मंगलवार, 16 अगस्त 2011

सवाल उछला है : आधुनिक भारत में अन्ना नया महात्मा गांधी है ?

www.bamulahija.com
न्ना हज़ारे को लेकर कितनी संवेदित है जनता इसका खुलासा शीघ्र हो ही जाएगा ये तो तय है.. गांधी के रूप में अन्ना को कुछ लोग स्वीकारतें हैं कुछ सिरे नक़ारतें हैं. तो मित्रो आज़ सिर्फ़ अन्ना जी हां सिर्फ़ अन्ना जिसके साथ बहुसंख्यक जनता है..आज़ मेरी बेटी ने, उसके वृद्ध दादा जी नें यानी एक उस पीढ़ी ने जो भ्रष्ट सामाजिक व्यवस्था को देखा न था.. यानी बाबूजी वाली पीढ़ी.. दूसरी उस पीढ़ी ने जिसे ये दौर देखना भी गवारा नहीं ने  पूरे एक घंटे बत्ती बुझवा दी..  कौन सा जादू का मंतर फ़ूंक रहे हैं अन्ना पता नहीं.. कुछ लोग अन्ना विरोध के बहाने "अमेरिका शरणं गच्छामी " की सलाह दे रहे हैं..देखिये कोई दूसरा नहीं अपने उच्च कोटी के निकृष्टम एवम  भ्रष्ट शिरोमणि श्री राजीव तनेजा जी मेरा अल्लाह भी तू....मेरा मौला भी तू-   
अन्ना पार्टी 


आज़ादी की शुभकामनाएं 
विमन श्रद्धांजली :- स्वर्गीय शम्मी कपूर जी को 

8 टिप्पणियाँ:

अन्नामय चर्चा :)

''भारत का रहने वाला हु भारत की बात सुनाता हु-स्वतंत्रता दिवस स्पेशल'' में हु हु, आपका इस तरह लिखना खटक रहा है, मुझे यह पढ़ना अखर रहा है, कृपया संशोधन पर विचार करें.

सुंदर रही वार्ता ....बेहतर ओर देश प्रेम से ओतप्रोत लिंक्स सहेजने के लिए आपका आभार

बहुत अच्‍छी रही यह वार्ता .. आपका मेल नहीं देख सकी थी .. मेरा पीसी अभी अभी ऑन हो सका है !!

@Rahul Singh लिंक को कापी पेस्ट किया है..
जैसी थी वैसी ..
शुक्रिया आप सभी आभार

देशप्रेम और अन्ना के रंग में रंगी बहुत सुन्दर वार्ता ....लिंक्स के लिए आपका आभार...

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणी में किसी भी तरह का लिंक न लगाएं।
लिंक लगाने पर आपकी टिप्पणी हटा दी जाएगी।

Twitter Delicious Facebook Digg Stumbleupon Favorites More