शुक्रवार, 9 जुलाई 2010

कहीं आप किसी धोखेबाज़ की मदद तो नहीं कर रहे - फ़रक़ तो पड़ता है भाई - ब्लॉग 4 वार्ता - शिवम् मिश्रा


प्रिय ब्लॉगर मित्रो
प्रणाम !

आज ८ जुलाई है ! ठीक एक साल पहले आज ही के दिन जिंदगी से संघर्ष कर रहे मशहूर हास्य कवि ओम व्यास का ०८ जुलाई'०९ की सुबह दिल्ली में निधन हो गया था ।

ज्ञात हो ओम व्यास ०८ जून'०९ को एक सड़क हादसे में गंभीर रूप से घायल हो गए थे। उनका दिल्ली के अपोलो अस्पताल में इलाज चल रहा था। उल्लेखनीय है कि विदिशा में आयोजित बेतवा महोत्सव से भोपाल लौट रहे कवियों का वाहन दुर्घटनाग्रस्त हो गया था।

इस हादसे में हास्य कवि ओम प्रकाश आदित्य, लाड सिंह और नीरज पुरी की मौके पर ही मौत हो गई थी जबकि ओम व्यास गंभीर रूप से घायल हो गए थे। सभी उनके जल्द ठीक होने की आस लगाये बैठे थे पर ..................होनी को कुछ और ही मंजूर था |

आज ठीक एक साल बीत जाने के बाद भी हिंदी साहित्य प्रेमी इस सदमे से उबार नहीं पाए है |

ब्लॉग 4 वार्ता के इस मंच से आज पूरे ब्लॉग जगत की ओर से स्वर्गीय श्री ओम व्यास जी को विनम्र श्रद्धांजलि |


आपका

शिवम् मिश्रा

-------------------------------------------------------------------------------------------------------

कहीं आप किसी धोखेबाज़ की मदद तो नहीं कर रहे - सतीश सक्सेना :- लगता तो नहीं हो तो पता नहीं !!



"फ़रक़ तो पड़ता है भाई" :- जी बिलकुल पड़ता है !!



तब और अब...(कार्टून धमाका) :- बहुत फर्क आ गया है !!



हॉलीवुड अगर नहीं होता तो बॉलीवुड का क्या होता .....? :- वही होता जो मंजूरे खुदा होता !



फिर भी दिल मिलने की दुआ करता है.... :- तो मिलिए ना कौन रोका करता है ??



सच मेरे यार हैं - कहानी भाग 2 :- बाकी भाग कब आ रहे है ..... क्यों हम को सता रहे है !!



राजकुमार ग्वालानी के नाम से ठगी का प्रयास :- हद हो गयी भाई यह तो !!



सुनिए--“कविता क्या, कविता क्यों ?” विषय पर व्याख्यान :- जरूर !



ब्लॉग अपडेट रखने के लिए कुछ न कुछ तो लिखना ही पड़ता है :- सही बात है !



१० इक समुन्दर ने आवाज दी मुझको पानी पिला दीजिये :- बिन पानी सब सून !



११ ब्लॉगिंग सृजनात्मकता को खा रही है। (आगरा के ब्लॉगर्स के दिलों से निकली आवाज़) :- आपको क्या लगता है ?



१२ डॉ० कुमार विश्वास, गुरू जी और कवि सम्मेलन, नवोन्मेष महोत्सव भाग-२ :- बधाइयाँ आपको !



१३ "पंक में खिला कमल" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक") :- अरे वाह !



१४ धधकते कश्मीर में सेना की ‘झप्पी’! :- बहुत जरूरत है इसकी !!



१५ लो क सं घ र्ष !: दोनो हाथ बटोरिये यही सयानो काम :- nice !!



१६ ”गीतालेख”./ अबला गैया हाय तुम्हारी है यह दुखद कहानी.. :- हे राम !!



१७ शरद जी, शुक्र मनाइये न्यूज चैनल पटरी पर नहीं हैं :- होते तो ..............!!



१८ ऐसा भी एक आज्ञाकारी पुत्र :- सब ke घर हो !



१९ दिल रो पड़ा इस फोटो को देख कर :- एक नज़र आप भी देखिये !



२० ९वीं कक्षा में चुंबन, 7 वर्ष के भतीजे के दोस्त की गर्लफ़्रेंड :- वाह भाई वाह!



२१ बरसात में सेहत :- कैसे बने ?



२२ क्या अब आपका नंबर है? :- महफूज़ भाई क्या आप सुन रहे है ??



२३ शहीद भगतसिंह :- नमन आपको !



२४ प्रकाश झा की राजनीति यानी हिप-हिप हुर्रे! :- कौन सी वाली असली या फ़िल्मी ??



२५ ऐ खुदा तुझपे एहसान कर रहा हूँ :- क्या कहने !!



२६ बाल विधवा :- मार्मिक !



२७ मैं पिता बन गया... :-बधाइयाँ बहुत बहुत बधाइयाँ !!



२८ क्या सच मे हम आज़ाद देश मे रह रहे हैं? :- लगता तो यही है !



२९ हो गए 1000 विजिटर्स :- बहुत खूब !! बधाइयाँ !



३० पाखी का लालीपॉप :- मज़ा आया ?



३१ लिजिये हम आप को उस ओक्टोपुस के दर्शन करवा दे, जो दुनिया भर मै चर्चा का विषय बन गया है :- जरूर कहाँ है, दिखाइए ?



अंत में एक बार फिर स्वर्गीय श्री ओम व्यास जी को विनम्र श्रद्धांजलि देते हुए उनके ब्लॉग का लिंक दे रहा हूँ |



३२ हास्य मेव जयते :- स्व. ओम व्यास ‘ओम’ जी की कवितायेँ .......प्रस्तुति संजय व्यास |



आशा है यह ब्लॉग वार्ता आप सब को पसंद आएगी ! अगली बार फिर मिलुगा कुछ और नए लिंक्स के साथ तब तक के लिए ........



जय हिंद !!


नोट :- यह पोस्ट ८ जुलाई'२०१० की शाम को लिखी गयी थी पर नेट की समस्याओ के कारण अब छापी जा रही है !!

20 टिप्पणियाँ:

आपने हमज़बान का लिंक दिया है,आभार:

ताज़ा अधूरी कविता की कुछ पंक्तियाँ

श्रद्धा,विश्वास,नैतिकता,इमानदारी,सत्य,अहिंसा,करुणा,वात्सल्य ..
ऐसे ढेर सारे फेशियल बाज़ार में मौजूद थे
जिनका इस्तेमाल गाहे बगाहे लोग खूब किया करते.

पुरखों की आत्माएं व्यथित थीं
उनकी भी जिन्होंने धर्मशालाएं बनवाईं,
लंगर आम हुआ
उनकी भी जिन्होंने सर्वस्व त्याग हिमालय में धुनी रमाई..
व्यथित इसलिए नहीं कि उनकी इमारतों से उनकी नाम पट्टी हटा दी गयी
दर असल उन्होंने कभी नाम पट्टी लगवाई ही नहीं
आत्माएं
दुखी इसलिए थीं कि
समय फेशियल का हो चुका था
और अब जगह जगह गोयबल्स के साकार रूपों की जय जय कार हो रही थी...


समय हो तो इस पोस्ट को अवश्य पढ़ें
इस्लाम में परिवार कल्याण http://shahroz-ka-rachna-sansaar.blogspot.com/2010/07/blog-post.html
शहरोज़

आभार इन लिंक्स का.

स्वं ओम व्यास जी को श्रृद्धांजलि!!

विनम्र श्रद्धांजलि...!

मदद करके बदले मैं कुछ चाहना , या मदद का इस्तेमाल छवि निर्माण के लिए करना ,मदद नहीं सौदा है. मदद किसी इंसान की अल्लाह की ख़ुशी के लिए करो. मदद लेने वाला कुछ दे या ना दे इस से क्या फर्क पड़ता है? देखने वाला भी अल्लाह है और सिला देने वाला भी अल्लाह. मैंने अपने ब्लॉग पे उसी समय लिखा था "
यकीन जानिए इन झूटी शान के शौक़ीन लोगों की मदद जिस ने भी आज तक ली है, उसकी इज्ज़त इन्ही के हाथों नीलाम भी हुई है... http://aqyouth.blogspot.com/2010/07/blog-post.html

पूरे लिंक्स देख लिए अब!! :)

स्वं ओम व्यास जी को श्रृद्धांजलि!!

सर्वप्रथम आदरणीय व्यास जी को विनम्र श्रद्धांजलि! चर्चा मे स्थान देने के लिये शुक्रिया मिश्रा जी। अभी वक्त ड्यूटी जाने का होता है। सभी का लिन्क पढ़ा नही जा सकता। पढ़ेंगे फ़ुर्सत के क्षणों मे ।

उम्दा लिंक हैं शिवम भाई

उत्तम चर्चा

आभार

वार्ता बहुत बढिया ..
स्वं ओम व्यास जी को श्रृद्धांजलि !!

स्वं ओम व्यास जी एवं अन्य सभी को श्रृद्धांजलि! नीरज पुरी जी के बारे में तो मुझे पता ही नहीं था.... शोक भरी खबर....

बढ़िया वार्ता....अच्छे लिंक्स मिले ..आभार

वार्ता बहुत बढिया .. व्यास जी को श्रृद्धांजलि

आभार इन लिंक्स का.

स्वं ओम व्यास जी को श्रृद्धांजलि!

अच्छे लिंक्स संजोये आपने...बढिया वार्ता!
स्व. व्यास जी को विनम्र श्रद्धांजली.....

शिवम भाई, बहुत बेहतरीन लिंकस.... मजा आ गया।
श्रद्धांजलि ओम जी को

आप सब का बहुत बहुत आभार !!

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणी में किसी भी तरह का लिंक न लगाएं।
लिंक लगाने पर आपकी टिप्पणी हटा दी जाएगी।

Twitter Delicious Facebook Digg Stumbleupon Favorites More