नमस्कार, एक बार पुन: महाशिवरात्रि पर्व की बधाई, लौट के बुद्धू घर को आया, कमाल है बुद्धु भी लौट आते हैं, होशियार रह जाते हैं, साकी को न जब तलक इस बात का मलाल होगा, मयखाने पर हर मुर्गा, प्यासा ही हलाल होगा ! मिलेगी न तृप्ति हरगिज, अतृप्त इस पियक्कड़ को, हलक इसके घुटन होगी, दिल बद्दतर हाल होगा ! साकी को न जब तलक........!अकेले होना बहुत दिनों तक ब्लॉग जगत से दूरी बनी रही और जिन्दगी में कुछ नए अनुभव भी हुए उन्हीं अनुभवों को यहाँ शब्द रूप में अभिव्यक्त करने का प्रयास किया गया है .....! * सोचा मैंने जब अकेले होने के बारे में तब मुझ...एक शिला -ध्यान इन्हें ध्यान से देखिये गरिमा के पास बैठी ये सीधी-सादी सी दिखने वाली हमारे स्कूल-परिवार की एक और मेंबर 'ध्यान कुंवर' हैं.उम्र ३३-३४ की. यस मुझे मालूम था आप लोग सोच रहे हैं अब मैं अपने स्कूल के पूरे स्टाफ ...

डायपर्स सस्ते होंगे,पेट भरना मुश्किलदेश भर में बजट प्रस्तावों पर बहस हो रही है। सत्ता पक्ष बल्ले बल्ले और विरोधी थल्ले थल्ले कर रहा है। आम आदमी से थोड़े ऊपर की हैसियत वाले से लेकर बड़े बड़े व्यापारी, अर्थशास्त्री,विश्लेषक बजट का...मुल्ज़िम, मुजरिम और सज़ाचला बिहारी ब्लॉगर बनने अभी हफ्ता दस दिन पहले दिल्ली में हमरे इस्कूल का अलुम्नाई मीट था. अचानक फोन पर निमंत्रन पाकर हम हक्का बक्का रह गये. ई सोचकर कि एतना दिन के बाद केतना पुराना लोग से मुलाकात होगा, मन में अजीब तरह का धुकधुकी ह... हरकीरत ' हीर'पिछले दो महीने पत्र-पत्रिकाओं में खूब नज्में छपीं ....बहुत से फोन काल्स ... ख़त ...पत्रिकाएँ ....नज्मों की मांग .... इनमें से दो खतों (मेल) ने ज्यादा खुशी दी ...एक तो 'सिल्ली सिल्ली आंदी है हव़ा ' गीत लिखने...

भ्रष्टाचार के खिलाफ़ एक जुटता के लियेमित्रो वन्दे-मातरम इस देश में जहां तिरंगा सर्वोपरि होना चाहिये वहां सर्वोपरि नज़र आ रही लिप्सा, स्वार्थ,आत्म-सुख,के रंगों में रंगी निष्ठाएं... मुझे कुछ कहा नहीं जाएगा ये तस्वीर देखिये जो क्षुदा को शांत करने...बसन्त का सन्त यह एक सुन्दर संयोग ही है कि वैलेन्टाइन दिन बसन्त में पड़ता है। बसन्त प्रकृति के उत्साह का प्रतीक है और प्रेम प्रकृति की गति का। प्रेम का यह प्रतीकोत्सव भला और किस ऋतु को सुशोभित करता? आधुनिक सांस्कृतिक परि...षडयंत्र चार हरयाणवियों का कल मजाक मजाक में षडयंत्र पूर्वक चार हरयाणवियों ने एक हरयाणवी का यानि ताऊ का जन्म दिन मनवा दिया. अब आप कहोगे कि जन्म दिन मनाने में षडयंत्र कैसा? सो बहणों और भाईयो, ये षडयंत्र राज भाटिया ने रोहतक ब्लागर सम्म...

शिखा वार्श्नेय ABBS की अध्यक्ष एवं इंदू पुरी सचिव निर्वाचितABBS की अध्यक्षा शिखा जी पद एवं गोपनीयता की शपथ लेते हुए*महाशिवरात्रि पर्व पर कई घंटों की चैट पर मशक्कत के बाद यह तय हुआ कि हिन्दी चिट्ठाकारी के विकास के लिए एक अखिल ब्रह्माण्ड स्तरीय संगठन की निहायत ही आ...भाई समीर लाल जी चिट्ठी आपको भी मिली होगी ताऊ के जन्मदिन की,ताऊ मिल गया और असली का मिला. ताई भी मिली और आपके आदेशानुसार आपकी दोनों पुस्तकें भी... आज या कल "मिलन-पोस्ट" पोस्ट करूंगा. एक स्थानीय कार्यक्रम में व्यस्तता के कारण एक दिन उदारतापूर्वक...कैलास पर्वत से धरती तक की यात्रा उड़न तश्तरी पर,  द्वापर युग में जब भगवान विष्णु कृष्ण रूप में अवतार लेते हैं तो भगवान शिव उनके दर्शन करने कैलास पर्वत से उतर कर नंद गांव जाते हैं । भगवान के दर्शन...

सांसद और मंत्री डोक्टर किरोड़ी बंदूक लेकर डकेतों से मुकाबला करने जंगलों में पहुंचेराजस्थान में दोसा के सांसद ,राजस्थान की सरकार को बनाने वाले मुख्य सूत्रधार और राजस्थान सरकार में खादी ग्रामोद्ध्योग मंत्री श्रीमती गोलमा देवी के पति निर्दलीय सांसद डोक्टर किरोड़ी मीणा ने राजस्थान में डकेतो...ब्लॉगिंग को सार्थक करती परिकल्पनायदि आप ब्लॉग जगत के महत्व को नज़दीक से समझना चाहते हों और हिंदी ब्लोगिंग की दशा एवं दिशा को निरखना चाहते हों , तो परिकल्पना एक अपरिहार्य माध्यम के रूप में आपके सामने मौजूद है !"* * * *ये मैं नहीं कह रहा ...तेरी याद का एक लम्हा होता हैं ना, बस वह...रात नसरुद्दीन अपने गधे को पुकारता रहा लेकिन गधा भड़भूंजे की भट्टी से बाहर फैंकी गई राख में लोटता रहा. नसरुद्दीन उससे नाराज़ हो गया. सुबह गधे ने उदास सी रेंक लगा कर कहना शुरू किया. रात, मैंने एक कहानी पढ़ी ह...

चलते ही जानासुहास और विजय ने कुछ दिन दिल्ली में बिताये, बाजारों में घूमे फिरे । फिर हम सब निकल पडे राजधानी एक्सप्रेस से ठाणे के लिये, पता है पता है राजधानी ठाणे नही जाती, तो हम मुंबई सेंट्रल से वहां गये भाई । कोई ५...साथ अँधेरों का निभाना बहुत थासाथ अँधेरों का निभाना बहुत था,टूटे ख्वाबों को सजाना बहुत था।  कैद-ए-गम-ए-दिल से निकले ही नहीं,यूं तो ज़िंदगी में वक़्त बहुत था।  दिल-ए-नादां अब बहलता नहीं,इसे हमने ही बहकाया बहुत था। एक ख्वाब जो गुम हुआ कहीं...एक शिव मंदिर, जहां एक करोड़ शिव-लिंग स्थापित हैं.महाशिवरात्रि पर विशेष : श्री कोतिलिंगेश्वर महादेव कर्नाटक के कोलार जिले के एक गाँव काम्मासांदरा में एक अद्वितीय शिव मंदिर है, जो "कोतिलिंगेश्वर" के नाम से जाना जाता है. बेंगलुरु-चेन्नई रोड पर यह बेंगलुरु...

वार्ता को देते हैं विराम, मिलते हैं ब्रेक के बाद, कुछ नए लिंक्स के साथ------

19 टिप्पणियाँ:

बहुत बढ़िया प्रस्तुति के लिए बधाई !!

बढ़िया......

अध्यक्षा एवं सचिवा को बधाई...

अध्यक्षा एवं सचिवा को बहुत सारी शुभकामनायें और बधाईयाँ |
रोचक प्रस्तुति ... आभार!

अध्यक्ष एवं सचिव को बधाईयाँ
बढ़िया प्रस्तुति
बढ़िया लिंक्स सुन्दर चर्चा
बहुत अच्छी वार्ता
विस्तृत वार्ता

jai ho

bahut achhi lagi vistrit jaankaari...........

dhnyavaad !

रोच्क लिन्क मिले। आभार।

अच्छी विस्तृत वार्ता।

शिखा जी और इंदु जी दोनों को बधाई. शिखा जी को मैं थोडा जानता हूँ इसलिए उनको यहाँ देख के अच्छा लगा.

बढ़िया लिंक्स सुन्दर चर्चा,शिखा जी और इंदु जी दोनों को बधाई !

महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनायें.

अध्‍यक्ष और सचिव को बधाईयां।
अच्‍छी वार्ता।
आभार

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणी में किसी भी तरह का लिंक न लगाएं।
लिंक लगाने पर आपकी टिप्पणी हटा दी जाएगी।

Twitter Delicious Facebook Digg Stumbleupon Favorites More