रविवार, 15 जनवरी 2012

मकर सक्रांति पर मोहब्बत का इजहार --- ब्लॉग4वार्ता --- ललित शर्मा

ललित शर्मा का  नमस्कार,  पौष मास में सूर्य मकर राशि पर आ गया है। सूर्य की दक्षिणायन से उत्तरायण की यात्रा प्रारंभ हो गयी। इस दिन हिन्दू श्रद्धालु पवित्र नदियों में स्नान करते हैं। अधिकतर लोग गंगा सागर की ओर प्रस्थान करते हैं। गंगा सागर प्राकृतिक सुंदरता लिए रमणीय स्थान है। इस दिन गंगासागर में भीड़ के कारण पैर रखने की भी जगह नहीं मिलती है। सदियों से कहावत है कि "सारे तीरथ बार बार, गंगा सागर एक बार' इसके बारे में मान्यता है कि इस दिन सागर में डूबा हुआ कपिल मुनि का आश्रम दिखाई देता है। लेकिन ऐसा है नहीं, कहते हैं कि सागर भीतर से कपिल मुनि की मूर्ति को निकाल कर किनारे पर स्थापित कर दिया है। श्रद्धालु यहीं दर्शन करते हैं। मैने स्वयं वहाँ जाकर देखा है। आप सभी को मकर संक्रातिं की हार्दिक शुभकामनाएं,  आने वाला समय कल्याणकारी हो। अब चलते हैं आज  की ब्लॉग4वार्ता पर …………………।
कपिल मुनि मंदिर गंगा सागर एवं साथ में हमारे मित्र

अजनबी से मोहब्बत का इजहार कर बैठे, सरे राह अपनी मौत का इकरार कर बैठे।…………बात तो सही है लेकिन जो जाने पहचाने हैं वे कभी अजनबी  ही थे। अब इकरार और इंकार के बीच का सफ़र लम्बा हो जाता है तो यही एहसास होता  है।उनको भी शुभकामनाये दे ते हैं और इनसे भी शुभकामनाएं लेते  हैं। शुभकामनाओं का व्यापार जारी है। अब आगे क्या होने वाला है जानना है तो इनसे मिलिए, सब साफ़ साफ़ बता दिया है। लाईफ़ लाईक छत्तीसगढी छत्तीसगढी जी सुन सकते हैं इधर,रघुबीरजी की कथा पढ सकते हैं उधर।भ्रष्टाचार लाइव - 30 वर्ष पूर्व  था, अब डायरेक्ट चैनल पर आ गया है, पहले इस्तेमाल करें फ़िर विश्वास करें।

फ़ुरसत में मुसकराहट बिखेरने की प्रैक्टिस चल रही  है। चेहरे पर एक स्मित लिए कनॉट प्लेस का एक चक्कर लगाईए, सर्दी दूर भगाईए। सर्दी में गर्मी का अहसास पाईए।यूपी और बाहुबली एक दुसरे के पर्याय बए हुए हैं। अब चुनाव आते ही पहलवानों के रेट बढ गए हैं, जिसने बुक करा लिए पहले वे तर जाएगें, रह गए वे झर जाएगें। पापा को भी प्यार चाहिए वोट भले मिले न मिले, सब चलेगा प्यार में।किताब के कवर पर लड़की का अधूरा चित्र बात कमाल की है भाई, एक पत्र उदय का भारी है, कभी  हल्का भी लिखे करो यार। एकदम से ताने देते हो और हमें भी उलझन में डाल देते हो :) 
मकर संक्रांति पर पीला रंग तू मत विचलित हो रे मन! मेरा पहला लक्ष्य है अमराई तक जाना और आना। जल रहे शिवाले क्यूँ? क्या किसी ने इधर ध्यान दिया। ये काटा वो मारा बस संक्राति में यही सुनाई दिया। मुझे जन्म दो की आवाज उठने लगी है, अस्तित्व की तलाश सोई मानवता अब जगने लगी है। गजब करते हैं चिमनी पर टंगा दिया चाँद को, कहानी जन्म ले रही है नए कथानक को। अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन  से लौट आए हैं करके दर्शन, जल्दी घर पहुंचिए नही तो होगा प्रदर्शन। जब हो प्रदर्शन तो सलवार सुट साथ हो तो हिट जाएगा। नही तो बाबा जी जैसे पिट जाएगा।लापतागंज में सन्यास का रोग लग गया है, महामारी जैसे फ़ैल गया है। बात ये अच्छी नहीं 

आज कल पाँव ज़मीन पर नहीं पड़ते मेरे क्योंकि टूटकर फिर बिखरता हूं मैं यही जीनगी का खेला है, अपने कहते नासमझ है और करते हैं समझदारी की। यही इनकी खुबी  है, अपनी बात धीरे से कह जाते हैं। मुझे ख़ुद से हैं बहुत-सी उम्मीदें... - *(मुंबई के महबूब स्टूडियो में पिछले दिनों दीपिका पादुकोण से मुलाक़ात हुई। वे फ़िल्म **‘**देसी ब्वॉयज़**’** की प्रमोशन में** **व्यस्त थीं। कुछ देर इधर-उधर ... हैया-हो ... - हर तूफान से जीत जाना है हैया-हो , हैया-हो गाना है नहीं गिरने में क्या सौरभ गिर कर उठने में है गौरव जितना आये बाधा रौरव ललकारे हैया-हो का आरव व..

अब वार्ता को देते हैं विराम, मिलते हैं ब्रेक के बाद, राम राम - ------------

7 टिप्पणियाँ:

सुन्दर लिंक्स से भरी वार्ता...
मकर संक्रातिं की हार्दिक शुभकामनाएं...
जीवन में मिठास हो,
पूरी हरेक आस हो....

वाह ..
बहुत खूब वार्ता ..
अच्‍छे अच्‍छे लिंक्‍स ..
मकर संक्रांति की हार्दिक शुभकामनाएं !!

बहुत ही सुन्दर लिंक्स से भरी वार्ता यहाँ आने पर बहुत कुछ एक साथ देखने को मिल जाता हैं
मकर संक्रांति की हार्दिक शुभकामनाएं...

बहुत सुंदर लिंक्स हैं यहां

सुन्दर लिंक्स से सजी रोचक वार्ता..

आन्नदित कर देने वाली बार्ता

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणी में किसी भी तरह का लिंक न लगाएं।
लिंक लगाने पर आपकी टिप्पणी हटा दी जाएगी।

Twitter Delicious Facebook Digg Stumbleupon Favorites More