मंगलवार, 3 अगस्त 2010

हाय..हाय.. राहुल--शाबास,नारी शक्ति की जय हो---ब्लॉग4वार्ता--ललित शर्मा

नमस्कार, मीडिया के माध्यम राजनेता की बिगड़ैल औलाद राहुल महाजन की फ़ितरत से सभी वाकिफ़ हो चुके हैं, फ़िर ये लड़कियाँ क्यों उसके चंगुल में फ़ंसती है। अभी दो महीने पहले स्वयंवर रचाने वाली अपने शरीर के जख्म मीडिया को दिखा रही है। अरे जब स्वयंवर ही किया है तो भुगतो उसको। दुसरी तरफ़ एक महानुभाव महिला लेखकों को "छिनाल" कह रहे हैं,अब इन्होने साहित्य जगत में "छिनाल" होने के लिए कौन से मापदंड विकसित किये, उसे तो वे ही जाने, लेकिन मातृशक्ति का अपमान करने के लिए इनकी घोर भर्तसना करनी चाहिए, अब चलिए ललित शर्मा के साथ आज की ब्लॉग4वार्ता पर-----

वाह! वाह! राखी.... हाय..हाय.. राहुल..मैंने तो पहले ही कहा था....जोड़ियाँ आसमान में बनती है | फिर स्वयंवर के नाम पर दूसरे लोगों और अपने आप से मज़ाक किये जाने का क्या मतलब...?? राखी....क्या कहूँ इनके बारे में, पहले तो शादी के नाम पर क्या सीधी..बहुत पहले से उन कदमों की आहट.... आप सभी का जन्म दिन पर दी गई शुभकामनाओं एवं स्नेह के लिए बहुत बहुत आभार. * *सूचना* [image: HC_July2010 copy] नए तेवर और नए कलेवर के साथ..*''हिन्दी चेतना''* का जुलाई-सितम्बर, २०१० अंक प्रिन्...

उल्टा चोर कोतवाल को डांटे---ये भी खूब रहीदिल्ली का ट्रैफिक । साठ लाख वाहन । जिंदगी की भाग दौड़ । सुबह सुबह सब भागने में व्यस्त। ऐसे में क्या क्या दृश्य देखने को मिलते हैं । ज़रा आप भी देखिये । द्रश्य १ : एक चौराहे पर एक गाड़ी वाले ने तीन स्कूटर्...कपडे सुखाती औरतेंबरसात के दिनों में कपडे सुखाती औरतें औरतें नहीं होती प्रबंधक होती हैं बाहर जब धूप नहीं होती कई दिनों तक वे घर के भीतर खिडकियों और दरवाजे के बीच बनती हैं पुल पुराने बिजली के तार या फिर पुरानी नारियल या जूट क...

गुलज़ार को भी कोई नापसंद कैसे कर सकता है भलापकिस्तान के दीना शहर में जन्मे गुलज़ार का वास्तविक नाम समपूरन सिंह कालरा है... बेहतरीन गीतों , नज्मों , गजलों और कहानियों की सौगात देने वाले गुलज़ार ने बच्चों केशाबास,नारी शक्ति की जय हो लिए भी सीधे सादे शब्दों में आसानी से जुबान प...औरंगाबाद से मुम्बई की ट्रिपमित्रों, देव बाबू विवाह के उपरान्त ससुराल के दो ट्रिप लगाए, यकीन मानिये ससुराल के अपनें ही मजे हैं। दामाद की खातिरदारी अपने हिन्दुस्तान में कुछ अजीब तरीके से होती है। एक किस्सा सुनिये... हमारे दुबे जी प...

शाबास,नारी शक्ति की जय हो.एक बार फिर नारी शक्ति ने साबित कर दिया कि उनका कोई मुकाबला नहीं.टिकरापारा कि महिलाओ ने शराब ठेकेदारों को भागने मजबूर कर दिया .आज इसी तरह कि कार्रवाई कि जरुरत है हिन्दी ब्लोगिंग की महत्वपूर्ण बातेंकिसी भी नये ब्लोगर को उसके पहले ही पोस्ट पर इतना स्वागत् और इतनी वाहवाही मिलती है जितनी कि उसे अपने जीवन में पहले कभी न मिली हो! - ब्लोगरों की हर वो रचना जो कि समस्त पत्र-पत्रिकाओं से 'खे...

वर्ष के श्रेष्ठ ब्लॉग.विचारक का सम्मानहिंदी चिट्ठाजगत के एक ऐसे व्यक्तित्व को समर्पित है आज का यह सम्मान जो अपने सदविचारों के लिए जाने जाते हैं ...हिंदी चिट्ठाकारी के उन्नयन की दिशा में सक्रिय चिट्ठाकारों में जिनका नाम पूरे सम्मान के साथ लिया..फ़्रेंडशिप डे पर पिटाई - हंगामा. छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में कल शाम बूढ़ा तालाब स्थित विवेकानंद उद्यान में बजरंगियों ने एक प्रेमी युगल के मुंह पर न केवल कालिख पोती वरन युवक और युवती दोनो को पीटा भी , हमेशा की ही तरह यहाँ तैनात पुलिस मु...

चेहरे पे चेहरा चढ़ाया है मैंनेहर सुबह आईने से मुखातिब होता हूँ किसी रोज़ तो सही सूरत दिखलायेगा चेहरे पे चेहरा चढ़ाया है मैंने एक रोज़ तो ये उतर जाएगा जो कहता है मुझसे मैं सबसे भला हूँ उसी का बुरा अक्सर मैंने किया है ...लोकसंघर्ष परिकल्पना सम्मान में छत्तीसगढ़ के कोहिनूरअभी तक घोषित परिणाम - श्रीमती अल्पना देशपांडे - वर्ष की श्रेष्ठ चित्रकार - संजीव तिवारी - वर्ष के श्रेष्ठ क्षेत्रीय लेखक - ललित शर्मा - वर्ष के श्रेष्ठ गीतकार आंचलिक - गिरीश पंकज ...

बाढ की आशा-"हल्लो...नमस्ते बाबूजी." "हां बेटा, कईसे हो?" "बहुत बढियां बाबूजी." "नोकरिया मिली ?" "नहीं बाबूजी, पर चिन्ता के कोनो बात नाहीं. इस बार हम पूरा तैयारी में है.अतना पैसा कमायेंगे कि कोनो जरुरते नहीं रहेगी." "व...सचिन के अलोचक जरा ध्यान देंसचिन तेंदुलकर की महानता को नकारने वाले लोगों के लिए एक और पोस्ट। इस बारे में पहले ही दो पोस्ट डाल चुका हूं। इस बार सिर्फ आंकड़ों का आइना उठाकर लाया हूं। चलिए, अब आपको आंकड़ों की दुनिया में ले चलते हैं। शायद

नंगई के साथ फ्रैंडशिप-डे का विरोध.*धर्म सेना *और बजरंग दल के उत्पातियों ने *फ्रेंडशिप डे* के दिन रविवार को *रायपुर *पार्कों में जा कर प्रेमियों के साथ जो करतूत की उससे भारतीय समाज का एक नया और ऐसा कुरूप चेहरा सामने आया है जिसकी मजम्मत के .अगस्त यानि क्रांतिकारी महीनाअगस्त यानि क्रांतिकारी महीना* अगस्त का महिना क्रांति का महीना माना जाता है विशेषकर भारत के लिए तो यह "क्रांतिकारी"महीना है। वैसे तो देश का इतिहास ही त्याग और बलिदान से भरा पड़ा है लेकिन अगस्त का महीना अन...

बनो.बनो बींदराजा जद सांबेळा अर तोरण पर पधारे जद बनड़ी रे घर री अर गांव गुवाड़ी री सगळी जणियां उंची मेड़ी मातै चढ र घणे चाव सूं ओ बनो गाया करे बींद ने अणुंतो फुटरो अर बनड़ी रे जोड़ी रो बतावतां जस देवतां। बना सीवा...ये रिश्ते ....मेरे तसव्वुर की आँखें भर आतीं , जब याद आती है शब घूँघट वाली मैं कैसे कहूँ ये रिश्ते मोहब्बत बांटते हें ,जब रही अपनी झोली खाली कल अचानक दूरदर्शन से कबीर जी (गुवाहाटी दूरदर्शन के न्यूज़ रीडर व ऍफ़ एम रेडियो...

अब चलते हैं एक लाइना पर 

ललित भाई आपने मेरा पिटना यद दिला दिलाया-अभी याद दिलाने को और भी बाकी है।

कबूतर! तुम कब सुधरोगे ? जब आब-ओ-दाना बंद हो जाएगा

पिन कोड 273010, एक अधूरा प्रेमपत्र4 --इसे जल्दी पूरा करें-समीकरण हल करें


मैं तेरा दोस्त , तू मेरा हमदम--खाइए दोनो मिलके चमचम 

ग्लोबल होता राजस्थानी साफा--पश्चिमी करण पर पड़ा है लाफ़ा


अब देते हैं वार्ता को विराम -- आपको ललित शर्मा का राम राम--

16 टिप्पणियाँ:

बढ़िया चर्चा रही ललित जी :)

बहुत ही उम्दा..!

बहुत बढ़िया चर्चा...आनन्द आया.

बढ़िया चर्चा रही ललित जी.

अच्छे लेखों का समावेश करती हुई एक बेहतरीन चर्चा.

बहुत-बहुत धन्यवाद!

बहुत बढ़िया ब्लॉग वार्ता ललित भाई ! लगे रहिये !

बहुत बढ़िया चर्चा

बहुत ही सुंदर और संतुलित चर्चा. शुभकामनाएं.

रामराम.

बहुत अच्छी प्रस्तुति।
राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है।

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणी में किसी भी तरह का लिंक न लगाएं।
लिंक लगाने पर आपकी टिप्पणी हटा दी जाएगी।

Twitter Delicious Facebook Digg Stumbleupon Favorites More