बुधवार, 16 मई 2012

मैं बाग तुम बागवाँ...ब्लॉग4वार्ता---संध्या शर्मा

संध्या शर्मा का नमस्कार... जीने के लिए ज़रूरी नही, प्रेम की ऊर्जा, रौशनी भरे ख्वाब, कुछ अनकही मजबूरियां भी, टूटने नहीं देतीं, साँसों की डोर...पर----------हमसफर साथ हो तो ----सफर हँसते- हँसते कट जाता है..खुशियों की छाँह तले गम धीरे से खिसक जाता है। 
थोड़े विलम्ब के साथ प्रस्तुत है, आज की फटाफट ब्लॉग 4 वार्ता, मेरी पसंद के कुछ चुने हुए लिंक्स के साथ...

http://rashifal.gatyatmakjyotish.com/ पर संगीता पुरी जी से जानिये (rashifal) कैसा रहेगा आपके लिए 16 और 17 मई 2012 का दिन ?? -मेष लग्नवालों के लिए 16 और 17 मई 2012 को भाग्य , भगवान , धर्म . ये सब चिंतन के विषय बने रहेंगे। किसी धार्मिक क्रियाकलाप में व्यस्तता रहेगी, कोई बडा खर्च उपस्थित होगा, बाह़य संबंध मजबूत होंगे , पर बाहरी व्... http://madhushaalaa-sumit.blogspot.in/ पर मधुरेश  जी ने लिखा है उसका बोझ भारी है... -युवा आज का कर्मी है, साक्षी भी, युग-परिवर्तन का. युवा आज का सामंजस्य है पाश्चात्य औ' पुरातन का. युवा आज का करता है विरोध, जो अतीत ने थोपे थे उन कुरीतियों का, कुप्रथाओं का. दहेज का, अस्पृश्यता का. युवा ...http://babanpandey.blogspot.in/ पर बबन पांडे जी की रचना - .पहचान एक औरत है जिसके हाथों की अकडन घुटनों का दर्द और चहरे की झुरिय्याँ बढ़ जाती है , साल-दर-साल समतल जमीन पर उसके चलने का ढंग मानो पहाड़ चढ़ती महिला एक लाठी के संग // पहचाना आपने वह मेरी माँ है // 

.http://mitteekimahak.blogspot.in/ पर सुधा प्रजापति जी लिख रही हैं .मच्छर मच्छर दुनिया का सबसे खतरनाक प्राणी खून ही जिसकी खुराक है प्राणी से भोजन पाता क्षण भंगुर जीवन पर महाबाहू को घायल कर जाता टावर के 18 वें माले पर अपनी सेना लिए धमक रहे हैं मस्क्विटो क्वाईल आल आऊट भी इसके डर से..
http://apnokasath.blogspot.in/ पर पढ़िए अनु चौधरी जी के घाव *घाव * राहें-राहें आग बिछी हैं झुलसी-झुलसी हैं सब छायाएं हर चौराहा धुआँ-धुआँ हैं , घर तक हम कैसे जाएं कब तक खाली-खाली सी अपनी इस बेज़ार ,जिंदगी को देखूं ? **************** आज फिर मौसम ने छेड़ा हैं स...http://anitanihalani.blogspot.in/ पर अनीता जी ने लिखा रही हैं जिन खोजा तीन पाइयाँ मन के इस नगर में कहीं तो वह छुपा हुआ है, उसे खोजना है. बार-बार हमें उस पथ पर जानेके लिये उठना है, हम एक बार गिरे तो कहीं गिरते ही न चले जाएँ, यात्रा आसान नहीं है, मन जब उज्ज्वल होता है तभी रंग चढ़ता है. जहाँ...

http://sharmakailashc.blogspot.in/ पर पढ़िए कैलाश शर्माजी का आलेख किशोरों में बढ़ती अपराध प्रवृति समाचार पत्रों में सुबह सुबह हमारे किशोरों की गंभीर अपराधों में शामिल होने की खबरें जब अक्सर देखता हूँ तो पढ़ कर मन क्षुब्ध हो जाता है. कुछ दिन पहले समाचार पत्रों में खबर थी कि चार किशोरों ने कक्षा स... http://swapnmere.blogspot.in/ पर दिगंबर नासवा जी की रचना पढ़िये जीवन ... जीने के लिए ज़रूरी नही प्रेम की ऊर्जा रौशनी भरे ख्वाब कुछ अनकही मजबूरियां भी टूटने नहीं देतीं साँसों की डोर यूं ही चलता रहता है ये सफर साँसों का क़र्ज़ उठाये मौत की इंतज़ार में ... http://nishakidisha.blogspot.in/पर निशा महाराणा जी की रचना जीवनसाथी मेरे  .आज के दिन ही दो अनजान पथिकों ने जीवनभर साथ निभाने की कसम खाई थी------ जीवन और जीवन के संघर्ष इतने कठिन होते हैं ये बात उस समय भला कहाँ---- समझ में आई थी ??????? पर---------- हमसफर साथ हो तो ---- सफर हँसत.......

मिलते हैं, अगली वार्ता में तब तक के लिए नमस्कार.....

7 टिप्पणियाँ:

फटाफट लिंक्स भी अच्छे हैं .

फटफटिया लिंक्स बढ़िया लगे

बढिया हैं फटाफट लिंक्स

देख भी लिए फटाफट....
बहुत बढ़िया संध्या जी
शुक्रिया.

Fatafat links mein mujhe Bhi Jagah dene ka shukriya ... Mast links hain aaj ...

फ़टाफ़ट वार्ता के लिए आभार

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणी में किसी भी तरह का लिंक न लगाएं।
लिंक लगाने पर आपकी टिप्पणी हटा दी जाएगी।

Twitter Delicious Facebook Digg Stumbleupon Favorites More