शनिवार, 28 अगस्त 2010

नक्कारखाने के--ब्लॉग महंत--वीजा देने से इंकार--ब्लॉग4वार्ता---ललित शर्मा

नमस्कार, हरिप्रसाद ने इवीएम मशीन की खामियों को उजागर किया कि इसे हैक करके मतों में परिवर्तन हो सकता है, इस सच को उन्होने देश की जनता के सामने प्रस्तुत किया, कमियों को निकालने के फ़लस्वरुप उन्हे पुलिस ने गिफ़्तार कर लिया। यह पुरस्कार उन्हे अपनी करनी का मिला। लोकतंत्र में मतदान महत्वपूर्ण  होता है शासक मतपेटी से जन्म लेता है इसलिए मतदाताओं का मत सुरक्षित होना अत्यावश्यक है। मतपत्रों पर कब्जा करना लोकतंत्र का अपहरण है किसी प्रतिनिधि की जीत को चुराने जैसा है। अब चलते हैं आज की ब्लाग4वार्ता पर और सैर करते हैं ब्लाग नगरिया की। आपका स्वागत है.......

सबसे पहले चलते हैं गणतंत्र दस रुपया एक दिन पर जहां पोस्ट लगी हैइस गणतंत्र में सच्चे और भ्रष्टाचार के खिलाप लड़ने वालों क़ी औकात भारत सरकार के नजर में एक कुत्ते बिल्ली से ज्यादा कुछ भी नहीं.....?श्री हरी प्रसाद जिसने इस देश के लोकतंत्र के चुनावी प्रक्रिया क़ी धांधली को उजागर करते हुए यह साबित करने का प्रयास किया क़ी मशीन को कैसे हैक कर किसी एक पार्टी को फायदा पहुँचाया जा सकता है इस बात पर ...अगली   पोस्ट पर चलते हैंएक रिपोस्ट :- एक विनती .... भारत से एक भारतीय की पर---कहीं पढ़ा तो सोचा आपको भी पढ़ा दूँ ....... चाँद अकेला तारे गायब रातों रात नजारे गायब यूं तो थे हमदर्द हजारों वक़्त पडा तो सारे गायब महफ़िल में तो बेहद रौनक हम किस्मत के मारे गायब संदेशों की आवा...
 
 
आज प्रवीण त्रिवेदी का जनमदिन है ढेर सारी शुभकामनाएं--आज, 27 अगस्त को प्रायमरी का मास्टर वाले प्रवीण त्रिवेदी का जनमदिन है। बधाई व शुभकामनाएँ *आने वाले **जनमदिन आदि की जानकारी, अपने ईमेल में प्राप्त करने के लिए यहाँ क्लिक करें**।* बीज कभी नहीं मरते हैं...कभी मन से रोपे गए कभी अनजाने में गिर के ज़मीन पर दब गए ज़मीन में जैसे थोपे गए कभी लगातार बरसातों से बेअसर कभी उग आते कुछ बूंदों से ही भीगकर चिड़ियों के छिटकाए किसानों के बिखराए बचपन में फेंके गए भूले बिसर...

रामबती जाग उठी “रोगहा, भड़वा अब मार के देख, तोर मुर्दा नई रेंगा देंव त मोर नाम रामबती नइए”- रामबती गरज रही थी। ढेलु डंडा लेकर खड़ा था उसके सामने,बीबी भी साथ में थी। नल पर भोर में मजमा लगा था,पानी भरने वालों का। सभी मुंह फ़ा...अब यहाँ भी नक़ल ?यह एक ऐसी खबर जिस पर शायद पूरे राष्ट्र को शर्म आये फिर भी एक ऐसा क्षेत्र जिसके बारे में आज भी देश के आम जनों को बहुत भरोसा है कि यहाँ पर आज भी सब ठीक चलता है ? आंध्र प्रदेश के वारंगल जिले में २४ अगस्त कानू...

स्टार्ट-रीस्टार्ट बटन और कज्जली तीज की मेहंदीरात को इसी ब्लाग की एक पोस्ट टाइप करने में लीन था। दो चरण समाप्त हुए और एक चित्र जरूरत पड़ी जो राँच साल से कंप्यूटर में सहेजा हुआ है, उसे तलाश करने लगा। वह मिला ही नहीं। पोस्ट अधूरी थी। कंप्यूटर उसे तलाश क...दीनदयाल शर्मा की एक ख़ास बाल कविता - शिकायतशिकायत / दीनदयाल शर्मा पांच बरस की बेटी मानसी न जाने क्यों नाराज़ है घर के एक कोने में खड़ी मुझे देखते ही फूट पड़ी पापा, अपनी पत्नी को समझा लो, मुझे मारती रहती है घर घर खेलती हूँ तो कहती है पढ़ चि...

हितेन्‍द्र पटेल की 'हारिल'अरसे बाद, एक बैठक में पढ़ जाने वाली पुस्तक हितेन्द्र पटेल की 'हारिल' मिली। फ्लैप पर कहे गए ''सरल गति के कारण बेहद रोचक और पठनीय तथा प्रौढ़ मगर सहज लेखकीय निर्वाह'' की पुष्टि पहले पेज से होने लगती है और आखी...नवभारत का कारनामा, किसमें है दमपैसा पटाया नहीं बिल्डिंग बना दी  लगता है छत्तीसगढ़ में सरकार नाम की चीज नहीं है और यदि कही सरकार है भी तो वह केवल बड़े लोगों के मुठ्ठी में कैद है। अपने को तुरम खां कहने वाले मंत्री और छोटे-छोटे लोगों के कब्ज...

पिछड़ा वर्ग की सामाजिक स्थिति का विश्लेषण :रमेश प्रजापतिपुस्तक समीक्षा * समाजशास्त्र की ज्यादातर पुस्तकें अंग्रेजी में ही उपलब्ध होती थी, परन्तु पिछले कुछ वर्षो से हिन्दी में समाजशास्त्र की पुस्तकों के आने से सामाजिक विज्ञान के छात्रों के लिए संभावनाओं का एक न...मुस्लिम आक्रमणकारियों ने तो सिर्फ भारत को लूटा पर अंग्रेजों ने भारत को न केवल लूट कर दरिद्र बनाया बल्कि उसकी संस्कृति और सभ्यता का भी नाश कर दियामुस्लिम आक्रमणकारियों ने तो भारत की अपार सम्पदा में से उसके सिर्फ एक छोटे से हिस्से को ही लूटा था। उनकी लूट के बावजूद भी सत्रहवीं शताब्दी के के अन्त तक भारत संसार का सर्वाधिक धनाड्य देश था। किन्तु भारत दरि...

प्रदूषण के कितने प्रकार(१) *प्रदूषण के कितने प्रकार* पूछना न कभी किसी से यार भौतिक, शारीरिक या चारित्रिक हर कोई प्रदूषण झेल रहा है कुछ दूसरे पर ठेल रहा है (२) सरकार बनाती है योजनायें तय करती है एक समय सीमा हम जो ठहरे आलस ...काम और मृत्युतुम्हारे कामुक वक्षों को मेरे कर्मठ हाथों ने कभी श्पर्ष नहीं किया. न ही मदहोश कर देनेवाली तुम्हारी होठ मेरे जीवन-प्रवाह को चूम सकी. तुम्हारा यौवन मेरे निकट आकर भी मेरे पुरुषार्थ को भोग न सका. क्योंकि जीवन क...

ब्लॉग महंत...........ब्लॉगिंग का ककहरा पढ़ते मिस्टर मदन.......आलू का जीजा........ढेला ढोवन.......सतीश पंचम पिछली गर्मियों में जब गाँव गया था तब ककड़ी के खेतों में एक दिन फोटो शूट कर रहा था। तरह तरह की ककड़ियां दिख रहीं थी। हर एक ककड़ी किसी न किसी फल या सब्जी की रिश्तेदार की तरह लग रही थी। किसी ककड़ी की ...चीन ने भारतीय सेना के जनरल को वीजा देने से इंकार कियाचीन ने एक बार फिर कश्मीर मुद्दे को तूल देते हुए चीन जा रहे एक भारतीय सैन्य प्रतिनिधिमंडल में शामिल भारतीय सेना की उत्तरी कमांड के प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल बी. एस. जसवाल को वीजा देने से इसलिए इंकार किया है,...

रानी लक्ष्मी बाई की सखी झलकारी, इतिहास मौन है जिसके बारे मेंझलकारी", महारानी लक्ष्मीबाई का दाहिना हाथ, समर्पण और वफादारी का दूसरा नाम। अपने देश और सहेली के लिए जिसने अपने प्राणों की भी परवाह नहीं की। पर इतिहास ने उसे उतनी तवज्जो नहीं दी जितने की वह हकदार थी। झांस...काश हम बच्‍चे ही होते .. धर्म के नाम पर तो न लडते !!बात पिछले नवरात्र की है , मेरी छोटी बहन को कंजिका पूजन के लिए कुछ बच्चियों की जरूरत थी। इन दिनों में कंजिका ओं की संख्या कम होने के कारण मांग काफी बढ़ जाती है। मुहल्‍ले के सारे घरों में घूमने से तो अच्‍छा...

बेलफास्ट(यू.के.) में पहले हिन्दी कवि सम्मलेन की झलकियाँ और अन्य तस्वीरेंआज सोच रहा था कि जैसा आपसे कल कहा था कल रात के कवि-सम्मलेन की रिपोर्ट दे दूँ आपको.. लेकिन लगता है कि आज शाम से पहले समय नहीं मिल पायेगा.. तब तक कवि सम्मलेन की झलकियाँ और अन्य तस्वीरें देखिएगा... महेंद्र अज...नक्कारखाने के...आज एक मित्र का ईमेल मिला, पूछा था कि आजकल आप कोई लेख-वेख नहीं लिखते ! जबाब देने की सोची तो ये पंक्तियाँ फूट पडी ; सुबह शाम ये जो भ्रष्ट, नाक रगड़ते हैं इतावली जूतियों पर ! मैं अपना कागज-कलम घिसकर समय बरबाद...

रामायण की चौपाइयाँ....यह प्रविष्ठी मैं दोबारा डाल रही हूँ... इस कविता को मैंने उस दिन लिखा था, जिस दिन मेरे बड़े बेटे *मयंक शेखर* का जन्म हुआ था, याद है मुझे इसे लिखकर जैसे ही मैंने पूरा किया था डाक्टर साहिबा ने मेरे हाथ से ...एक वीर जिसने दो बार वीर-गति प्राप्त कीजलम्यो केवल एक बर, परणी एकज नार | लडियो, मरियो कौल पर, इक भड दो दो बार || उस वीर ने केवल एक ही बार जन्म लिया तथा एक ही भार्या से विवाह किया ,परन्तु अपने वचन का निर्वाह करते हुए वह वीर दो-दो बार लड़ता हुआ ...

इस दिल ने धड़कना छोड़ दिया...खुशदीप*जिस दिन से जुदा वो हमसे हुए,* * * *इस दिल ने धड़कना छोड़ दिया,* * * *ए चांद का मुंह उतरा-उतरा,* * * *तारों ने चमकना छोड़ना दिया...* इस गीत में वो जहां आ रहा है उसे ब्लॉगिंग मान कर सुनें...डोपिंग के दोषी का अवार्ड छिनवायाहमारी सक्रियता से सही खिलाड़ी को मिला पुरस्कार * प्रदेश के खेल पुरस्कारों में इस बार शहीद कौशल यादव पुरस्कार डोपिंग के एक दोषी खिलाड़ी सिद्धार्थ मिश्रा को दे दिया गया था। लेकिन हमारी सक्रियता के कारण अंत...

अब चलते हैं एक लाइना पर.

आइये मोबाईल द्वारा अपने पीसी या लैपटोप पर नेट चलाये बिना बिजली, बैटरी का भी जुगाड़ बताएं।

गेहूँ का सेवन ज़रा संभलकर --हम तो चावल खाने वाले छत्तीसगढिया हैं।

मुंबई से उज्जैन यात्रा सीट पर पहुँचते ही १५ वर्ष पुरानी यादें ताजा हुईं--जरुरी है यादें भी

दिल्ली में हमारी लड़ाई लड़बे नया सिपहिया आया है.--तुरते ही ज्वाइन कराएं सिपहिया को ड्युटी

हजारो गायों कुर्बान हो जाएँगी -कॉमनवेल्थ गेम के नाम पर--घोर निंदनीय है गायों की हत्या

आँसूं को बहुत समझाया तन्हाई में आया करो--लेकिन सर-ए-आम आ जाते हैं क्या कीजै

व्यंग्य चित्र इरफ़ान के

 

वार्ता को देते हैं विराम -- आपको ललित शर्मा का राम-राम...................

24 टिप्पणियाँ:

बहुत ही अच्छी ब्लॉग-वार्ता ..
अच्छे लिंक्स से सुसज्जित...

शर्मा जी
छा गये गुरु आप तो
आपमे जो बात है उसके लिये नत मस्तक हूं

आपकी चर्चा दिन-प्रतिदिन निखरती जा रही है.
आज भी चर्चा का रंग काफी चटख है
ढेर सारे लिंक्स है जो जरूरी है.
आपका आभार

आपने हरी प्रसाद के समर्थन में आवाज उठाई इसके लिए धन्यवाद ,हरी प्रसाद जी जैसे लोगों का भारत सरकार द्वारा अपमान पूरे लोकतंत्र का अपमान है ...

हरी प्रसाद जी जैसे लोगों का भारत सरकार द्वारा अपमान पूरे लोकतंत्र का अपमान है ,हमारा आग्रह है की इस देश भक्त के समर्थन में सभी ब्लोगर एक पोस्ट जरूर लिखें ...

हरी प्रसाद जी जैसे लोगों का भारत सरकार द्वारा अपमान पूरे लोकतंत्र का अपमान है ,हमारा आग्रह है की इस देश भक्त के समर्थन में सभी ब्लोगर एक पोस्ट जरूर लिखें ...

हरी प्रसाद जी जैसे लोगों पर लोकतंत्र को बचाने के उम्दा प्रयास के बदले पुलिस द्वारा उन्हें गिरफ्तार करना पूरे लोकतंत्र का अपमान है तथा हर भारतीय के लिए शर्मनाक भी ,हमारा आग्रह है की इस देश भक्त के समर्थन में सभी ब्लोगर एक पोस्ट जरूर लिखें ...

हरी प्रसाद जी जैसे लोगों पर लोकतंत्र को बचाने के उम्दा प्रयास के बदले पुलिस द्वारा उन्हें गिरफ्तार करना पूरे लोकतंत्र का अपमान है तथा हर भारतीय के लिए शर्मनाक भी ,हमारा आग्रह है की इस देश भक्त के समर्थन में सभी ब्लोगर एक पोस्ट जरूर लिखें ...

हरी प्रसाद जी जैसे लोगों के समर्थन में देश के हर कोने से आवाज को बुलंद करने की जरूरत है तब जाकर यह देश बचेगा |

हरी प्रसाद जी जैसे लोगों के समर्थन में देश के हर कोने से आवाज को बुलंद करने की जरूरत है तब जाकर यह देश बचेगा |

बढ़िया लिंक्स से सुसज्जित सुन्दर चर्चा

बड़ी सदी हुई वार्ता के लिए आभार ललित जी !

सुन्दर प्रस्तुति.

चर्चा तो सुंदर है ही, इरफान का बनाया कार्टून भी मजेदार लगा।

हरी प्रसाद वाले मामले में इतना ही कहूंगा कि लालफीताशाही जब अपने उफान पर होती है तब ऐसे ही उजबक फैसले लिए जाते हैं। खामी बताने पर तुरंत गला पकड़ लिया जाता है।

इस बेहद उम्दा, लिंक्स से सुसज्जित, ब्लॉग वार्ता में मेरी पोस्ट को शामिल कर सम्मानित करने के लिए आपका बहुत बहुत आभार ...ललित भाई !

बहुत उम्दा वार्ता रही ..अच्छे लिंक्स मिले ...

बहुत ही सुंदर चर्चा, धन्यवाद

यह शत प्रतिशत सही है कि अंग्रेजों ने हमारी संस्कृति को निशाना बनाकर गहरी चाल चली थी .आज भी हम उसका कुफल भोग रहे हैं.

उत्तम चर्चा पर बधाई.

इस पोस्ट को न पढ़ा होता,तो कई अच्छे लिंक्स से चूक जाता। धन्यवाद।

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणी में किसी भी तरह का लिंक न लगाएं।
लिंक लगाने पर आपकी टिप्पणी हटा दी जाएगी।

Twitter Delicious Facebook Digg Stumbleupon Favorites More