बुधवार, 9 मार्च 2011

मेरे महबूब शायर का जन्म दिन--महिला दिवस के चिट्ठों की वार्ता --- ललित शर्मा

सभी को ललित शर्मा का नमस्कार, कल महिला दिवस मनाया गया। ब्लॉग जगत में भी महिला अधिकारों को लेकर चर्चा हुई, बहुत सारे ब्लॉगों पर नर-नारियों इस विषय पर अपने विचार प्रगट किए। हम भी एक कार्यक्रम से आने के बाद सायकिल से ब्लॉग़ नगरिया का चक्कर लगाते रहे। सायकिल से इच्छानुसार देखना और घुमना हो जाता है।रास्ते में ही पता चला कि आज मेरे महबूब शायर का जन्म दिन है।  उनका एक बहुचर्चित शेर याद आ रहा है-- "तुमको खबर नहीं पर एक सादा लौह को, बरबाद कर दिया तेरे दो  दिन के प्यार ने"। अब चलते हैं आज की ब्लॉग4वार्ता पर, आप उस हसीन और जहीन शायर को जरुर याद कीजिए..

महिला दिवस पर सबसे पहले पढिए अहिमन कैना की प्रेम कहानी, उसे मुक्ति नहीं चाहिये अब किसे नहीं चाहिए, यह पूछिए पॉडकास्टर से महिला दिवस पर एक कविता पढिए उधार की अगर नगद की होती तो शायद इतना रंग नहीं लाती। महिला दिवस ऐसा भीभारत की सरकारी क्षेत्र की विमानन कम्पनी एयर इंडिया ने इस वर्ष आज अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस को मनाने का एक अनूठा प्रयास किया है. आज के दिन दिल्ली से टोरंटो जाने वाली उड़ान संख्या एआई-१ को उड़ाया, अगर उसमें हम तो बहुत मजा आता, क्या बताएं हमारे पास तो पासपोर्ट नहीं था, सिर्फ़ वोटर आई डी कार्ड से ही सवार हो गए थे।बच्चियों का घर जेन्नी शबनम के ब्लॉग पर...

'खुदा' हो नहीं सकता ... !!मेरे जज्बातों का समुन्दर बहुत गहरा है सच ! जो भी डूबा है, बस डूबा ही है ! ... आयोजकों की चाटुकारिता का कोई पैमाना नहीं होता सच ! वो तो जिसको चाहेंगे, उसको आजमाएंगे ! ... एसएम्एस आया - आज बहुत अकेली हूँ उफ़ ! ..क्यों होती हैं महिलाएं घरेलु हिंसा की शिकार आज अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस है । आइये देखते हैं क्या है आज महिलाओं का स्टेटस हमारे समाज में । सैक्स रेशो : पुरुषों के मुकाबले महिलाओं की संख्या काफी कम । दिल्ली में अभी भी १००० पुरुषों पर सिर्फ करीब ८५० म... 

तुम इतना जो मुस्कुरा रहे हो..वो हमारे योगा क्लास में आती थी, बाइस-तेइस साल की कोई कॉलेज गोइंग लड़की लगती थी. चुलबुली सी....हमेशा मुस्कुराती हुई. फिर बातों बातों में पता चला वो छब्बीस बसंत देख चुकी है...और सिर्फ शादी-शुदा ही नहीं...दो...औरत !माँ बनके ममता का सागर लुटाती हो,* *बहन हो हक और स्नेह जताती हो, * *पत्नी बन जीवनभर साथ निभाती हो,* *बन बेटी, खुशी से दिल भर जाती हो, * * * *तुम में अनंत रूप, असंख्य रंग हैं ...* *औरत, हर मोड़ पे साथ निभाती ह...

बालिकाओं को दिखाएंगी रास्ताहमारे गांवों की बालिका खिलाड़ी बहुत शर्मीली होती हैं। ऐसे मं हमने सोचा कि अगर हमें छत्तीसगढ़ की बालिका खिलाड़ियों को रास्ता दिखाना है तो हमें आगे आना पड़ेगा। यही सोचकर हम सभी ने क्रीड़ाश्री बनने का फैसला किया ...और देखते ही देखते पूरा गांव कौआ हो गया !आज महिला दिवस है। प्रस्तुत कविता हिंद युग्म में और अपने ब्लॉग में भी एक बार ( वर्ष 2009 ) प्रकाशित कर चुका हूँ। इस ब्लॉग से जुड़े नये पाठकों के लिये जिन्होंने इसे नहीं पढ़ा है...* *चिड़िया* चिड़ि...

तुर्कमेन समाज में महिला दिवस के अनुभव -सुधासिंह8 मार्च 2011 को विश्व महिला दिवस सारी दुनिया में मनाया जाता है। मैं यहां तुर्कमेनिस्तान की राजधानी अस्काबाद में विश्वभाषा संस्थान में हिन्दी विभाग में प्रोफेसर हूँ, नया विभाग खुला है, मेरी यह दूसरी व...अंदाज़ अपना - अपनाक्यु हरदम टूट जाने की बात करती हो | नारी हो इसलिए बेचारगी की बात करती हो | क्या नारी का अपना कोई आस्तिव नहीं ? एसा कह कर खुद को नीचे गिराने की बात करती हो | खुद को खुद ही कमजोर बना , ओरों पर क्यु इल्ज़ाम ...

महिला दिवस कितना सार्थक पूरे विश्व में आज का दिन महिला दिवस के रूप में मनाया जा रहा है आज हमारे देश में भी महिला दिवस , महिला सशत्तिकरण की बातें की जाती हैं उनको सामान अधिकार दिए जाने की चर्चा चहुँ और हो रही है इस दिन पूरे देश ...लड़कियांसभी को महिला दिवस की अनंत शुभकामनाएं । आने वाले समय में सार्थक बदलाव की कामना के साथ प्रस्तुत है ये कविता** * *लड़कियां* लड़कियां, पंजों के बल उंची खड़ी होकर अमरूद तोड़ लेती हैं । और कुछ अमरूद,...

नारी शक्ति को नमन!आज हम दूसरों के पीछे भागने वालों में सबसे आगे हो चुके हैं जिसका परिणाम है कि हम दूसरों के देखा देखी साल भर अनेक प्रकार के दिवस मनाते हैं और उसी क्रम में आज अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस मना रहे हैं। भारत में ...तपोभूमि श्री हेमकुंड साहिब !आज आपको अपनी २००8 की हेमकुंडसाहिब की आलोकिक यात्रा का वर्णन बता रही हु चलिए ---) 8 सितम्बर 2008 आज हम वसई गुरूद्वारे के जत्थे के साथ हेमकुंड साहि...मेरे खयालों के घोड़े.... कई बार ऐसा भी हुआ है बीता नहीं है लम्हा, कतरा-कतरा धकेलना पडा है उसे, कई बार समय इतनी तीव्रता से गुजरा है कि लम्हों की कौन कहे, दिन पर दिन कैसे बीते, पता ही नहीं चला ! इन ठहरे हुए ...

तेरे माथे पे यह आँचल बहुत ही खूब है लेकिन हिजाबे फतना परवर अब उठा लेती तो अच्छा था। खुद अपने हुस्न को परदा बना लेती तो अच्छा था तेरी नीची नजर खुद तेरी अस्मत की मुहाफज है। तू इस नश्तर की तेजी आजमा लेती तो अच्छा था यह तेरा जर्द रुख, यह खुश्क लब, यह ...एक प्रसंग : सुंदरता और लज्जा एक दूसरे के पूरक हैंभगवान प्रजापति ने सुंदरता के साथ साथ लज्जा को उत्पन्न कर उन्हें एक नया जीवन प्रदान किया था और दोनों को आशीर्वाद दिया था की तुम दोनों एक दूसरे की रक्षा करो और प्रसन्नतापूर्वक रहो . सुंदरता और लज्जा दोनों एक..

नारी तेरे रूप अनेक महिला दिवस पर समस्त नारी जाति को हार्दिक शुभकामनायें ............. ये रचना मेरी प्रथम काव्य संग्रह "स्वप्न मरते नहीं " से ली है नारी निभा रही है हर जिम्मेवारी, कैद ना करे इन्हें घर की चहारदीवारी, कंधे ...उतनी दूर मत ब्याहना बाबा!आज सुबह सुबह जब ऑनलाइन हुआ तो देखा श्री ललित शर्मा जी ने अपने ब्लॉग 'ब्लॉग फार वार्ता ' पर आदिवासी कवियत्री निर्मला पुत्तुल जी की एक कविता प्रस्तुतु की है . उसी कविता पर ललित जी से चर्चा करते हुए उन्हों...

क्या आज ही महिला दिवस है ? क्या आज ही महिला दिवस है ? आप कहते हैं तो मान लेते हैं कि आज ८ मार्च है और यह दिन हम महिलाओं के नाम समर्पित है पर लगता तो नहीं कि महिलाओं का भी कोई दिवस होता है| वही हर रोज जैसी सुबह है, दिन भी कमोवेश वैसा...औरत---बेटी या मांपता चल गया होता कि तू बेटी है तो दफ़न कर दी जाती भ्रुण में ही. या पैदा होने के बाद बचपन को खंरोच दिया जाता और साट दी जाती जलते हुए चुल्हे और काली बरतनों से. जवान होते ही बांध दी जाती मर्यादा के ...

हर नए ‘डे’ के दुश्मन शबनम खान  क्योंकि मैं झूठ नहीं बोलती.वेलेंटाइन डे के साथ-साथ कुछ लोगों को अब विमेंस डे से भी दिक्कत होने लगी है। ठीक है होगी दिक्कत…तो तुम मत मनाओं भई...कौन ज़बरदस्ती कर रहा है लेकिन कुछ लोग अगर इस बहाने थोड़े खुश हो लेते हैं, सेलिब्रेट कर...चलते ही जाना – २- तारकर्लीचलते ही जाना – २- तारकर्ली सुबह उठ कर तैयार हुए । बैठ गये अपनी अपनी सीटों पर टेम्पो ट्रैव्हलर में । रत्नागिरि से तारकर्ली का रस्ता कोई चार घंटे का है ।अभी तक हमने जो भी प्रवास किया वह मुंबई गोवा हाय-वे प.....

एस डी एम साहब अपने ही नाम पर चला रहे है ट्रांसपोर्ट कम्पनी 36 गढ प्रदेश में भ्रष्ट्राचार और निरंकुशता किस कदर हावी हो गया है इसका सबूत लेकर हाजिर हुआ हूँ | कांकेर में इन दिनों विकास के नाम पर केंद्र और राज्य सरकार के फंड की लूट मची है | आपको याद होगा महिला दिवस तो साल म्ह एक बार ही आवै सै : ताऊमैं ताऊ टीवी का मुख्य रिपोर्टर रामप्यारे, महिला दिवस पर आपका हार्दिक अभिनंदन करता हुं. आज मैं इस दिवस की महता देखने के लिये सुबह से ही ताऊ और ताई की दिन चर्या पर विशेष ध्यान लगाये हुये था. सुबह होते ही आ...क्या आप मेरी मदद कर सकते हैं?आज महिला दिवस के दिन अपने इलाके के एक स्टोर में था. पास ही से एक महीन आवाज आई उफ़ दम घुट रहा मेरा तो! मेरी गरदन उस तरफ घूमी, एक जीती जागती पुरातन काल की ममी सरीखा कुछ दिखा। उसके साथ आए बालक ने तब तक सलाह दे

यक मुलाकात ‘पद्म श्री’ बेकल उत्साही जी के साथ..कबि बेकल उत्साही जी कै नाव परिचय कै मोहताज नाहीं अहै। कबि बेकल उन गिने चुने सायरन मा हैं जिनकी कबिताई मा माटी कै महक भरपूर है। इनकी सायरी के सामे अवध की हसीन छाँव मा सुनैया/पढ़ैया देर तक मगन मन सुँहुताय स...महिला असल में चाहती क्या है.महिला असल में चाहती क्या है...इस सवाल का जवाब क्या है...महिला दिवस से पहले एक बहुत खूबसूरत मेल मुझे मिला है...जिसे आप सबसे शेयर करना चाहता हूं...बस मैं इतना कर रहा हूं कि सुविधा के लिए पात्रों का भारतीयक...

ब्लॉग4वार्ता को देते हैं विराम, आपको ललित शर्मा  का राम राम--संगीता पुरी जी छुट्टी से लौट आई हैं, अब मिलते हैं आखरी पोस्ट के लिए

10 टिप्पणियाँ:

oh mhilaavad afsos mhilaaon ko itna dbaa diyaa ke unke utthaan ke liyen hm purushon ko mhilaa divs bnaanaa pdh rhaa he shaayd grv ki baat to nhin , akhtar khan akela kota rajsthan

हमेशा की तरह बेहतरीन चर्चा ...

बेहतरीन लिक्स को समेटे उत्तम वार्ता।

अच्छी वार्ता रही..बढ़िया लिंक्स मिले

हमेशा की तरह बेहतरीन चर्चा ...

बेहतरीन लिक्स को समेटे उत्तम वार्ता।

बढ़िया वार्ता!

अच्छी वार्ता रही..बढ़िया लिंक्स मिले

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणी में किसी भी तरह का लिंक न लगाएं।
लिंक लगाने पर आपकी टिप्पणी हटा दी जाएगी।

Twitter Delicious Facebook Digg Stumbleupon Favorites More