गुरुवार, 4 नवंबर 2010

तमन्ना- ए- चराग़- ए- दीवाली - हर आँगन बिखरे आलोक - ब्लॉग 4 वार्ता - शिवम् मिश्रा

प्रिय ब्लॉगर मित्रो

प्रणाम !



हालांकि दीपावली खुशियों और उमंगों से भरा त्योहार है, लेकिन इस त्योहार पर कुछ लोग ऐसी नासमझी भरी हरकतें करते है, जिनसे यह दुखद बन सकता है। फिर भी कुछ सुझावों पर अमल कर इस पर्व को उल्लासपूर्वक मनाया जा सकता है
[क्या न करें]
* पटाकों या पटाखों को घर पर न बनाएं। इन्हें सड़क पर या अन्य किसी सार्वजनिक स्थान पर नहीं जलाना चाहिए, क्योंकि इससे राहगीरों को नुकसान पहुंच सकता है।
* कभी भी पटाखों को हाथ में पकड़ कर न जलाएं। उन्हें जमीन पर रखकर जलाएं और तुरन्त उनसे दूर हो जाएं।
* जलाने के बाद अगर पटाखा न जले तो तुरन्त यह देखने की कोशिश न करे कि वह क्यों नहीं जला बल्कि उसके ऊपर पानी डाल दें क्योंकि अधजला पटाखा कभी भी एकदम से आग पकड़ सकता है।
* पटाखों के भंडार को पटाखे जलाने के स्थान के पास न रखें।
* छोटे बच्चों को स्वयं पटाखे जलाने को न दें। उनके साथ किसी वयस्क को अवश्य रहना चाहिए।
* पटाखों को कभी भी जेब में न रखें।
* पटाखों पर झुककर उन्हें नहीं चलाना चाहिए। पटाखों को कभी भी टिन के डिब्बे या कांच की बोतल में रख कर न जलाएं।
* बमों की लंबी लड़ी को न जलाएं क्योंकि यह एक साथ जलने की वजह से हवा में इधर उधर जा सकते है जिससे अपने आप को बचाना मुश्किल होता है।
* अनार को हाथ में पकड़कर न जलाएं।
* दीपावली वाले दिन ढीले वस्त्र न पहनें और खेल-खेल में जलते पटाखे किसी अन्य व्यक्ति पर न फेकें।
[क्या करे]
* दो या तीन व्यक्ति मिलकर पटाखे चलाएं ताकि दुर्घटना की स्थिति में दूसरे की मदद की जा सके।
* मोमबत्ताी या अगरबत्ताी द्वारा ही पटाखों को उचित दूरी रखकर जलाएं। एक लंबी लकड़ी के आगे जलती मोमबत्ताी लगाकर पटाखा जलाना सुरक्षित रहता है।
* पटाखे खुली जगहों पर जलाएं।
* पानी की 2-3 बाल्टियों को पटाखे जलाने के स्थान के पास रखें।
* दीपावली वाले दिन सिंथेटिक वस्त्र न पहनकर केवल सूती वस्त्र ही पहनें क्योंकि सिंथेटिक कपड़े आग जल्दी पकड़ते है।
* रॉकेट को किसी पेड़ के नीचे या किसी अवरोध के पास न जलाकर खुली जगह पर ही जलाना चाहिए।
[इन बातों पर दें ध्यान]
* आतिशबाजी से निकलने वाला विषैला धुआं हमारे स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा सकता है। इससे सांस सबंधी रोग जैसे दमा, एलर्जी, खांसी, ब्रॉन्काइटिस और क्षय रोग आदि की आशंकाएं बढ़ सकती हैं। उपर्युक्त रोगों से ग्रस्त लोगों को आतिशबाजी के धुएं से बचना चाहिए।
* पटाखों से जलने की स्थिति में शरीर पर तुरन्त पानी डालना चाहिए, क्योंकि पानी आग तो बुझाता ही है, इसके अलावा यह जलने वाले अंग का तापमान भी तुरंत कम कर देता है। इससे त्वचा ज्यादा गहराई तक नहीं जलने पाती।
* जलने वाले अंग पर कंबल डालकर आग बुझाने की धारणा गलत है। यह धारणा भी गलत है कि जली त्वचा पर छाले नही पड़ने चाहिए। सच तो यह है कि छाले पड़ना अच्छी बात है क्योंकि छाले पड़ने का संकेत है कि वहां पर त्वचा पूरी गहराई तक नहीं जली है।
* आग बुझाने के बाद जले अंग को ठंडे पानी में डालकर रखें। इससे जलन कम हो जाती है। फिर जले अंग पर एंटीबॉयोटिक मलहम लगाकर किसी कुशल चिकित्सक को दिखाएं।
[नेत्रों से न करें खिलवाड़]
कोमल अंग होने के कारण नेत्रों पर आतिशबाजी की वजह से लगने वाली हल्की चोट भी घातक हो सकती है। इसलिए आंखों को लगने वाली किसी भी चोट को हल्के में न लें। प्राय: पटाखे चलाने के दौरान हमारी असावधानी ही चोट का कारण होती है।
[क्या करें चोट लगने पर]
* चोट लगने पर प्राकृतिक रूप से पलकें स्वत: बंद हो जाती है। इन्हे बंद ही रहने दें।
* पलकों को मलें बिल्कुल नहीं।
* जलन, दर्द और छटपटाहट होने पर घबराएं नहीं। दर्द निवारण के लिए दर्द निवारक टैब्लेट ले सकते हैं।
* आंखों को धोएं नहीं। अपनी या किसी दूसरे की सलाह पर नेत्रों में दवा डालने का प्रयास बिल्कुल न करे। चोट लगी आंख में मलहम का उपयोग वर्जित है।
* निकट के नेत्र रोग विशेषज्ञ से संपर्क करें।
-------------------------------------------------------------------------------------------------
ब्लॉग 4 वार्ता के पूरे वार्ता की ओर से आपको और आपके परिवार में सभी को धनतेरस और दीपावली की बहुत बहुत हार्दिक शुभकामनाएं ! !

सादर आपका
-------------------------------------------------------------------------------------------------

नगर निगम वालों--घर की सफाई कर ली क्या ? --हो सके तो कचरा भी हटवा दो - डेंगू से त्रस्त हैं हम :- पहले दिवाली की मिठाई तो खिलाओ !


"मिसफ़िट की ओर से दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं" :- आपको भी !


“आओ दीवाली मनाएँ प्यार से!” :- सही कहा आपने !


वो आते हैं, चले जाते हैं, हम कुछ नहीं कर पाते हैं :- पर क्यों भला ?


हर आँगन बिखरे आलोक :- बस यही दुआ है !


दीवाली आते ही ए.टी.एम. खाली… क्या आर.बी.आई. को ए.टी.एम. के लिये नियम निर्देशिका नहीं बनानी चाहिये। :- बात तो आपकी भी सही है !


ब्लॉग जगत का मेरे जन्मदिन की पार्टी में स्वागत है - - - - - - - mangopeople :- बहुत बहुत बधाइयाँ और शुभकामनाएं !


ब्लॉगर की अर्जी-कुबेर की मर्जी------------ललित शर्मा :- मानी गई या नहीं ?


विभा.....! :- कौन है ...आइये जाने !


यूलीप पॉलिसी लूँ या कोई और? :- आपकी मर्ज़ी !


उसका दिनकर तो हमेशा के लिए अस्त हो गया :- अरे नहीं ...


ब्लागर्स बिग बास के हाऊस में नकाबपोश सहित सारे ब्लागर्स गायब? :- पर कैसे ?


बदलता मौसम :- कहाँ का ?


गांधी के देश में ओबामा...खुशदीप :- गांधी को खोजने आ रहे है !


जीवन के चढ़ते उतरते ग्राफ :- क्या बताते है ?


बिहारी जी.पी.एस सेवा :- राम बचाए इस से !


तमन्ना- ए- चराग़- ए- दीवाली :- जो क़ुबूल हो तो क्या बात !


दिल का बोझ हटाना होगा .......... :- दिल से दिल मिलाना होगा !


बधाई हो बंधुओं ! बधाई हो ! चलिए खुशियाँ मनाते हैं ! पार्टी करते हैं ! :- बात क्या है जनाब ?


उल्फ़त के दीप दिल में जलाओ तो बात है--------------रानीविशाल :- यही सही बात है !


क्‍या आप दूसरों के ब्‍लॉग 'फ्री' में फॉलो करते हैं ? मैं तो ऐसा बिलकुल नहीं करता। :- तो क्या किया जाए ?


शाख़-ए-आशियाँ छूट गया, एक 'परिंदा' टूट गया ! :- दुखद !!


ब्‍लॉगिंग से कुछ दिन का अवकाश चाहिए :- पर क्यों ... महाराज ??


नई ग़ज़ल / इक दीप-सी जलती रही इरोम शर्मिला.... :- जय हो !


मेरी बिटिया की बाई की बाई :- भाग गई क्या ?


मोहम्मद रफी की आवाज में दुर्लभ किन्तु मधुर छत्तीसगढ़ी गाना :- भाई वाह !


विकास समर्थक (कार्टून धमाका) :- पर किस का विकास ?


दीपावली पर्व एवं छठ पर्व के पावन अवसर पर हार्दिक शुभकामनाये एवं लाखों बधाइयाँ :- हमारी ओर से भी !


खिड़कियों से मुँह चिढ़ाती है हमें, एक अल्हड़ छोकरी है रोशनी। -सजीवन मयंक :- मगर है तो प्यारी ना !


लीजिये गीत स्पर्धा में सहभाग और बनिए विजेता 55,555 रुपये के बम्पर अवार्ड के :- क्या कहने !


दैनिक जागरण ने बनाया ममता बैनर्जी को हॉकी खिलाडी :- गई भैस पानी में !


एक मासूम सी जिज्ञासा :- पर है पेचीदा !


ऐ जिंदगी तु रुकती नहीं :- रुक गई तो गजब हो जायेगा, महाराज !


सावधान : गूगल ने डाटा और पासवर्ड्स चुराया :- अरे नहीं !


एक ठो लघु कुत्ता कथा...... :- भों... भों... भों ...


जीजी की आखिरी चिट्ठी... :- बेहद मार्मिक !


नन्हा दीपक....! :- पूरे जग को रोशन करता है !


दीवाली और आज के रावण के दस रूप --- :- हम्म !


वाट ऍन आईडिया सर जी :- हम भी यही कहते है !


अबकी दिवाली ना जाए खाली :- आपकी लिस्ट से तो ऐसा नहीं लगता कि खाली जाएगी !


एको खबर को छोडे नहीं है ...सबका मूडी पकड के रगड दिए हैं ...झाजी वक्रदृष्टि टाइम्स ... :- सही किये एकदम !


कुछ मोहब्बत के दीये ...वक़्त के निशान ...और पैगाम ....... :- या कहे ... कुछ यादें !


प्रारम्भ में लौटने की इच्छा से भरी हूं! :- कोई लौटा दे मेरे बीते हुये दिन...


बाज़ार से गुजरा हूँ खरीदार नहीं हूँ...
:- तो बाज़ार गए काहे ?


अंकल ! एक दर्जन अंडे दे दीजिये ~~ :- खाने वाले या किसी पर फैंकने वाले ?


शुभकामनाये आप सभी को ----- दुआ हमारे लिए भी करियेगा :- जी जरूर !


कब उड़ जायेंगे हवा के झोकों में ,इस से बेपरवाह रहते हैं :- अच्छा जी !!


केछू अब बला औल समझदार हो गया है :- अल्ले बा भई बा !


नया चापरासी :- बहुत खूब !


कुछ प्रारंभिक ब्लोगरों की विवादास्पद टिप्पणियाँ :- जाने भी दो यारो !


लो जी हो गए ५० लिंक्स पूरे ......अब आगे क्या .... तो जनाब आगे यह कि दिवाली के मौके पर शुभ संख्या ५१ वी लिंक यह रही ....

आपको दीवाली की हार्दिक शुभकामनाएं …।मेरे भी गिफ्ट स्वीकार कीजिये | [Happy Diwali] :- हैप्पी दिवाली !


-------------------------------------------------------------------------------------------------

आज की ब्लॉग वार्ता बस यहीं तक .....अगली बार फिर मिलता हूँ एक और ब्लॉग वार्ता के साथ तब तक के लिए ......
जय हिंद !!

46 टिप्पणियाँ:

बहुत सुंदर वार्ता .....सभी लिनक्स अच्छे लगे....मेरी पोस्ट 'हर आँगन बिखरे आलोक' को शामिल करने के लिए.. आभार.... आपको भी दिवाली की हार्दिक शुभकामनायें

अर्द्धशतकीय पार शगुन 51
पार पीर नहीं बननी चाहिए
एक ठो पोस्‍ट 101 शगुन
गुण अवगुण बहुतेरे सबेरे।
इस समाज में सब नंगे हैं

बहुत सुन्दर वार्ता, शिवम भाई ....कई सारे लिंक्स समेटे है आपने इस वार्ता में . मेरी पोस्ट ने आपकी चर्चा में स्थान पाया बहुत बहुत शुक्रिया .
आपको भी सपरिवार प्रकाश पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ !!

सुंदर वार्ता लगाई,
शिवम भाई-आपको दीपावली की ढेर सारी बधाई।

अच्छी चिट्ठा चर्चा । जायेंगे इन लिंक्स पर आपकी एक लाइना कमेंट अच्ची लगी ।

प्रेम से करना "गजानन-लक्ष्मी" आराधना।
आज होनी चाहिए "माँ शारदे" की साधना।।
--
आप खुशियों से धरा को जगमगाएँ!
दीप-उत्सव पर बहुत शुभ-कामनाएँ!!

उत्तम संदेश...बेहतरीन लिंक्स!!


सुख औ’ समृद्धि आपके अंगना झिलमिलाएँ,
दीपक अमन के चारों दिशाओं में जगमगाएँ
खुशियाँ आपके द्वार पर आकर खुशी मनाएँ..
दीपावली पर्व की आपको ढेरों मंगलकामनाएँ!

-समीर लाल 'समीर'

बहुत सुंदर वार्ता ..........दीपावली कि शुभकामनाये

थैंक यू शिवम् अंकल..... मेरी पोस्ट ' नन्हा दीपक ' को शामिल करने के लिए.... आपको भी दिवाली की शुभकामनायें

दीपावली की शुभकामनायें शिवम् भाई !

.

शिवम् जी ,

बहुत सुन्दर वार्ता। सादगी से दिए बेहतरीन लिंक्स के लिए आभार ॥ समय निकाल कर कुछ पढ़े , कुछ पर जाना शेष है।

आप मिठाई खाने के लिए सादर आमंत्रित हैं।

.

दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं

शिवम जी आपको दीवाली की ढेरों शुभकामनायें ... मेरी पोस्ट का लिंक देने के लिए धन्यवाद...

बहुत सुंदर वार्ता शिवम जी..........दीपावली की ढेरों शुभकामनाये

प्रिय श्री शिवम भाई श्री ललित जी,
ज्योतिपर्व दीपावली की हार्दिक शुभ कामनाएँ|
सुकुमार गीतकार राकेश खण्डेलवाल
गिरीश बिल्लोरे

बहुत अच्छी वार्ता ....बहुत सारे लिंक्स मिले ...आभार

दीपावली की शुभकामनायें

आदरणीया संगीता पुरी जी को हार्दिक शुभ कामनाएं
ज्योतिपर्व दीपावली की हार्दिक शुभ कामनाएँ|
सुकुमार गीतकार राकेश खण्डेलवाल
गिरीश बिल्लोरे

दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं!

दीपावली के अवसर पर उपयोगी जानकारी दी.

प्रकाश पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ !!

शिवम भाई, आप जिस लगन और निष्‍ठा से ब्‍लॉग चर्चा करते हैं, उसकी दूसरी मिसाल नहीं मिलती।

दीप पर्व की अगणित शुभकामनाऍं।

शिवम् जी....... इस नाचीज़ को याद रखा. यानि अपनी वार्ता में शामिल किया.....

दीपोत्सव की इस पवन बेला पर हार्दिक शुभकामनाएं
दीपक बाबा

बहुत सुन्दर वार्ता……………आभार्।
दीप पर्व की हार्दिक शुभकामनायें।

shivam ji,
badhiya links mile
dhanyavaad
vaarta men shamil karne ke liye bhi aur links dene ke liye bhee

वाह...शिवम्‌ भाई...वाह!
आपकी सद्‌भावनाओं की जीवंत झलक दे रहा है, आपका यह ब्लॉग। आज के दौर में जहाँ अधिकांश लोग ‘स्व’ तक सिमटकर रह गये हों, वहाँ ‘पर’ के लिए भी कुछ सोचने और करने वाला कोई दिखता है, तो दिल से दुआएँ और शुभकामनाएँ ही निकलती हैं ऐसे सदाशयी शख़्स के लिए...!

दीपावली की आपको और आपके परिवार को हार्दिक शुभकामनाएं

दिवाली पर सुन्दर सन्देश देती बेहतरीन वार्ता.

दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें !

दिवाली पर ध्यान रखने योग्य सुझाव दिए आपने शिवम् जी ...
बहुत बहुत शुक्रिया ......

सभी चुनिन्दा रचनाये बहुत अच्छी लगी ....
आपकी पसंद काबिले तारीफ है ....!!

बहुत सुन्दर वार्ता……………आभार्।
दीप पर्व की हार्दिक शुभकामनायें।

थैंक्स भईया! आपको अब सीधे फोन पे ही दिवाली की बधाई देंगे :)

पूरे blog4warta परिवार को मेरी ओर से बहुत बहुत शुभकामनायें इस पावन पर्व की !

धन्यवाद !

राम त्यागी

आप सब का बहुत बहुत आभार !

आपको और आपके परिवार में सभी को दीपावली की बहुत बहुत हार्दिक शुभकामनाएं ! !

आपको;आपके मित्रों व समस्त परिवारीजनों को दीवाली की शुभ कामनाएं.

श्रीमान महोदय / महोदया जी,
आप व आपके परिवार को दीपावली, गोबर्धन पूजा और भैया दूज की हार्दिक शुभकामनायें. शुभाकांक्षी-रमेश कुमार सिरफिरा. विनम्र अनुरोध के साथ ही इच्छा हैं कि-अगर आपको समय मिले तो कृपया करके मेरे (http://sirfiraa.blogspot.com, http://rksirfiraa.blogspot.com, http://mubarakbad.blogspot.com, http://aapkomubarakho.blogspot.com, http://aap-ki-shayari.blogspot.com, जल्द ही शुरू होगा http://sachchadost.blogspot.com) ब्लोगों का भी अवलोकन करें. हमारी या हमारे ब्लोगों की आलोचनात्मक टिप्पणी करके हमारा मार्गदर्शन करें. हम आपकी आलोचनात्मक टिप्पणी का दिल की गहराईयों से स्वागत करने के साथ ही प्रकाशित करने का आपसे वादा करते हैं.

शानदार वार्ता..

आपको एवं आपके परिवार को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं..

हैपी ब्लॉगिंग

अच्छे ब्लॉग के बारे मैं जानकारी देने के लिए धन्यवाद |
आपको ओर आपके पाठको को दीवाली के पावन पर्व की हार्दिक शुभकामनाये |

वाह शिवम जी .. बहुत सुंदर और विस्‍तृत वार्ता लगायी है आपने .. और इतनी अच्‍छी अच्‍छी प्रतिक्रिया .. मेहनत सफल हो गयी आपकी !!

दीवाली की हार्दिक शुभकामनायें ।

शिवम भाई , आपकी चर्चा के शुरू में दिए जा रहे संदेश इस चर्चा की सार्थकता को और भी प्रमाणित करता है ..बहुत बहुत शुभकामनाएं

'असतो मा सद्गमय, तमसो मा ज्योतिर्गमय, मृत्योर्मा अमृतं गमय ' यानी कि असत्य की ओर नहीं सत्‍य की ओर, अंधकार नहीं प्रकाश की ओर, मृत्यु नहीं अमृतत्व की ओर बढ़ो ।

दीप-पर्व की आपको ढेर सारी बधाइयाँ एवं शुभकामनाएं ! आपका अशोक बजाज रायपुर

इसी तरह आप से बात करूंगा
मुलाक़ात आप से जरूर करूंगा

आप
मेरे परिवार के सदस्य
लगते हैं
अब लगता नहीं कभी
मिले नहीं है
आपने भरपूर स्नेह और
सम्मान दिया
हृदय को मेरे झकझोर दिया
दीपावली को यादगार बना दिया
लेखन वर्ष की पहली दीवाली को
बिना दीयों के रोशन कर दिया
बिना पटाखों के दिल में
धमाका कर दिया
ऐसी दीपावली सब की हो
घर परिवार में अमन हो
निरंतर दुआ यही करूंगा
अब वर्ष दर वर्ष जरिये कलम
मुलाक़ात करूंगा
इसी तरह आप से
बात करूंगा
मुलाक़ात आप से
जरूर करूंगा
01-11-2010

शिवम जी आपको दीवाली की ढेरों शुभकामनायें ...
मेरी पोस्ट का लिंक देने के लिए धन्यवाद...

अच्‍छी पोस्‍ट, अच्‍छे संदेश, अच्‍छे लिंक्‍स हैं आपके और हमारी कामना कि अच्‍छे से मनाएं दीपावली आप सभी टीम के सदस्‍य। शुभ- शुभ हो सबकी दीपावली।

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणी में किसी भी तरह का लिंक न लगाएं।
लिंक लगाने पर आपकी टिप्पणी हटा दी जाएगी।

Twitter Delicious Facebook Digg Stumbleupon Favorites More