शनिवार, 6 अगस्त 2011

मुझे मेरा प्यार लौटा दो मिस्टर टेटकू राम --- ब्लॉग4वार्ता ------ ललित शर्मा

नमस्कार, शेयर बाजार धराशाई हो गया, सेंसेक्स 17000 से नीचे गया, निवेशकों के करोड़ों मंदी की सुनामी की भेंट चढ गए। कई निवेशक सड़क पर आ गए। कहते हैं वैश्विक मंदी का असर है,कैसा रहेगा आनेवाले दिनों में भारतीय शेयर बाजार ?? जानने के लिए यहाँ पर  जांए। एक ओर अंतर्राष्‍ट्रीय माहौल के कारण 5 अगस्‍त को जब एक तरफ भारतीय शेयर बाजारों में बिकवाली का दबाब बन रहा था , वहीं दूसरी ओर सरकार भी संसद में बैकफुट पर थी। सरकार का संसद में साफ कह देना कि वो आने वाले दो सालों के लिए विकास दर का ऐलान नहीं कर सकती , ने बाजार को और कमजोर करने में मदद की। भारतीय अर्थव्यवस्था मॉनसून पर भी निर्भर करती रही है।

मिस्टर टेटकू राम का पात्र फ़त्ते (पुष्पेन्द्र सिंह)
मिस्टर टेटकू राम! स्वस्थ पारिवारिक मनोरंजन फ़िल्म में छत्तीसगढ में किसानों की जमीन बिल्डरों द्वारा खरीदे जाने पर भी गहरा कटाक्ष किया है। गुघ्गी एक जमीन दलाल है और वह फ़त्ते के मकान की जमीन पर नजर गड़ाए रहता है। उसका एकमात्र ध्येय किसी तरह फ़त्ते की जमीन खरीदना रहता है, वह उसे रुपए का लालच देता है, लेकिन फ़त्ते मकान बेचना स्वीकार नहीं करता और उसे घर से भगा देता है। इसी बीच टेटकू राम की मोबाईल बातचीत रेड़ियो जॉकी से होती है। जब वह उससे नाम पूछती है तो उसे अपना नाम टेटकू राम बताने में शर्म आती है। वह नाम नहीं बताता, टॉमी की सलाह से टेटकू राम से शार्ट नेम लगा कर टी.आर.साहू हो जाता है। फ़िल्म बंबईया मसाला फ़िल्मों जैसे क्लाईमैक्स की ओर बढ जाती है। अंत में ढिसुम-ढिसुम के पश्चात फ़त्ते अपनी लड़की टुनकी का हाथ टेटकू राम के हाथ में दे देता है। फ़िल्म अपनी गति की ओर बढ जाती है।

इतिहास प्रसिद्ध ताकतवर दासी : रामप्यारी राजस्थान में दास और दासी प्रथा सदियों तक चलती रही| इस कुप्रथा के परिणाम भी बड़े गंभीर और जहरीले निकले| इन दास दासियों ने भी राजस्थान के रजवाडों की राजनीती में कई महत्त्वपूर्ण कार्य किये|जोधपुर के शासक माल...लौहपथगामिनी रेल से यात्रा एक सुखद अहसास है। हम अपने जीवन में इतनी तेजी से भागते जाते हैं कि छोटे-छोटे अहसास लगभग चूक ही जाते हैं और जिन्दगी एक सुहाने सफर की कथा बनने से विपरीत समय काटने और बोझ से लदे आदमी की आकृति गढ़...

प्यारी मम्मी की बीमारी हमें पता हैभाई सोहन शर्मा उर्फ़ कांग्रेसी नुक्कड़ मे जिम टाईप शरीर हिला रहे थे। हम पूछ बैठे क्यों भाई अन्ना के आंदोलन को कुचलने की तैयारी है क्या। *शर्मा जी ने पूछा - कौन अन्ना भाई, हमने कहा सोलह अगस्त आने दो कलमाड़ी ...आवश्यक सूचनापरिकल्पना ब्लॉगोत्सव से जुड़े लेखकों/पाठको/शुभचिंतकों हेतु * * * ** * * * * * * *आप सभी को अवगत कराना है , कि ब्लॉगोत्सव (द्वितीय) अब अपने अंतिम दौर में है ....केवल चार दिन का कार्यक्रम ही शेष है ......इस...


मुझे मेरा प्यार लौटा दोमेरी कुछ यादे तुम्हारे पास पड़ी हैं ***** मेरा प्यार !वो चाहत ! तुम्हारे पास पड़ी हैं ***** *मुझे वो यादें लौटा दो ****** *मुझे मेरा प्यार लौटा दो ****** * * * * * * किताबो में रखा वो मुरझाया फूल ***पंजाब के वो काले दिन अम्बाला में रहते थे हम उन दिनों ..........एक ही अखबार था जो पंजाब के आतंकवादियों का खुल कर विरोध करता था .........पंजाब केसरी ....लाला जगत नारायण का अखबार था और वो हिन्दुओं के बड़े नेता माने जाते थे ....उ...

धार्मिक ठेकेदारो की दादागिरीआजकल समाज में धर्म के कुछ ऐसे ठेकेदार घूम रहें हैं जिनका धर्म से कुछ भी लेना-देना नहीं है। यह लोग समाज पर अपनी दादागिरी दिखाने के लिए ना केवल धर्म का सहारा लेते हैं, बल्कि अपने अनैतिक कार्यों से धर्म को भ...तो आत्मा पे अब कैसा ये बोझ मै हूँ भी या नहीं* *इसी असमंजस में* *टूट जाता है* *भौर वेला में चलता * *कोई सुखद सा सपना* *रोज!* *परिवार सहारे मेरे..* *हुह,* *और मै भला किसके..?* *जो भी हो * *जिम्मेवारी तो मेरी ही है,,,* *और फिर* *सब कु...

उन्मुक्त हंसीसुबह सुबह टहलने जाते समय , अक्सर पार्क में ठहाका लगते अधेड़ उम्र के लोग मिलते हैं , उनके साथ खड़े होकर, हास्यास्पद और बनावटी हंसी, हँसते देखने पर, यकीन मानिए आपकी हंसी छूट जायेगी कि क्या हँसी है यह ?...जहाँ नहीं चैना, वहाँ नहीं रहनाकिशोर कुमार का एक गाना है, दुखी मन मेरे, सुन मेरा कहना, जहाँ नहीं चैना, वहाँ नहीं रहना। अपने प्रशंसकों के बीच उनका व्यापी स्वरूप तो एक खिलन्दड़े और मसखरे व्यक्ति का ही रहा है। एक ऐसा विचित्र व्यक्ति जो ...

शहादत की प्रतीक्षा में ठिठका हुआ देशआसार अच्छे नहीं हैं। अण्णा विफल होते नजर आ रहे हैं। उनकी शब्दावली और शैली, उनकी विफलता की पूर्व घोषणा करती लग रही है। * *अण्णा के नाम के साथ गाँधी का नाम सहज ही जुड़ जाता है। किन्तु आज ‘गाँधी तत्व’ अण्णा ...संतान सुख (fertility) से अब कोई नहीं रहेगा वंचितसंतान के सुख से वंचित लोगों के लिए जापान में हुए प्रयोग से उम्मीद की नई किरण जगी है...जापानी साइंसदानों ने शुक्राणु बनाने में असमर्थ एक चूहे में लैब में पैदा की गई स्पर्म कोशिकाओं के ज़रिए प्रजनन की ताक...

साहित्य और संग्रहणसंग्रहण मनुष्य का प्राचीनतम व्यसन है। जब कभी भी कोई अतिरिक्त वस्त्र, भोजन, शस्त्र इत्यादि अस्तित्व में आया होगा, उसका संग्रहण किस प्रकार किया जाये, यह प्रश्न अवश्य उठा होगा। हर वस्तु के संग्रह करने की अलग...आज विनय शर्मा, सुनीता शानू का जनमदिन हैआज, 6 अगस्त को - मेरे ब्लोग तथा स्नेह परिवार वाले विनय शर्मा - मन पखेरू फ़िर उड़ चला वालीं सुनीता शानू का जनमदिन है। बधाई व शुभकामनाएँ

ग़लती पर ग़लती एक बार फिर से नोयडा मामले को उत्तर प्रदेश सरकार अजीब तरह से डील करने में लग गयी है जिस तरह से उसने दनकौर थाने में बंद किसान नेता मनवीर तेवतिया पर गैंगस्टर एक्ट लगाया है उससे कहीं से भी यह मसला सुलझने...जा कर दिया आजाद तुझे जा कर दिया आजाद तुझे मैंने दिल की गहराईओं से ना माने तो पूछ लेना अपनी ही तन्हाईओं से ... बादे सबा नहीं लाएगी अब को पैगाम बार ना करना कोई सवाल आती जाती पुरवाईयों से ... पीछे छोड़ आये कबकी वो दरोदीवार माजी...

राम राम, मिलते हैं अगली वार्ता में--------------------

14 टिप्पणियाँ:

बढ़िया लिंक्स वाली शानदार ब्लॉग वार्ता
way4host

वाह इतनी जल्‍दी इतने सारे लिंक्स समेट लिया .. बहुत बढिया वार्ता!!

जल्दी में भी अच्छी वार्ता ...
वार्ता में शामिल करने के लिए बहुत आभार !

सूचना के लिये आभार
मेरा लिंक देने के लिये नमस्कार

सुन्दर वार्ता।

सूचना के लिये आभार...

very good chance to invest in intellectualism ,on chance to fall down .
Most respect of your sense of humor,and wisdom... thanks .

please read NO to on , written by mistake sir sorry .

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणी में किसी भी तरह का लिंक न लगाएं।
लिंक लगाने पर आपकी टिप्पणी हटा दी जाएगी।

Twitter Delicious Facebook Digg Stumbleupon Favorites More