गुरुवार, 25 मार्च 2010

नामचीन हस्तियां-- चेरी के २ पेड़--विचारों का लंगर---ब्लाग4वार्ता------ललित शर्मा

ज सुबह की वार्ता यशवंत जी कर रहे थे, लगता है कि पोस्ट शेड्युल करते वक्त उनसे छुट गयी, छुट गयी तो छुट गयी, हम लेकर आ गए हैं नयी वार्ता, एक दम ताजा तरीन चिट्ठों के साथ। अब मै ललित शर्मा आपको ले चलता हुँ आज की चर्चा पर----लेते है कुछ नए पुराने चि्ट्ठों को-----

पहला चिट्ठा लेते है शिखा जी का----वे बता रही हैं लन्दन के स्कूलों में मनाया जाता है इंडिया डेजी हाँ ...हम बेकार ही विदेशी इवेंट्स मनाने में हंगामा करते हैं ..कि वेलेंटाइन डे. क्रिसमस ..विदेशी त्यौहार है हम नहीं मनाएंगे इनसे हमारी संस्कृति को खतरा है..परन्तु और कुछ हो न हो थोड़ी व्यावहारिकता, और डिप्लोमेसी हमें इन अंग्रेजों से सीख ही लेनी--------अगला चिट्ठा लेते है राज भाटिया जी का उन्हे एक मेल आई है तुम्हारी हत्या पर भी रख लेंगे २ मिनट का मौन (अभागे भारतीय की फरियाद पर सिक-यू-लायर(Sick you Liar, बीमार मानसिकता वाले  झुट्ठे) नेता द्वारा सांत्वना भरे कुटिल उपदेश की तरह पढ़ें)अच्छा!!!   वो दुश्मन है? बम फोड़ता है? गोली मारता है? मगर सुन - दोस्ती में - इतना तो सहना ही पड़ता है तय है
अब चलते हैं के आर रमण जी के ब्लाग पर उन्होने बताया है कि नामचीन हस्तियां भी शिकार हुई हैं टीबी की ऐसे लेखकों,दार्शनिकों,कवियों,वैज्ञानिकों,चित्रकारों,संगीतकारों आदि की फेहरिस्त बहुत लम्बी है जो दुनिया की बड़ी शख्सियत थे मगर टीबी के कारण असमय मौत ने दुनिया को उनकी संपूर्ण प्रतिभा से परिचित होने का अवसर नहीं दिया। एंटन चेखव,हेनरी पंचम और अष्टम,जॉन-------अब एक खास खबर पढिए ऑर्कुट पर आपत्तिजनक चुटकुलों को ना रोक पाने के कारण गूगल पर जुर्माना ब्राजील की एक अदालत ने अमेरिकी इंटरनेट सर्च इंजन गूगल पर, उसकी सोशल नेटवर्किंग साइट ऑर्कुट पर आपत्तिजनक चुटकुलों को सेंसर न करने की वजह से जुर्माना किया है। उत्तरी राज्य रोंदोनिया की एक अदालत ने गूगल को उतने दिनों तक 2,700 डॉलर दे्ना पड़ेगा।
कविता वाचक्नवी जी ने लिखा है चेरी के २ पेड़ : माँ की स्मृति में चेरी के २ पेड़ : माँ की स्मृति मेंआज २४ मार्च २०१०   ! .....माँ को परलोकगामी हुए ४१ वर्ष पूरे हो गए आज। प्रातः उनकी स्मृति में बाहर लॉन में मैंने व मेरी बेटी ने मिल कर दो चेरी के पेड़ लगाए ; एक गुलाबी फूलों का और एक श्वेत पुष्पों वाला--------दीपक रस्तोगी जी चेन्नई के मरीना बीच की कुछ फ़ोटो खींच लाए हैं देखिए---चैन्नई मरीना बीच पर सुबह की तफ़री और समुद्र के कुछ फ़ोटो.. वैसे तो आजकल सुबह शाम घूमना बहुत जरुरी हो गया है, क्योंकि अब घूमना भी मजबूरी है, पसीना बहाओ, जितना हो सके और अपना वजन कम करो, अब चैन्नई में हैं तो आज सुबह का घूमना हमने मरीना बीच जाना तय किया और कुछ फ़ोटो भी निकाले।
भारतीय नागरिक जी ने एक बहुत ही बढिया मुद्दा उठाया है ज. न्यूज की समाचार वाचिका और सम्पादक को चित्र और प्रतिमा में अन्तर नहीं पता----जी हां,  पूरी तरह से सत्य है. ज. न्यूज की समाचार वाचिका समाचार पढ़ रही थीं कि सचिन ने स्व०राज सिंह डूंगरपुर की प्रतिमा का अनावरण किया जबकि वास्तव में वह एक चित्र था. कितनी बड़ी भूल. हिन्दी का अनादर हिन्दीभाषी ही कर रहे हैं ------इधर शरद भाई कल लंगर छकने गए थे तो वहां से लाए हैं विशिष्ट समाचार गुरुद्वारे में भगतसिंह के विचारों का लंगर ----23 मार्च की सुबह कथाकार गुलवीर सिंह भाटिया का फोन आया ,शरद भाई आज शहीद भगत सिंह का शहादत दिवस है , दुर्ग-भिलाई के सभी कवि-साहित्यकारों और ब्लॉगर्स को फोन कर दो,
झा जी कह रहे है अरे भाई क्या कह रहे हैं सुनिए---यही दस्तूर है मकानों का  वो सर बुलंद रहा और खुद्पसंद रहा,मैं सर झुकाए रहा और खुशामदों में रहा।मेरे अजीजों, यही दस्तूर है मकानों का,बनाने वाला हमेशा बरामदों में रहा॥कहीं  पढ थीं ये पंक्तियां ............याद रह गईं ॥ संगीता स्वरुप जी ले आई हैं कल्पना का इन्द्रधनुष ----- कल्पना के इन्द्रधनुष को किसी क्षितिज की दरकार नहीं ये तो उग आते हैं मन के आँगन के किसी कोने में ....रश्मि प्रभा जी की भी सुनिए---मैं कुछ नहीं ! ----चलते-चलते सांय-सांय सी ख़ामोशीऔर वक़्त के आईने में मैं !बहुत धुंधला नज़र आता है सबकुछ डर लगता है !
गिरीश पंकज भैया भी ले आए हैं कुछ पठनीय सामग्री है भुलिएगा नही जरुर पढिएगा--शक्तिस्वरूपा सुन्दर लड़की, क्या पता था दुःख गहन आ जाएगा--बहुत दिनों से मैंने अपनी ग़ज़ले नहीं दीं, सो इस बार दो ताज़ा ग़ज़ले. नवरात्र के अवसर पर स्त्रीशक्ति की पूजा की जाती है इसलिए पहले लड़की पर केन्द्रित एक ग़ज़ल,(१)शक्तिस्वरूपा सुन्दर लड़कीउड़ती है बांधे 'पर' लड़कीअपनी ही धुन में चलती है-----अरे वाह खुशदीप भाई भी खुशियों का दीप जलाने आ गए हैंओए लक्की, लक्की ओए अपना लक पहन कर चलो...ये पढ़ कर आपको ज़रुर याद आ गया होगा कि मैं लक्स कोज़ी की एड का ज़िक्र कर रहा है...लेकिन कुछ पहनने से लक बदलता है या नहीं, ये मैं नहीं जानता लेकिन आज आपको लक यानि किस्मत की महिमा बताता हूं,
अब किशोर अजवानी जी लेकर आए हैं एक नयी पोस्ट----वीएचपी के राजेंद्र शर्माजी  आज लिव-इन रिलेशनशिप पर बहस थी स्टूडियो में। सुप्रीम कोर्ट ने अभिनेत्री ख़ुशबू के ख़िलाफ़ मामले में टिप्पणी कर दी कि लिव-इन रिलेशनशिप या विवाह से पहले संबंध ग़ैर-क़ानूनी नहीं हैं तो बवाल खड़ा हो गया है।-----यशवंत जी कमाल देखिए इस पोस्ट मे गजब के मुहावरों के अर्थ निकाले हैं अबे जब चोर मिनिस्टर का बेटा होगा........तो कोतवाल तो क्या.........कमिश्नर को भी डांटेगा  पप्पू बहुत ही होसियार बालक हैं..........मास्टर जी ने उसको कुछ मुहावरे दिए थे.......जिनका प्रयोग उसने कुछ इस तरह किया ऊँठ के मुहँ में जीरा अगर आप ऊँठ के मुहँ में जीरा डाल देंगे तो आपको जीरा नजर नहीं आएगा क्यूंकि ऊँठ अपनी गर्दन ऊपर उठा लेगा 
डॉ श्रीमति अजीत गुप्ता जी कह रही हैंअपराधी को सजा हुई और सारा परिवार ही भूख की चपेट में आ गया ---कानून और इंसाफ की हम सभी प्रतिदिन दुहाई देते हैं। लेकिन जिसे न्‍याय करना है उसके सामने कई बाद चुनौतियां खड़ी हो जाती हैं। एक तरफ कानून कहता है कि अपराधी को सजा दो, तो दूसरी तरफ उसकी सजा सारे परिवार की सजा बन जाती है-- संस्कृति पर डॉक्टर महेश सिन्हा जी पुछ रहे हैं--क्या पार्टी का विधान संविधान से बड़ा है - क्या यही प्रजातन्त्र है ? हमारा देश संवैधानिक रूप से प्रजातन्त्र है जहाँ व्यक्ति को अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का अधिकार है , इसी अधिकार के अंतर्गत वह अपने प्रतिनिधि विभिन्न रूपों में चुनता है . यह स्थानीय संस्थाओं से लेकर सर्वोचः लोक सभा तक लोगों को चुनने के लिए दिया गया है
डॉक्टर मनोज मिश्रा जी एक माइक्रो पोस्ट लेकर आए हैं---कुमारी का टोटा धर्म से ओत-प्रोत हमारे इस महान देश की अजब परम्पराएँ और चलन हैं.साल भर हर मुद्दे पर जिनका निरादरकरो -उसी का एक दिन विधिवत पूजन-अर्चन और नमन. आज का दिन हम लोंगो की तरफ कुमारी कन्याओं कादिन होता है.------- सारथी पर शास्त्री जी बता रहे हैं फलों से डर लगता है! -प्रभु की दया से हम सब लगभग सामान्य लोग हैं। किसी तरह की विकलांगता का अनुभव नहीं करते है। लेकिन इसका दूसरा पहलू यह है कि समाज का एक बहुत बडा तबका जो पूर्ण रूप से सामान्य नहीं है उनकी बडी उपेक्षा होती है।--------------------

अब देते हैं वार्ता को विराम------------आप सभी को ललित शर्मा का राम

5 टिप्पणियाँ:

बहुत बढ़िया प्रस्तुति...सुंदर चिट्ठा चर्चा बधाई

विस्तृत और बढ़िया चर्चा....आभार

बहुत बढ़िया प्रस्तुति...सुंदर चिट्ठा चर्चा बधाई

बहुत सुंदर जी.

रामराम.

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणी में किसी भी तरह का लिंक न लगाएं।
लिंक लगाने पर आपकी टिप्पणी हटा दी जाएगी।

Twitter Delicious Facebook Digg Stumbleupon Favorites More