मंगलवार, 17 अगस्त 2010

है बड़ा भूखा सभी को एक दिन यह खाएगा----ब्लॉग4वार्ता----ललित शर्मा

नमस्कार, आजादी की एक और वर्षगाँठ हमने मना ली, आशा है कि जो सपने हमने संजोए है  वे पूरे होगें, विश्व के विशाल लोकतंत्र में जनता जागेगी, अपने अधिकारों का उचित उपयोग करेगी। आज की वार्ता में मैं कुछ चुनिंदा चिट्ठों के लिंक दे रहा हूँ समय कम है,अब चलते हैं ब्लाग4वार्ता पर...

देशनामा को एक वर्ष पूर्ण हो चुके हैं खुशदीप भाई को देशनामा के जन्मदिवस पर ढेर सारी शुभकामनाएं, ब्लॉगिंग का एक साल और आपका साथ (1)...खुशदीप..ब्लॉगिंग का मेरा एक साल पूरा होने पर आप सब के साथ यादों का एक झरोखा...लेकिन सबसे पहले बात '*ब्लॉगिंग के सरदार'* *बी एस पाबला* जी की...कल पाबला जी का ये कमेंट मिला... *इस ब्लॉग जगत में आपके ब्लॉग को एक व. शिवम मिश्रा जी ने भी अपने ब्लाग की..५०० वी पोस्ट पूरी कर ली है :- ब्लॉगिंग ने पूरे किए ११ साल पुरे कर लिए|यदि अंग्रेजी, हिंदी और अन्य भाषाओं में ऑनलाइन अभिव्यक्ति के माध्यमों की बात की जाए तो जिस एक शब्द पर सबकी निगाहें रुकती है, वह ब्लॉग है। वर्ष 1999 में पीटर मर्होल्ज नाम के एक व्यक्ति ने इस शब्द का इजाद कि...

ताऊ पहेली - 87 (कांगड़ा दुर्ग, कांगड़ा ,हिमाचल प्रदेश) विजेता : श्री प्रकाश गोविंद प्रिय भाईयो और बहणों, भतीजों और भतीजियों आप सबको घणी रामराम ! हम आपकी सेवा में हाजिर हैं ताऊ पहेली 87 का जवाब लेकर. कल की ताऊ पहेली का सही उत्तर है Kangra fort-kangra-Himachal Pradesh और इसके बारे मे संक्...आकर्षक ब्लागर टेम्प्लेट , रुपये 5000/- मुल्य के , मुफ्त आपके लिये!आकर्षक ब्लागर टेम्प्लेट , रुपये 5000/- मुल्य के , आपके लिये! मैं बहुत दिनों तक ब्लाग पर सक्रिय रहा। और पत्रकारिता के अलावां मुझे अंतरजाल Continue Reading »

उड़न तश्तरी पर मुद्दतों बाद….स्वतंत्रता दिवस के मौके पर आप एवं आपके परिवार का हार्दिक अभिनन्दन एवं शुभकामनाएँ.* आज एक गज़ल, जो चंद रोज पहले महावीर ब्लॉग पर छपी थी. महवीर ब्लॉग से अपनी गज़ल का छपना एक गौरव की अनुभूति देता है, बहुत आ...सच-झूठ, दोस्त और दुश्मनक्या आपको नहीं लगता कि हमें उन लोगों का शुक्रगुजार होना चाहिए जो लगातार झूठ बोलते हैं। यदि झूठ बोलने वाले नहीं होते तो शायद हमें सच की कीमत का अन्दाजा भी नहीं होता। इसी तरह हमें धोखा देने वालों का भी शुक्र...

टिप्पणी और पठन के खेल निराले मेरे भैया .....आज दिनांक 16-08-10 को सुबह लगभग 9.15 बजे चिट्ठाजगत के *धड़ाधड़ टिप्पणियाँ* और *धड़ाधड़ पठन* हॉट लिस्टः *क्र.**धड़ाधड़ टिप्पणियाँ**धड़ाधड़ पठन* 1.जिसे सर झुकाती है हिंन्द सारी .......स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनओं ...ब्रिटनी मर्फी और ये याद का टीलापानी के बह जाने के बाद रेत पर जानवरों के खुरों के निशान बन आये हैं. उन्हीं के साथ चलता हुआ एक छोर पर पहुँच कर बैठ जाता हूँ. सामने एक मैदान है. थोड़ा भूरा थोड़ा हरा. शाम ढलने में वक़्त है. ये विक्रमादित्य क...

प्रेसियस चाइल्ड की देखभाल ज्यादा करनी पड़ती है  आजकल सचिन तेंदुलकर के बाल बहुत सुर्ख़ियों में हैं । घुंघराले बालों को सीधा कराकर जैल से सैट कर, विश्व कप फुटबाल मैच देखते हुए ज़नाब किसी हॉलीवुड हीरो से कम नहीं लग रहे थे । सुना है अब सब युवा उनकी हेयर स्टा...मर्यादा का पालन !राजनीति में मर्यादा का भी पालन होना चाहिए : मनमोहन सिंह * एक और !! *रहम करो माई बाप !* *माया-ममता का पालन करते-करते* *तो हम सड़क पर आ गए और आप है* *कि.......!!!! *.

ये धोखा है प्यार नहींएक कच्ची सी नज़्म लिखी जो पकने को तैयार नहीं मैं शमा बनी वो परवाना वो जलने को तैयार नहीं आहें भी भरी आंसू भी बहे दिल मिलने को तैयार नहीं आज़ादी दी और पंख दिए वो उड़ने को तैयार नहीं सब जग छोड़ा ज...ईटानगर मे स्वतंत्रता दिवस समारोहकल १५ अगस्त को सारे भारत वर्ष की तरह ईटानगर मे भी स्वतंत्रता दिवस काफी जोश से मनाया गया। हालाँकि यहां एक दिन पहले बारिश हुई थी जिसकी वजह से १५ अगस्त को मौसम काफी सुहावना था । हाँ थोड़ी-थोड़ी बूंदा-बादी हो रह.

पूरे २१ दिन और कुछ घंटे लग गए यहाँ वापस आने मेंआखिर पूरे 21 दिन और कुछ घंटों के पश्चात सरकारी फोन में जान आ ही गयी। बड़ी गरीब सी चीज हो गया है यह बेचारा। हो क्या गया है बना दिया गया है इसे। नहीं तो सारी कंपनियों को मिलाने के बाद भी जिसके, चाहे मजबूरी मे...सूनापन:शेखावत हिम्मत की पहली रचनाबॉलीवुड में फेशन फोटोग्राफी करने वाले हिम्मत सिंह शेखावत में आज हिंदी ब्लॉग जगत में अपना पहला कदम रखते हुए ज्ञान दर्पण पर एक शानदार रचना प्रस्तुत की | जो आप यहाँ चटका लगाकर पढ़िए व हिम्मत सिंह शेखावत का हिं...

 है बड़ा भूखा सभी को एक दिन यह खाएगा...जीवन के उतार-चढ़ाव को लेकर कई बार कुछ लोगों को निराशा होती है, लेकिन जो सच है, उसका सामनाकरना ही चाहिए. सफलता-असफलता आगे-पीछे होती रहती है. कभी कोई जीवन के केंद्र मे रहता है तो कभी हाशिये पर भी चला जात... जीवन के रंग...(एक कहानी)हे भगवान् !..आज फिर देर हो जायेगी ..ओ भईया ज़रा जल्दी करना ...मैंने रिक्शे वाले से कहा ..वो भी बुदबुदाया ..रिक्शा है मैडम हवाई जहाज नहीं...और मैं मन ही मन सोचे जा रही थी...ये भी न ! एक कप चाय भी नहीं बन...

"रेड-फोर्ट" से सुना रहा है, कथा तरक्की का बन्दा"देशभक्ति का ज्वार उठा कल, लहराया था बाहों में। * *गया ज्वार अब देख पड़ा हूँ, खारों के संग राहों में।* *हम दुनिया में सबसे अच्छे, दुनिया के सिरमौर हैं हम।* *कितनी जल्दी आ जाता हूँ, मैं ऐसी अफवाहों में। *...यूँ बदली है दुनियाखामोशी भी सरगम गाए करे तन्हाई अब चहल पहल पंख हजारों मिले सपनों को अरमानो ने भरी उड़ान खिले मन की बगीया में कई फूल अचानक उमंगों के भँवरें गुन गुनाए तन मन महक उठा चन्दन सा बरखा भी गीत ख़ुशी के गाए इन्द्रधनुष स..

मजदूर औरतों की पीठमजदूर औरतों की पीठ अक्सर दिख जाती है पाथते हुए उपले गढ़ते हुए ईट उठाते हुए धान की बोरियां हांकते हुए बैल , गाय चराते हुए बकरी एक्सपोर्ट हाउस में काटते हुए कपडे सिलते हुए सपने या फिर गहराती रात में स्ट्रीट ला...यू.के. में एक मजदूर भी काफी चैन का जीवन बिता सकता है,मगर आज़ाद भारत में ?अभी तक आप सभी इस परिचर्चा (आपके लिए आज़ादी के क्या मायने है?) के अंतर्गत श्री समीर लाल जी, रश्मि प्रभा जी और दिगंबर नासवा जी के विचारों से रूबरू हुए हैं ! इसी क्रम में आईये अब वर्ष के श्रेष्ठ परिचर्चा लेख...

चलते चलते एक व्यंग्य चित्र



वार्ता को देते हैं विराम-आप सभी को ललित शर्मा का राम राम.............

17 टिप्पणियाँ:

उम्दा वार्ता लगाई है आपने..!

सुंदर प्रस्तुति!


“कोई देश विदेशी भाषा के द्वारा न तो उन्नति कर सकता है और ना ही राष्ट्रीय भावना की अभिव्यक्ति।”

बढ़िया लिंक्स से सुसज्जित उम्दा प्रस्तुति

सुंदर चर्चा! खास तौर पर 'मजदूर औरतों की पीठ ", "मुदात्तों बाद" "धोका है प्यार नहीं" "रेड फोर्ट से " अदि. बहुत सुन्दर आयोजन !

सुन्दर आयोजन !मुझे शामिल करने के लिए विशेष धन्यबाद ! "रेड फोर्ट", मुदात्तों बाद" आदि रचनाये अच्छी हैं ! कार्टून बेहद प्रभावशाली है !

बेहद उम्दा ब्लॉग वार्ता, ललित भाई .........मेरी पोस्ट को शामिल करने के लिए आपका बहुत बहुत आभार !

hamesha ki tarah iss baar bhi zordar mehanat hui hai shreshtha link khojane me. badhai...

बहुत बढ़िया वार्ता ...अच्छे लिंक्स देने का आभार

एक और सुन्दर, उम्दा वार्ता ललित जी !

बहुत आची चर्चा

अच्छी वार्ता |बधाई
आशा

अच्छा लिखा आपने .

बेहतरीन वार्ता

रामराम.

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणी में किसी भी तरह का लिंक न लगाएं।
लिंक लगाने पर आपकी टिप्पणी हटा दी जाएगी।

Twitter Delicious Facebook Digg Stumbleupon Favorites More