मंगलवार, 8 मई 2012

यादों की कलम से लिखती हूँ मैं ख़त - ब्लॉग4वार्ता....संध्या शर्मा

संध्या शर्मा का नमस्कार .... हमें प्रत्येक क्षण केवल सुख की चाह होती है। दुःख से दूर भागना चाहते हैं हम। लेकिन जिस परमेश्वर ने सुख दिया है वही हमें दुःख भी देता है। सुख के क्षणों में हम अपने कर्त्तव्य तक को भुला देते है, और तभी ईश्वर  दुःख क माध्यम से हमें सावधान कर देता है. ये हमारे लिए संकेत होता है, कि हम मन में दृढ विश्वास रखें,  दुःख हमारे लिए एक परीक्षा है, जिसे हमें अच्छी तरह उत्तीर्ण करनी है. जीवन को जीवन की प्रत्येक समस्या को सकारात्मक दृष्टी से देखते हुए उसका निराकरण करना है। और दुःख रुपी आग में तपा कर इस जीवन को खरा सोना बनाना है।  इन्ही कुछ सुविचारों के साथ चलिए अब चलते हैं आज की ब्लॉग 4 वार्ता पर. मेरी पसंद के कुछ लिंक्स के साथ. इस उम्मीद से कि आपको भी पसंद आएगी हमारी पसंद... कल नन्हे उदय का जन्मदिन था हमारे और समस्त वार्ता परिवार की ओर से ढेर सारा  अपना प्यार और आशीर्वाद..  
                                                          
 "जन्मदिन मुबारक हो बेटा उदय...अपने नाम के अनुसार सूरज की तरह उदय होकर सफलता के शिखर पर पहुँचो यही आशीर्वाद है. खुश रहो"

http://udayaveersingh.blogspot.in/ पर उदयवीर जी कह रहे हैं - संवाद करो -*मौन तोड़ो ,अधर खोलो ,संवाद करो ,* *खंडित हो पग - बंध , तीब्र आघात करो -* * * *ध्येय , धर्म, संकल्प, चरित्र सुचिता ,* *आत्मबल अनुराग अस्मिता आलोक -* *प्रतिभा ,प्रयोग ,प्रयत्न पराक्रम प्रज्ञ... 
http://swapnmere.blogspot.in/ पर दिगम्बर नासवा  जी ने लिखी है  सजीव कविता ... - तुम कहती हो लिखो कोई कविता मेरे पे ... बस मेरे पे ... और मैं सोचने लगता हूँ क्या लिखूं तुम पे … बस तुम  पे... http://geet7553.blogspot.in/ पर संगीता स्वरुप जी ने अपने जन्म दिन पर हम सबको भेंट स्वरुप दिए हैं अपने कीमती अनुभव प्रस्तुत है, उनकी एक सुन्दर रचना - ठहराव ...... उम्र के छठे दशक का अंतिम पड़ाव - सोच पर भी आ जाता है जैसे एक ठहराव , अनुभवों की पोटली संग बंधी रहती है फिर भी कभी कभी अनुभवों की बहुत कमी लगती है लगता है कि जैसे सब कुछ बिखर रहा है समेटने के ...

http://allexpression.blogspot.in/ my dreams 'n' expressions.....याने मेरे दिल से सीधा कनेक्शन.....पर अनुजी की पोस्ट पढ़िए -*वो तुम्हारे जाने का दिन था.....और सीखा मैंने खुद से प्यार करना......वरना तुम्हें प्यार करने से फुर्सत ही कहाँ थी मुझे!!!!!* तुमने तय कर लिया था मेरी जिंदगी से दूर चले जाने का,और हर फैसले लेने का अख्तिया...
http://vandana-zindagi.blogspot.in/ पर वंदनाजी कह रही हैं-  हाँ ........मैंने भी इक पाप किया है - आज भी दुखता होगा अंतस आज भी बंधाती होगी खुद को वो ढांढस शायद अपने किये अकृत्य पर शर्मिंदा होकर जब कहीं कुछ पढ़ती होगी या कहीं कुछ लिखती होगी या कुछ देखती होगी अपराधबोध से ग्रसित हो जाती होगी और उससे ...
http://meriparwaz.blogspot.in/ पर कनु प्रियाजी ने कहा है -प्यार का पहला ख़त लिखने में वक़्त तो लगता है - फ़ोन की लम्बी लम्बी बातें कभी वो सुकून नहीं दे सकती जो चिट्ठी के चंद शब्द देते हैं .तुम्हे कभी लिखने का शौक नहीं था और पढने का भी नहीं तो मेरी न जाने कितनी चिट्ठियां मन की मन में रह गई न उन्हें कागज़... 

http://hathkadh.blogspot.in/ पर K C जी ने एक नेक सलाह ख़ुद के लिए लिखी है- कभी सोचो इस तरह- एक नेक सलाह ख़ुद के लिए लिखी है, भले ही कुछ भी बदलता नहीं है. अक्षर अक्षर मांडना, साँस साँस सोचना कि कितना सफ़र बाकी है. फिर उम्मीद भी कि दिमाग एक दिन भूल जायेगा सब वस्ल और फ़िराक की बातें. फ़िलहाल सब कवित...
http://zaruratakaltara.blogspot.in/ पर रमाकांत सिंह जी सुना रहे हैं - घर.घर की कहानी - जो जस लिखा तहां तस होई जनम विवाह मरन गति सोई। तुलसीदास जी ने लिख दिया और खिसक लिए अपने धाम। बातें तो हमें युग की निभाना इस युग में उस पर तुर्रा भारतवर्ष के गांवों की जहां लोग बुद्धिमान नहीं क्लेभर हो गये...
http://satish-saxena.blogspot.in/ पर मिलिए सतीश सक्सेना जी से -मदारी बुद्धि -सतीश सक्सेना -  *विलक्षण बुद्धि **मदारी के लिए ,मन्त्रमुग्ध होकर सुनने वाली भीड़ जुटानी आसान है ! और अक्सर मदारी अपना उद्देश्य तय कर चुके होते हैं ! उसे पता है कि सीधे साधे श्रद्धानत होकर सुनने वाले लोगों से फायदा उठा...

http://madhushaalaa-sumit.blogspot.in/ पर मधुरेश जी .'कन्या भ्रूण-हत्या' का विरोध करते हुए कहते हैं - देखो कैसे रोती जा रही है...-'सत्यमेव जयते' का पहला ही एपिसोड देखकर रोम-रोम खड़े हो गए ... समाज में व्याप्त 'भ्रूण-हत्या' की कुप्रथा का विरोध करना न सिर्फ हमारा कर्त्तव्य बनता है, बल्कि अपने इंसान होने का 'धर्म' भी है. अगर हम इसके ख...
http://rashifal.gatyatmakjyotish.com/ पर जानिए संगीता पूरी जी से - (rashifal) कैसा रहेगा आपके लिए 7 और 8 मई 2012 का दिन ??  -मेष लग्नवालों के लिए 7 और 8 मई 2012 को स्वास्थ्य या व्यक्तिगत गुणों को मजबूती देने के कार्यक्रम बनेंगे, स्मार्ट लोगों का साथ मिलेगा। रूटीन काफी सुव्यवस्थित होगा , जिससे समय पर सारे कार्यों को अंजाम दिया ज...
http://www.nukkadh.com/ पर गिरीश बिल्लोरे जी ने कहा है -फ़िज़ूल का रोना धोना छोड़ो.. पहले देश के हालात सुधारो .....- * हज़ूर *की शान में कमी आते ही हज़ूर मातहओं को कौआ बना देने में भी कोई हर्ज़ महसूस नहीं करते. मार भी देते हैं लटका भी देते हैं .. सच कितनी बौनी सोच लेकर जीते हैं तंत्र के तांत्रिक .जब भी जवाव देही आती...

http://mauryareena.blogspot.in/ पर रीना मौर्या जी ने बताया है -ऐसे लिखती हूँ मैं ख़त - देखो ऐसे लिखती हूँ मैं ख़त तुम भी देखो और बताओ ठीक तो है ना.... हर बार लिखती हूँ ख़त ये सोचकर की,शायद इस बार आ जाये कोई जवाब. यादों की कलम से लिखना शुरू करती हूँ हर बार भर देती हूँ अपनी सारी भावनाए उस... 
http://shashwat-shilp.blogspot.in/ पर महेंद्र वर्मा जी की रचना पढ़िए - हर तरफ - .वायदों की बड़ी बोलियाँ हर तरफ, भीड़ में बज रही तालियाँ हर तरफ। गौरैयों की चीं-चीं कहीं खो गई, घोसलों में जहर थैलियाँ हर तरफ। वो गया था अमन बाँटने शहर में, पर मिलीं ढेर-सी गालियाँ हर तरफ। भूख से मर रहे है..
http://akanksha-asha.blogspot.in/ पर आशा सक्सेना जी की सीख है हम सबके लिए - महिमा अति की - रसना रस में पगी शब्दों में मिठास घुली आल्हादित मन कर गयी सुफल सकारथ कर गयी पर अति मिठास से कानों में जब मिश्री घुली हुआ संशय मन में पीछे से कोई वार न कर जाए अति मिठास कडवी लगी दरारें दिल में दिखीं 
अब लेते हैं आपसे इजाजत मिलते हैं, अगली वार्ता में तब तक के लिए नमस्कार..................

15 टिप्पणियाँ:

सुरुचिपूर्ण वार्ता |
मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार |
आशा

बढिया वार्ता, शुभकामनाएं

उदय के लिए जन्‍मदिन की शुभकामनाएं.

चिरंजीव उदय
ललित जी से अधिक यशस्वी,हो
मंगल कामनाएं
आभार संध्या जी

दुःख हमारे लिए एक परीक्षा है, जिसे हमें अच्छी तरह उत्तीर्ण करनी है. जीवन को जीवन की प्रत्येक समस्या को सकारात्मक दृष्टी से देखते हुए उसका निराकरण करना है।
सुंदर विचार .. अच्‍छी वार्ता !!

बहुत अच्छी वार्ता.....
चि. उदय को ढेरों आशीष.....

हमारी रचना को शामिल करने के लिए आपका शुक्रिया संध्या जी.

अनु

रोचक वार्ता के लिए आभार,...संध्या जी,...

उदय जी के लिए जन्‍मदिन की बहुत२ बधाई शुभकामनाएं......

बढिया वार्ता,उदय को जन्‍मदिन की शुभकामनाएं.

चिरंजीव उदय
यशस्वी,हो

बड़े प्रभावी सूत्र

बहुत बढ़िया वार्ता ...काफी नए लिंक्स मिले ... आभार

बेहतरीन प्रस्तुति.

Uday ko janamdin ki Bahut Bahut badhai ... Sundar charcha ... Shukriya mujhe shamil Karne ka ...

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणी में किसी भी तरह का लिंक न लगाएं।
लिंक लगाने पर आपकी टिप्पणी हटा दी जाएगी।

Twitter Delicious Facebook Digg Stumbleupon Favorites More