शनिवार, 24 मार्च 2012

इतिहास के झरोखे में चोरी कहेंगे या प्रेरणा -------- ब्लॉग4वार्ता------- ललित शर्मा

ललित शर्मा का नमस्कार, विक्रम संवत का कैलेंडर बदला है, नव विक्रम संवत के साथ नवरात्रि का पर्व शुरु हुआ। सभी मित्रों को नवरात्रि पर्व एवं नव संवत्सर की हार्दिक शुभकामनाएं। लोग इसे अब हिन्दू नव वर्ष कहने लगे। जबकि यह कैलेंडर समस्त विश्व के लिए बना है।  परन्तु अब इसे सिर्फ़ हिन्दुओं तक ही सीमित कर दिया गया। देखा कि हिन्दू नव वर्ष की बधाईयाँ दी  जा रही  हैं। बधाईयां नव संवत्सर की दी जानी चाहिए। नव संवतसर से ॠतु परिवर्तन प्रारंभ होता है। बसंत ॠतु से ग्रीष्म की ओर बढते हैं। पतझड़ प्रारंभ होता है और प्रकृति अपना कायाकल्प कर नवीन रुप को धारण करती है…………अब चलते हैं आज की ब्लॉग4वार्ता पर…… प्रस्तुत हैं कुछ उम्दा लिंक…  

कृपया बताइये, इसे चोरी कहेंगे या प्रेरणा अक्सर हम रचते समय पूर्व के श्रुत-संस्कार या पढ़े-संस्कार को अपनी रचना में ढाल जाते हैं. हमें भी पता नहीं होता या स्पष्ट याद नहीं होता कि इसका पूर्व और पूर्ण सन्दर्भ क्या है. यह सायास नहीं अनायास होता है. ...मेरे बचपन की गलियाँमेरे बचपन की गलियाँ * *अब मुझे नहीं पहचानती वहाँ की धूप -छाँव जो थी जीवन मेरा ... अब भर देती हैं मन के भीतर क्रंदन ही क्रंदन बंदिशे जो अब और तब भी लगती थी मुझ पर .. तान कर सीना मैं चलूँ अपनी पि...शहीद [The Thought ]शत -शत नमन, अमर पुत्र ! . नहीं है कुछ कहने को प्रशंशा में तेरें , नहीं हैं तेरे स्तर की, कोई उपाधियाँ , नहीं है कोई उपमा तेरे समक्ष नहीं है कोई ज्योति , जैसी तुने जलाई , नहीं है कोई स्वप्न सदृश्य , जो ...

क्या आप सफल हैं???.निर्मल हास्य के लिए जनहित में जारी :) सफलता - कहते हैं ऐसी चीज होती है जिसे मिलती है तो नशा ऐसे सिर चढ़ता है कि उतरने का नाम नहीं लेता. और कुछ लोग इसके दंभ में अपनी जमीं तो छोड़ देते हैं .अब क्योंक...'ज्‍योतिष दिवस' आते जाते रहेंगे .. न ज्‍योतिष और न ही ज्‍योतिषी को सम्‍मान मिलेगा !!कल के अखबार में पढने को मिला कि इस वर्ष से नव संवत्सर को 'विश्व ज्योतिष दिवस' के रूप में मनाया जाएगा। इसमें कुछ गलत नहीं , जीवन के हर कमजोर संदर्भ को मजबूती देने के लिए उन्‍हें वर्ष के एक एक दिन निश्चित कि...हिंदू नववर्ष नुबारक हो.आज 23 मार्च २०१२ से हिन्दू नववर्ष एवं विक्रम शक संवत्सर २०६९का आरंभ हो गया है. हिन्दू नववर्ष के आरंभ के साथ ही नवरात्र भी प्रारंभ हो गए हैं. बसंत ऋतु के आगमन का संकेत मिलने लगता है, और वातावरण खुशनुमा एहस...

नव-वर्ष की हार्दिक बधाईआज चैत्र शुक्ल प्रतिपदा यानी नए साल का पहला दिन है. हिन्दू धर्म में आज के दिन का काफी महत्त्व है ,ब्रम्ह पुराण के अनुसार ब्रम्हा ने आज ही के दिनसृष्टि रचना का कार्य प्रारंभ किया था.यह भी माना जाता है की ...बस्ती का आलमहर गली, हर मोड पे, तेरे नाम की तख्ती लगी है पर, तू रहती कहाँ है ? कोई कुछ कहता नहीं है !! ... सच ! हम समझ गए थे उसी दिन, तेरी बस्ती का आलम जब कुकुरमुत्तों को, मशरूम कह के नवाजा जा रहा था !! इतिहास के झरोखे में नवसंवत्सरइतिहास के झरोखे में नवसंवत्सर* *चैत्र शुक्ल प्रतिपदा* भारत का सर्वमान्य संवत विक्रम संवत है, जिसका प्रारंभ चैत्र शुक्ल प्रतिपदा से होता है। ब्रह्म पुराण के अनुसार चैत्र शुक्ल प्रतिपदा को ही सृष्टि का ...

सफलता की दिशा में  मौसम के तेवर बदले हुए हैं। अब तक गर्मी की दस्तक सुनाई दे रही थी, जो अब दबे पाँव आँगन तक आ गई है। इस मौसम ने सभी को व्यस्त कर दिया है। बच्चों के लिए तो यह परीक्षा का मौसम है। तनावभरा मौसम। ...पंथी परदेसीराह तुम्हारी दूर चले आये तुम पंथी भूले , हुए उदय कुछ पुण्य हमारे पद राज पा हम फूले ! स्नेह बिंदु कुछ इस मरुथल में आ तुमने बरसाये , ये सूखे जीवन तरु राही पा तुमको सरसाये ! स्वागत गान तुम्हारा गाती भ्रमरावल...मुस्कुराने का कोई सबब नहीं होता इन दिनों अजीब-सी हालत है। आंधियां मध्य-पूर्व और पूर्वी अफ्रीका के रेगिस्तानों में चलती हैं, मौसम दिल्ली का बदल जाता है। ३१ मार्च की डेडलाइन नौकरीपेशा लोगों की सांसत कम, हम जैसे फ्रीलांसर्स के गले की हड्डी ...

सैनिको के खाने का डिब्बाइन दिनों मैं रक्षा मंत्रालय में पदस्थापित हूँ. यहाँ सुरक्षा में तैनात सेना के जवान, केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल के जवान के लिए खाने का डिब्बा आता है. उन डिब्बो को देख मन में भाव उठा कि उन्हें घर...संवेदनाएं रिश्ते हैं यहाँ अपेक्षाओं से भरे दम तोड़ते ************* भावुक मन संवेदना से भरा बरस गया । **************** रेत ही रेत पलकों में समाई खुश्क हैं आँखें ...................कम्फर्ट ज़ोन....
बड़ी चिलचिलाती धूप थी, देखा तो एक कुत्ता बड़े आराम से, मेरे दादा जी की खाट के नीचे जहाँ एक बहुत ही बढ़िया कम्फर्ट ज़ोन था...वहाँ बिना इजाज़त, फ़ोकट में, बड़े आराम से टांग-पूँछ सम्हाले हुए कम्फर्टेबली पड़ा हुआ था...
भूली -बिसरी बातेंवक्त की कडाही में मैंने पकाई स्नेह ,अपनापन औ समर्पण भरी मिठास से रिश्तों की रसमलाई तुम नही आई पर ....... याद तुम्हारी बार-बार आई भूलने की तुम्हे मैंने कोशिश की कई बार भूल नहीं पाई मै तुमको दिल के आगे गई ...सरदार भगतसिंह का अंतिम पत्र सरदार भगतसिंह का अंतिम पत्र अपने साथियों के नाम :* * * *“22 मार्च,1931, “साथियो, स्वाभाविक है कि जीने की इच्छा मुझमें भी होनी चाहिए, मैं इसे छिपाना नहीं चाहता। लेकिन मैं एक शर्त पर जिंदा रह सकता ह... धन का आना और मानवीय संवेदनाओं का जाना जब भी देखा है , सोचा-समझा है, यही पाया है कि धन का आना और मानवीय संवेदनाओं का जाना साथ-साथ ही होता है। बहुत हैरान करती है ये बात कि कल तक जो परिवार स्वयं आर्थिक परेशानियों से जूझ रहे थे, आज थोङा आर्थिक स...

नवरात्रि पर्व एंव नव संवत्सर आरंभ होने पर हार्दिक शुभकामनाएं। अब देते हैं वार्ता को विराम्…… मिलते हैं एक ब्रेक के बाद…… तब तक इसे पढें……… राम राम

15 टिप्पणियाँ:

NAW WARSH KI SHUBHAKAMANAYEN FIR KOI KATHAN PAHALE PRANAM.

navvarsha ki shubhkamnaao ke sath .....bahut achchhe link mile dhanywad

नव विक्रम संवत के साथ नवरात्रि का पर्व शुरु हुआ। सभी मित्रों को नवरात्रि पर्व एवं नव संवत्सर की हार्दिक शुभकामनाएं। लोग इसे अब हिन्दू नव वर्ष कहने लगे। जबकि यह कैलेंडर समस्त विश्व के लिए बना है। परन्तु अब इसे सिर्फ़ हिन्दुओं तक ही सीमित कर दिया गया। देखा कि हिन्दू नव वर्ष की बधाईयाँ दी जा रही हैं।
यही सांप्रदायिकता है।

बढिया वार्ता ..
नवरात्रि पर्व एवं नव संवत्सर की हार्दिक शुभकामनाएं !!

नव वर्ष ही हार्दिक शुभकामनाएं !

http://xitija.blogspot.in/

'पंथी परदेसी' का चयन करने के लिए आपका धन्यवाद एवं आभार ललित जी ! सभी लिंक्स बेहतरीन हैं !

बहुत रोचक वार्ता..नव संवत्सर की हार्दिक शुभकामनाएँ !

सुंदर वार्ता... सादर आभार।

रोचक वार्ता..नव संवत्सर की हार्दिक शुभकामनाएँ !

ललित दादा आपका बहुत बहुत आभार मेरी पोस्ट को वार्ता मे शामिल करने के लिए !

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणी में किसी भी तरह का लिंक न लगाएं।
लिंक लगाने पर आपकी टिप्पणी हटा दी जाएगी।

Twitter Delicious Facebook Digg Stumbleupon Favorites More