बुधवार, 26 अक्तूबर 2011

पत्र पटाखों के नाम,ज्ञान का दीप जलाये, दीपावली की शुभकामनाएं -- ब्लॉग4वार्ता --- ललित शर्मा

ललित शर्मा का नमस्कार, दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं। दीवाली ही ऐसा त्यौहार है जिसका इंतजार बेसब्री से किया जाता है। घर की साफ़ सफ़ाई से लेकर मिष्ठान पकवानों तक खूब मेहनत करनी पड़ती  है तब कहीं जाकर लक्ष्मी जी का आशीर्वाद मिलता है। अन्यथा उल्लू बनने में देर नहीं लगती। लक्ष्मी कृपा किसी और का छ्प्पर फ़ाड़ कर बरस जाती  है। इसलिए प्रत्येक परिवार लक्ष्मी माँ की आगवानी में पलक पांवड़े बिछा देता है। हम भी तैयार हैं लक्ष्मी माता का स्वागत करने के लिए, दीप पर्व की पुन: बधाई, चलते हैं आज की वार्ता पर... चर्चा करते हैं दीवाली के कुछ चिट्ठों की................।

रॉकेट के साथ विकास का सफर *तमसो मां ज्योर्तिगमय...*अंधेरे को दूर करने के लिए घर के कोने-कोने को रोशनी की जगमगाहट से सजा देने का पर्व है दीपावली। और दीपावली का असली मजा है आतिशबाजी में, धूम-धड़ाके और सितारों सी जगमगाती ढेर सारी आति...दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं   हर दीप बने जब दीवाली हर आँगन में हो दीवाली दीप दीप से जगमग जगमग जगमगाए गाँव-गाँव, शहर-शहर हिन्दोस्तां में दीवाली ! तेरे मन में, मेरे मन में खुशियों की हो दीवाली सूना न हो अब कोई दिल और न हो अब खामोशी 'उदय' ...दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें -- बस एक निवेदन सभी लोगों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें। इस अवसर पर अपनी आदत के अनुसार एक अपील करनी है, इस बात की जानकरी के कि कोई भी इस पर अमल नहीं करेगा, बस कर रहे हैं कि इस दीपावली पर आप कुछ ऐसा करें जो आपके साथ...

खुशियों के दीप जलाते चलो...खुशदीप*खुशियों के दीप जलाते चलो, * *ब्ल़ॉगिंग की गंगा बहाते चलो...* किसी दीये की लौ दूसरे दीयों को रौशन करने के बाद कम नहीं होती....इस लिए कभी दूसरों के काम आना, सुख-दुख बांटना और ज़रूरतमंदों की मदद करना बंद मत...रामायण (२०११)..कहानी में ट्विस्ट..."पुर्शोत्तम राम" चौंदह साल के वनवास केबाद घर लौट रहे थे... पूरा शहर बहुत खुश था, आज उनके चहेते राम, लक्ष्मण और सीता के साथ वापस आ रहे थे।सारा शहर झग-मग सजा हुआ था। आज का दिन "डीपावली" के नाम से मनाया जानेवा...डर बिकता है !! [2] सन 2008 में राम गोपाल वर्मा '' फूंक '' लेकर आये थे . काले जादू पर आधारित फिल्म का खास चरित्र एक कोवा था . जब भी कोवा स्क्रीन पर नजर आता था दर्शक के बदन में ठंडी लहर दौड़ जाती थी . इस फिल्म ने कमाल का डर प...चने के खेत में-अंजाम १९९४गोरी बाजरे के खेत में दिखे या चने के खेत में, गोरी ही रहेगी और हमेशा सुन्दर और प्यार करने लायक दिखाई देगी। हिंदी फिल्मों की फिलासफ़ी के अनुसार ऐसा कई गीतों में और दृश्यों में अनुभव किया होगा दर्शक ने। युग परि...

दीपावली चंद्रमौलेश्वर प्रसाद *सामाजिक मंगलेच्छा के दीपावली पर्व पर हज़ारी प्रसाद द्विवेदी का संदेश* चारों ओर जब अभव का करुण हाहाकार सुनाई दे रहा है, दीपावली अपना मंगल-संदेश लेकर आई है। कई हज़ार वर्ष पहले मनुष्य ने सामूहिक रूप से समृ...पति पत्नी की खुन्नस, संता बंता और जुम्मन के चुटकुलेरात भर पति पत्नी लड़ते लड़ते सो गये। दूसरे दिन सुबह हुई तो पति उठा और लेटी हुई पत्नी के लिए गरमा-गरम दूध लेकर हाजिर हुआ। पत्नी - तो इस तरह तुम रात की लड़ाई के लिए माफी माग रहे हो। पति - किसने कहा माफी मांग...दीपावली की हार्दिक मंगलकामनाएं शिवम् मिश्रा *आप सब को हम सब की ओर से दीपावली की बहुत * *बहुत हार्दिक मंगलकामनाएं !*कैसे दीप जलाऊं मैं* * चहुँ ओर तिमिर का घन कैसे दीप जलाऊं मैं कुछ छंट जाये होवें कम थोड़े जुगनू ले आऊं मैं ममता की आँखें पथराई कैसे दीप जलाऊं मैं बेटा दंगों की भेंट चढ़ा सद्भाव कहाँ से लाऊं मैं निरक्षरता है पा...

"अनदेखे अपनों" को सपरिवार दीपोत्सव की हार्दिक शुभकामनाएं इस विधा यानि ब्लागिंग के माध्यम से जितना स्नेह, अपनापन तथा हौसला आप सब की तरफ से मुझे मिला है उससे अभिभूत हूँ। कितनी अजीब सी बात है कि एक-दो दिनों में जब तक सबके नाम दिख न जाएं तो खाली-खाली सा महसूस होता ह...इसे परिवार से छुपकर नहीं पढना पडता था घर की साफ-सफाई करते हुये कुछ पुरानी पत्रिकायें भी निकल आई। कम्पयूटर संचार सूचना, सरिता, मनोहर कहानियां, नंदन, सरस सलिल आदि। मनोहर कहानियां देखकर मैं खुश हो गया। बहुत छोटा था तो चंपक और लोटपोट पढता था, फिर...दीवाली ... और सूना आँगन !!मेरा आँगन सूना है और हर आँगन में खुशियाँ हैं 'सांई' जाने कब तक मुझको खुद ही दीपक बन के जलना है !! सूना आँगन लेकर मुझको कब तक आगे बढ़ना है अंधियारों से कब तक मुझको दीपक बन के लड़ना है !! वो दिन कब आयेगा 'सा...आपका भगवान् किस जात का है मेरे एक दोस्त हुआ करते थे .....यादव जी थे ......एक दिन खबर आई कि मर गए ......बढ़िया आदमी थे .......भरी जवानी में मर गए ...heart attack से मरे थे .......दुःख... 

घरौंदा  हिस्सा सा बन कर रह गया हूं, शहर में इस भीड़ का। हमेशा डर सा बना रहता है, खो जाने की अपनी पहचान का। मलाल सा बना रहता है, हमेशा दिल में, तेरे सामने, व्यक्त नहीं कर पाने का अपनी बात। मैने कब कहा था? ..प्रेस क्लब रायपुर चुनाव: जीतने वालों को बधाई प्रेस क्लब रायपुर के चुनाव इस बात ऐतिहासिक हुए। पहली बार बहुत अच्छे तरीके से चुनाव का संचालन हाई पॉवर कमेटी के सदस्यों दैनिक तरूण छत्तीसगढ़ के संपादक कौशल किशोर मिश्रा, हरिभूमि के प्रबंध संपादक डॉ. हिमांशु ...दीवाली ... क्या बेच के, क्या खरीद लें ??? पूरे गाँव में दीवाली का शोर था हर इंसान कुछ न कुछ खरीद रहा था किसी ने नए नए कपडे खरीदे किसी ने सोने-चांदी के जेवर खरीदे किसी ने ज़मीन खरीदी किसी ने मकान खरीदा किसी ने साइकल, तो किसी ने कार खरीदी बहुतों ने बह...लालू का बिहार बनता उत्तरप्रदेशएक बार ट्रेन में एक नेताजी मिल गए थे .....बिहार से थे ......नेता मूलतः बड़ा मजेदार प्राणी होता है .........उससे गप्पें मारने में बड़ा अच्छा टाइम पास होता है ,...

दीपावली : अपने मन मंदिर में ज्ञान का दीप जलाये ,,,,अपने मन मंदिर में ज्ञान का दीपक जलायें जो ईश्वर की सच्ची आराधना है . करोड़ों अरबों का दान करने की अपेक्षा अपनी मानसिक तुच्छता दीनता हीनता दासता को दूर कर निर्भयता सत्यता पवित्रता और प्रसन्नता की आत्मिक प्रव...कन्यादान सेठ खजानसिंह अब गांव के धन्ना सेठ बन गये थे, पूरे गांव में तूती बोलती थी। चालीस सालों में अपने दम पर पैसे इकट्ठे किये तो नाम, पद, प्रतिष्ठा सब कुछ देखते-देखते बदल गयी, वरना एक समय तो बाप के जमाने में बहनों...नरक चौदस - नरकासुर के नाश का दिन दीपावली के पाँच दिनों के पर्व का दूसरा दिन, अर्थात् लक्ष्मीपूजा के एक दिन पहले वाला दिन, नरक चौदस कहलाता है। नरक चौदस के दिन प्रातःकाल में सूर्योदय से पूर्व उबटन लगाकर नीम, चिचड़ी जैसे कड़ुवे पत्ते डाले गए ज...

आज का संदेश- *मौत से पहले, **जितना हो सके, **मेरी (परमात्मा) याद मे मेरे बच्चे बन कर, **पुरुषार्थ करें.* *भूल से भी पाप न करना, **माया के कितने ही तूफ़ान आये, **पतित मत बनना.* - *बुद्धि का ताला खोलें. माय...एक पत्र पटाखों के नाम*प्यारे पटाखों * *सादर फटस्ते!* *आजकल तुम सब बहुत खुश होगे कि दीवाली को कुछ ही दिन शेष बचे हैं। तुम्हारा मन दीवाली के दिन मिल-जुल कर फट-फूट कर धमाका करने को बेताब हो रहा होगा। हालांकि अभी कुछ ही दिन बीते ह...


.दीवाली पर कार्टून धमाका..



12 टिप्पणियाँ:

दीपावली की हार्दिक शुभ कामनाएं | अच्छी वार्ता |
आशा

बहुत बढिया ..
.. दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं !!

दीपावली की हार्दिक बधाई|

दिवाली पर्व है खुशिओं का, उजालों का, लक्ष्मी का, इस दिवाली आपकी जिंदगी खुशिओं से भरी हो, दुनियां उजालों से रोशन हो, घर पर माँ लक्ष्मी का आगमन हो!
शुभ दीपावली!

अच्छी चर्चा
दीपावली की ढेर सारी शुभकामनाएं

आप सभी को परिजनों तथा मित्रों सहित दीपावली पर मंगलकामनायें! ईश्वर की कृपा आप पर बनी रहे।
********************

साल की सबसे अंधेरी रात में*
दीप इक जलता हुआ बस हाथ में
लेकर चलें करने धरा ज्योतिर्मयी

बन्द कर खाते बुरी बातों के हम
भूल कर के घाव उन घातों के हम
समझें सभी तकरार को बीती हुई

कड़वाहटों को छोड़ कर पीछे कहीं
अपना-पराया भूल कर झगडे सभी
प्रेम की गढ लें इमारत इक नई
********************

दीपावली की हार्दिक शुभ कामनाएं ...

दीपावली की बहुत बहुत बधाई……मिठाई में ऑफर बहुत बढ़िया है……।

दीपावली के पावन पर्व के अवसर पर आपको तथा आपके परिजनों व मित्रों को हार्दिक मंगलकामनायें...
वार्ता के साथ-साथ कार्टून का धमाका शानदार है...

सुन्दर प्रस्तुति…………दीप मोहब्बत का जलाओ तो कोई बात बने
नफ़रतों को दिल से मिटाओ तो कोई बात बने
हर चेहरे पर तबस्सुम खिलाओ तो कोई बात बने
हर पेट मे अनाज पहुँचाओ तो कोई बात बने
भ्रष्टाचार आतंक से आज़ाद कराओ तो कोई बात बने
प्रेम सौहार्द भरा हिन्दुस्तान फिर से बनाओ तो कोई बात बने
इस दीवाली प्रीत के दीप जलाओ तो कोई बात बने

आपको और आपके परिवार को दीपोत्सव की हार्दिक शुभकामनायें।

सुन्दर प्रस्तुति...दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणी में किसी भी तरह का लिंक न लगाएं।
लिंक लगाने पर आपकी टिप्पणी हटा दी जाएगी।

Twitter Delicious Facebook Digg Stumbleupon Favorites More