शुक्रवार, 7 जनवरी 2011

बूझो तो जाने - ठंड बढ़ी या ग़रीबी - ब्लॉग 4 वार्ता - शिवम् मिश्रा

प्रिय ब्लॉगर मित्रो ,
प्रणाम !

ब्लॉग 4 वार्ता  के इस मंच पर नए साल में आप सब से पहली बार एक वार्ताकार के रूप में मुखातिब हो रहा हूँ ... आशा है आप सब का नया साल खूब बढ़िया तरीके से बीत रहा है ! 

खबरों के माध्यम और आपसी संपर्क से यह तो पता चल ही रहा है कि भारत भर में ठण्ड अपने पूरे शबाब में है पर अब भी कुछ इलाके है जहाँ ठण्ड ने अपना प्रभाव नहीं डाला है ! वैसे हम तो इस समय पूरी तरह से  ठण्ड मय हो रहे है ... मैनपुरी में इस समय तापमान ३ से ५ डिग्री के आस पास ही चल रहा है ! सूरज देवता भी कभी कभी दोपहर के बाद कुछ देर के लिए अपने दर्शन दे जाते है ... नहीं तो आजकल वह भी छुट्टी के मूड में है !

चलिए अब आज की ब्लॉग वार्ता की ओर चला जाए ...

सादर आपका 


~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~



शम्म-ए-फरोज़ा :- कहाँ रोशन है ?




सपूत :- किस का ?


समुद्र मंथन और अमृत वितरण :- अब यह मत कहने यहाँ भी घोटाला हो गया !


"ज़िन्दगी रास्तों सी" :- चली जाती है किसी ना किसी मंजिल की ओर !


ठण्ड भगाएं ..(कार्टून धमाका) :- आईडिया बढ़िया है !


बूझो तो जाने? :- इतनी ठण्ड में हमको तो कुछ बुझाता नहीं है !






लहू हमारा दिसंबर में जून चाहता है - फ़ारुक़ अंजुम :- ठण्ड का मारा क्या गलत चाहता है !?








अगर मेरा नाम शरद विश्वकर्मा होता तो.. :- तब भी कुछ ना कुछ रच ही रहे होते आप !






नए साल का पहला दिन :- कैसा बीता ?












एक अकेला... :- कहाँ है ?


फुरसत में सुरेश ब्लॉगर, रमेश ब्लॉगर...खुशदीप :- फाइव स्टार खाओगे तो यही होगा !


नया साल बकरों व मेमनों का! ...............................घुघूती बासूती :- मतलब ??


अफगान फौज सीखेगी गढ़वाली :- जय हो !!


शकुन अपशकुन :- के चक्कर में पड़े तो ... गए !


राष्ट्रपति के फोटो :- खूब मौज की इन्होने ... है ना ??


आइये अब आपको मिलवाते है अजात शत्रु महाबाहू बसंत साहू ----- ललित शर्मा से :- इनको हमारा सलाम !


आप क्या, कैसा और क्यों लिख रहे है इस पर किसी की नज़र है ... यहाँ देखिये किस की


लीजिये नए साल पर आपके लिए कुछ जरूरी सलाह है यहाँ ... देख लीजिये ... एकदम मुफ्त है मुफ्त ... पर है काम की !!




आप लोग नए साल में खूब समृद्धि करें इसी दुआ के साथ अब आज्ञा चाहता हूँ !
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

आज की ब्लॉग वार्ता बस यहीं तक ..... अगली बार फिर मिलता हूँ एक और ब्लॉग वार्ता के साथ तब तक के लिए ......
जय हिंद !!

18 टिप्पणियाँ:

अच्छे लिंक्स मिले, शुक्रिया शिवम जी।

आज की वार्ता में बहुत अच्छे लिंक मिले!
आभार!
--
अविनाश वाचस्पति ने कहा…
राजीव तनेजा, अजय झा और मेरा जाना फाईनल।
January 06, 2011 8:53 PM
अविनाश वाचस्पति ने कहा…
मदन विरक्‍त और रामकुमार कृषक भी शामिल हो रहे हैं
January 06, 2011 8:54 PM
अविनाश वाचस्पति ने कहा…
पद्म सिंह और पवन चंदन कल सुबह सूचित करेंगे
January 06, 2011 8:54 PM
अविनाश वाचस्पति ने कहा…
खुशदीप सहगल के फोन का इंतजार है
January 06, 2011 8:55 PM
अविनाश वाचस्पति ने कहा…
डॉ. दराल और शाहनवाज अन्‍यत्र व्‍यस्‍त रहने के कारण नहीं पहुंच पायेंगे, परंतु उनकी शुभकामनायें पहुंच चुकी हैं।
January 06, 2011 8:56 PM
अविनाश वाचस्पति ने कहा…
केवल राम जी का अभी धर्मशाला से फोन आया है। वे भी हमारे साथ चल रहे हैं। इनका भी फाईनल।
January 06, 2011 9:03 PM
अविनाश वाचस्पति ने कहा…
सारी टिप्‍पणियों का जिम्‍मा मेरा ही
आप भी करिये कुछ टिप्‍पणियां।
January 06, 2011 9:03 PM
अविनाश वाचस्पति ने कहा…
र‍वीन्‍द्र प्रभात और सुमन जी लखनऊ से खटीमा पहुंच रहे हैं। रवीन्‍द्र भाई से बात हुई है।
January 06, 2011 9:05 PM
अविनाश वाचस्पति ने कहा…
डॉ. बृजगोपाल सिंह नोएडा से पहुंच रहे हैं
January 06, 2011 9:16 PM
डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" ने कहा…
डॉ. राय़्ट्रबन्धु कानपुर से, नागेश पाण्डेय संजय शाहजाहँपुर से, सतीश प्रजापति और मिढ़ई लाल पन्तनगर से, नबी आहमद मंसूरी किच्छा से, भीमती आशा शैली, आनन्दगोपाल सिंह बिष्ट, लालकुआँ नैनीताल से, फीमती मंजू पाण्डेय हल्दवानी से, मनोज आर्य बिलासपुर से, धीरू सिंह, अनुराग शर्मा और शिवशंकर यजुर्वेदी बरेली से,यूनुस खान नयागाँव से पहुँच रहे हैं!
January 06, 2011 9:24 PM

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" ने कहा…
मनोज कुमार कोलकाता से पहुँच रहे हैं!
January 06, 2011 9:28 PM

अविनाश वाचस्पति ने कहा…
अरे वाह
फिर आप क्‍या सोच रहे हैं
बाद में पछतायेंगे
जब ब्‍लॉगर सुख का सूरज
और नन्‍हे सुमन की
लोकार्पित प्रति ले जायेंगे।

9 जनवरी को होने वाले खटीमा उत्तराखण्ड के ब्लॉगर सम्मेलन में उपरोक्त सभी 8 जनवरी की शाम तक खटीमा पहुँच रहे हैं।
--
sidheshwer ने कहा…
अरे वाह यह तो बहुत बढ़िया है।
नए साल में कुछ नया हो , नए मित्र बनें!
शुक्रिया अविनाश जी !
हम भी पहुँच रहे हैं!!
January 06, 2011 9:29 PM
डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" ने कहा…
पीलीभीत से देवदत् प्रसून और डॉ.अशोक शर्मा भी पधार रहे हैं!
January 06, 2011 9:56 PM

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" ने कहा…
उत्तराखण्ड में यह सबसे पहला आयोजन होगा!
January 06, 2011 9:58 PM

अविनाश वाचस्पति ने कहा…
खुशदीप भाई की 20 प्रतिशत कन्‍फर्मेशन मिल चुकी है।
January 06, 2011 11:41 PM
अविनाश वाचस्पति ने कहा…
शिवम् मिश्रा जी के आने की भी भनक लगी है। स्‍वागत है भाई। साल का पहला जमावड़ा, खूब जमेगा, सब सर्दी पिघल जाएगी हिन्‍दी ब्‍लॉगरों को देख मिलकर।
January 06, 2011 11:42 PM
अविनाश वाचस्पति ने कहा…
........ और
बड़े भाई साहब
हिन्‍दी ब्‍लॉगिग के ???
January 06, 2011 11:43 PM
शिवम् मिश्रा ने कहा…
अविनाश भाई और डॉ.शास्त्री जी आप दोनों से माफ़ी चाहता हूँ ... कुछ जरूरी काम आन पड़े है इस कारण मेरा आना ना हो सकेगा ... पर हाँ हाजरी जरूर दर्ज होगी यह वादा है ! शुभकामनाएं और बहुत बहुत बधाइयाँ !

बढिया वार्ता है शिवम भाई।
कल वाकई में यहां भी ठंड का असर ज्यादा था।
आज भोर का तापमान6 डिग्री के आस पास बता रहा है।

आभार

शानदार वार्ता। हमें सम्मान देकर अनुगृहित करने के लिए आभार!

बढिया वार्ता--आभार

मेरे ब्लॉग की पोस्ट लिंक जोड़ने के लिए धन्यवाद

Shivam Bhai,Bahut bahut aabhar mere blog ki post ko sthan dene ke liye.Pravaas men hun.Lautane ke baad vistrit mail karoonga.

शिवम भाई
सारे लिन्क घूम आया निशान भी छोड़ आया उधर
अच्छे अच्छे ब्लाग चुने गुरू
बधाई

अच्छे लिंक्स मिले, शुक्रिया शिवम जी

बहुत खुब जी धन्यवाद

शानदार वार्ता। अच्छे लिंक्स मिले,शुक्रिया !

कई अच्छे लिंक्स मिले कई के फालोवर भी बन गये धन्यवाद |

बहुत बढिया लिंक्स लगाये हैं…………नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें।

आप सब का बहुत बहुत आभार !

आप तो एक लाईना के स्पेशलिस्ट बन गए हैं शिवम भाई , बहुत ही बढिया लिंक्स । बहुत ही अच्छी वार्ता ..

आज की वार्ता में बहुत अच्छे लिंक मिले!
आभार!
नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें.....

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणी में किसी भी तरह का लिंक न लगाएं।
लिंक लगाने पर आपकी टिप्पणी हटा दी जाएगी।

Twitter Delicious Facebook Digg Stumbleupon Favorites More