सोमवार, 20 दिसंबर 2010

एक सलाह - पर्यावरण के प्रति चेतना जागृत करने हेतु आगे आएं - ब्लॉग 4 वार्ता - शिवम् मिश्रा

प्रिय ब्लॉगर मित्रो, 
प्रणाम !

ब्लॉग 4 वार्ता  के इस मंच पर आज पेश है एक छोटी वार्ता ... आज इस से काम चलाइए ... कल फिर हाज़िर होंगे नियमित वार्ता के साथ !

सादर आपका 

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

बूझो तो जाने ??? :- लिजिये आज आप के समने एक बहुत ही आसान पहेली ले कर आये हे, इस साल की सब से आसान ओर सब से कठिन पहेली, बस इस चित्र को ध्यान से देखे, ओर बताईये यह क्या चीज हे, शायद आप ने इसे कभी हलवाई की दुकान पे देखा हो? या ...


ब्लॉगिंग, सामाजिक सरोकार, छत्तीसगढ़ भवन बैठक...खुशदीप :- *तारीख- 19 दिसंबर 2010* ** *जगह- दिल्ली के चाणक्यपुरी में छत्तीसगढ़ भवन* *वक्त- शाम छह बजे से नौ बजे रात* * * छत्तीसगढ़ भवन नाम ही काफ़ी है...देश में सबसे बड़ा ब्लॉगगढ़ अगर कहीं है तो वो छत्तीसगढ़ में ही...


"ग़ज़ल:आशा शैली" (प्रस्तोता:डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक") :- *ऐ हवा इतना न इतरा, तू बड़ी नादान है* *आँधियों में भी जलेंगे, जिन दियों में जान है* * * *गूँजती है कोहसारों में, फ़क़त तेरी सदा* *हमनवा कोई नही, तू किसलिए हैरान है* * * *कल तलक मुँह में नहीं थी, जिस परिन्दे ...


देश की मुख्य धारा - - - - - - - - mangopeople :- एक महान दार्शनिक समाजसेवी विचारक को निमत्रण दिया गया की आइये और देश के उन लोगों को मुख्यधारा में लाइए जो हासिये पर है देश की मुख्यधारा से नहीं जुड़े है उन्हें जोड़ने के लिए कुछ उपाय बताइये | विचारक समय पर ...


रसखान का काव्य :- रसखान एक कृष्ण भक्त मुस्लिम कवि थे। हिन्दी के कृष्ण भक्त तथा रीतिकालीन रीतिमुक्त कवियों में रसखान का अत्यंत महत्वपूर्ण स्थान है। रसखान को रस की खान कहा गया है। इनके काव्य में भक्ति, श्रृगांर रस दोनों प्रधानत...


पिंजरबद्ध जिंदगानी :- पिजड़े में बंद एक तोता हूँ मैं , हार वक़्त भाग्य पर रोता हूँ मैं | पर होते हुए भी अपर रहना मेरी मज़बूरी, मीठू-मीठू की रट लगाना भी जरुरी | ये घर वाले जताते हैं मुझसे कितना प्यार , क्या इतना भयंकर और क्रूर ...



पर्यावरण के प्रति चेतना जागृत करने हेतु आगे आएं :- *पर्यावरण, ईश्वर द्वारा प्रदत्त एक अमूल्य उपहार है जो संपूर्ण मानव समाज का एकमात्र महत्वपूर्ण और अभिन्न अंग है। प्रकृति द्वारा प्रदत्त अमूल्य भौतिक तत्वों - पृथ्वी, जल, आकाश, वायु एवं अग्नि से मिलकर ...


मूर्खतापूर्ण योग्यता का प्रदर्शन करने से अच्छा है की अयोग्य ही बनें रहें .... :- एक *कछुआ* और एक *गिरगिट* में आपस में गहरी दोस्ती थी . ठण्ड के दिन थे .. कछुआ कुएं से बाहर आकर धूप का आनंद लेने लगा उसकी मित्र गिरगिट मैदान में बार बार अपनी रंग बदलने की कला का प्रदर्शन कर रही थी और उसे अपन...


इस आतंकवाद को भी समझना होगा ! :- न सिर्फ़ देशभर मे अपितु पडोसी मुल्कों जैसे पाकिस्तान और बांग्लादेश मे भी विकीलीक्स के इस खुलासे के बाद कि आजादी के बाद से ही इस देश को नरक मे धकेलने वाले एक शाही परिवार को , देश के लिये हिन्दु आतंकवाद से कि...


दिल्ली के अस्पतालःICU में भी नहीं है जगह :- हेल्थ कैपिटल कही जाने वाली दिल्ली में स्वास्थ्य सुविधाओं का बुरा हाल है। आलम तो यह है कि किसी भी बड़े अस्पताल में आईसीयू में कोई जगह नहीं है, यानी यहां एक भी बेड खाली नहीं है। एम्स, राममनोहर लोहिया, ... 



एक सलाह ! :- अपनी मुफ़लिसी को मत , अपनी तक़दीर का लिखा मानो | ए दोस्त ,इसमें कुछ तो अपनी तदबीर का हिस्सा मानो | जब कोई दौलत के नशे में , अपने कद की नुमाइश करता हो | बस उसी वक्त उसे , रेत के ढेर पर खड़ा जानो | 


~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

आज की ब्लॉग वार्ता बस यहीं तक ..... अगली बार फिर मिलता हूँ एक और ब्लॉग वार्ता के साथ तब तक के लिए ......
जय हिंद !!

8 टिप्पणियाँ:

शिवम जी .. अच्‍छे अच्‍छे लिंक्सों से सुसज्जित इतनी सुंदर वार्ता के लिए आपका आभार !!

आज पढ़ने के लिए
बहुत अच्छे लिंक मिले!

शिवम जी

वार्ता में मेरे ब्लॉग को शामिल करने के लिए धन्यवाद | आप के लिंक देने से हम लोगों की कई ब्लोगों तक पहुच बन जा रही है जो सभी मुख्य अग्रीगेटर के बंद होने के कारण नहीं हो पा रहा था |

bahut acha laga aur bahut hi achi ek link bhi mili aur salah bhi bahut acha laga

सुंदर वार्ता,शिवम जी !मेरा लेख शामिल करने के लिए हार्दिक
धन्यवाद !

आप सब का बहुत बहुत आभार !

छोटी मगर सुन्दर वार्ता अच्छे लिंक्स के साथ्।

क्षमाप्रार्थी हूं,काफी विलम्ब से शुक्रिया अदा कर रहा हूँ।

टिप्पणी पोस्ट करें

टिप्पणी में किसी भी तरह का लिंक न लगाएं।
लिंक लगाने पर आपकी टिप्पणी हटा दी जाएगी।

Twitter Delicious Facebook Digg Stumbleupon Favorites More