बुधवार, 18 अगस्त 2010

नेताजी की मृत्यु १८ अगस्त १९४५ के दिन किसी विमान दुर्घटना में नहीं हुई थी - नेहरूजी के पार्थिव शरीर के पास खड़ा यह भिक्षुक कौन है? - ब्‍लॉग4वार्ता - शिवम् मिश्रा

प्रिय ब्लॉगर मित्रो 
प्रणाम !

आज १८ अगस्त है .........आपका सवाल होगा तो क्या ख़ास है इस दिन में ........तो साहब आज के ही दिन एक बहुत एक बहुत बड़ी पहेली शुरू हुयी थी .........जिस का आजतक कोई भी जवाब नहीं मिल पाया है !
बताया जाता रहा है कि आज के ही दिन यानि के १८ अगस्त १९४५ के दिन नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की मृत्यु एक विमान दुर्घटना में हुई थी। 

वैसे आज तक यह एक पहेली ही है !

जो भी हो इस से नेता जी के भारत देश की आज़ादी के लिए किये गए योगदान पर कोई फर्क नहीं पड़ता ! 

मैं उन लोगो में से हूँ जो यह मानते है कि आज़ादी केवल किसी ' एक ' के कारण नहीं मिली और ना ही अहिंसा से मिली है बल्कि पूरे भारत की जनता की कोशिशो और खुनी बलिदानों का नतीजा है !

ब्लॉग 4 वार्ता  के पूरे वार्ता दल की ओर से नेता जी सुभाष चन्द्र बोस को शत शत नमन !

चलिए आप सब को आज की ब्लॉग वार्ता की ओर ले चलता हूँ  |

सादर आपका


-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------




अदरक बुला रही है, सीटी नहीं बजा रही है :- सीटी तो आप बजाओगे उसकी............. चाय में ड़ाल कर !! 


क्या लिखू ? :- भारत का संविधान .......दोबारा से .......आईडिया कैसा लगा ??

सीबीआई ने पप्पू यादव के आगे गाना गाया..क्या?..देखें! :- अब गाना भी गाने लगे यह लोग ..... सही है जांच तो करने देता नहीं कोई  !



बरसाती चुटकुले.....हा हा हा हा :- आप तो खुद ही हंस दिए !

लघु-शंका :- यहाँ करना सख्त मना है !

चोर - कहानी [भाग 3] :- आगे की कहानी कब आएगी ? 


कुछ और चाँद!! :- एक काफी नहीं था क्या ?

काले अंग्रेजों से मुक्त होने में कितना समय लगेगा :- ना मैं जानू .........ना मेरा अल्लाह जाने !!


ये धोखा है प्यार नहीं :- गनीमत है कि मालुम है ! 

अरे, हम भी सम्बेदनसील हो गए! :- यह कौन सी नयी बात है !?

एक अदद तिरंगे की खोज :- जारी है नेताओ के बंगले में ............ नोट तो बहुत मिले................... तिरंगा एक भी नहीं !

कुछ दिन न्यूयार्क में … :- बिताने हम आ जाये क्या ?


दिस प्रोग्राम इज स्पोन्सर्ड बाय...........! :- मज़ा तो तब आता जब होता .............दिस ब्लॉग इज स्पोन्सर्ड बाय...........!

वो सारी चीजें जो तुमको रुलाएं भेजी हैं। :- कहाँ और क्यों ?

आराम हराम है.... ही ही.... :-देव :- " तेरी दो टकिया दी नौकरी ते मेरा लाखों का सावन जाए! "

-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

आज की ब्लॉग वार्ता बस यहीं तक ...........अगली बार फिर मिलुगा एक और ब्लॉग वार्ता के साथ .......तब तक के लिए .........

जय हिंद !! 

23 टिप्पणियाँ:

बहुत बढिया वार्ता

बहुत बढिया वार्ता शिवम जी

आभार

नेता जी मृत्यु इस शताब्दी की सबसे बड़ी ट्रेजडी है।
इससे संबंधित दस्तावेज सरकार को सार्वजनिक करने चाहिएं।

वार्ता के लिए शुभकामनाएं

बहुत बढिया वार्ता। मुझे एक बात समझ नहीं आती कि मैं सारा दिन ब्‍लाग सर्च करती हूँ फिर भी कुछ पोस्‍ट छूट ही जाती हैं और आप लोग कैसे इतनी अच्‍छी पोस्‍टों को पढ़ लेते हैं। सच में आज मैंने इस वार्ता के जरिए ही कई पोस्‍टों को पढा है, आपका आभार।

शिवम् जी आपकी एक लाईन बहुत ही रोचक होती हैं
बहुत ख़ूब...

आज की चर्चा बहुत बढ़िया रही!
--
नेता जी सुभाष चन्द्र बोस को नमन!

शिवम् भाई नेताजी वाली पोस्ट का लिंक देने के लिए आपका बेहद धन्यवाद...

जय हिन्द्!!
बेहतरीन वार्ता.....

shivam ji..neta ji ko lekar jo charcha ki gayi hai kafi rochak lagi..baaki links ke liye bhi aabhar!

यह क्यों रहस्य ही रह गया ...? कितनी सरकारें आईं औ गयीं ...
लगता है इस महान देशभक्त के साथ हम न्याय नहीं कर सके ! शुभकामनायें !

बहुत दिलचस्प लिंक मिले .

बहुत सही वार्ता रही ये

मेरी ओर से नेता जी सुभाष चन्द्र बोस को शत शत नमन !


क्या लिखू ? :- भारत का संविधान .......दोबारा से .......आईडिया कैसा लगा ??

काश कि शिवम् जी मैं ऐसा कर पाता :)

बढ़िया

रोचक अंदाज़

बहुत बढ़िया वार्ता ...!!

सुंदर प्रस्तुति!

हिन्दी हमारे देश और भाषा की प्रभावशाली विरासत है।

आप सब का बहुत बहुत आभार !

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणी में किसी भी तरह का लिंक न लगाएं।
लिंक लगाने पर आपकी टिप्पणी हटा दी जाएगी।

Twitter Delicious Facebook Digg Stumbleupon Favorites More