शुक्रवार, 10 सितंबर 2010

प्रश्न - आप कौन से नम्बर के भारतीय हो ? - ब्लॉग 4 वार्ता - शिवम् मिश्रा

प्रिय ब्लॉगर मित्रो,
प्रणाम !

एक भारतीय मूल के शोधकर्ता द्वारा किए गए अध्ययन में दावा किया गया है कि इंटरनेट किशोरों को अवसाद से निपटने में मदद कर सकता है।
यूनिवर्सिटी आफ सिडनी की डा. सुवीना सेठी तथा उनके सहकर्मियों ने अपने अध्ययन में पाया कि आनलाइन आपसी संवाद आधारित मानसिक स्वास्थ्य सेवा तथा पारंपरिक काउंसलिंग किशोरों के मानसिक स्वास्थ्य में सुधार लाने में मदद कर सकती है।
इंटरनेट सेल्फ हेल्प फोर डिप्रेशन शीर्षक वाले इस अध्ययन में मौजूदा आनलाइन मानसिक स्वास्थ्य सेवाओं के प्रभाव को जांचने की कोशिश की गई थी। इस अध्ययन रिपोर्ट के तथ्य में जर्नल आफ टेक्नोलोजी इन ह्यूमन सर्विसेज में प्रकाशित हुए हैं। 

वैसे इन्टरनेट ने हम हिंदी ब्लॉगर लोगो को भी आपस में संवाद करने में काफी मदद की है.........अब इस से अवसाद कितना कम हुआ या बढ़ा यह तो आप जाने या राम जाने ! ;-)

हम तो बस इतना जानते है की आज ब्लॉग 4 वार्ता  के इस मंच पर ब्लॉग वार्ता लगाने की हमारी बारी है ....तो आइये चलते है ब्लॉग जगत की एक सैर को |

सादर आपका  

-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

जब एक के बाद एक ध्वस्त होते रहे टैंक और भागी पाकिस्तानी सेना :- अमर शहीद हवलदार अब्दुल हमीद को हमारा शत शत नमन !


नीरो बाँसुरी बजाता है... :- रोम जलता है तो जले उसके बाप का क्या जाता है !

पागल – लघु कथा :- वैसे तो हर पागल की होती है  एक अलग व्यथा !









आप डाक्टर हैं या कसाई ?---ZEAL :- आजकल दोनों में कुछ ख़ास फर्क रह तो नहीं गया है !

एक-दूजे के लिये..! :- क्या क्या करोगे ?

कौन सुनता विस्फोट :- सब बहरे है यहाँ !


वो होंगे कामयाब … :- जी जरूर ....हम भी यही दुआ करते है !

प्रश्न :- है कोई जवाब ??

सिंगापुर से.......! (पार्ट -2) :- क्या लाये है हमारे लिए ?

मेरा शून्य :- इसको इन सन्नाटों में रहने दो !!


आप कौन से नम्बर के भारतीय हो ? :- जी एकदम पक्का जवाब दे रहा हूँ .....३ नंबर के है जी !!

राष्ट्रमंडल खेलों का नहीं,सेक्स रैकेटों की तैयारियां पूरी :- चलो किसी बात की तो तैयारी पूरी हो गयी समय पर !

सात फेरों का बंधन :- कितना मजबूत होता है ?

कुछ ' शब्द ' जो तैरेंगे फिजाओं में ... एक सपना देखिये आप भी ! ... क्योंकि फैसला अब आने ही वाला है... :- सब इंतज़ार में है !!

टिप्पणी नहीं चाहिए। No comments please! :- पर क्यों ?

मेरी मौत का आखरी पैगाम--------- :- किस किस के नाम ??

एस के पाण्डेय का व्यंग्य – एक मास्टर का मूड :- आज पढ़ाने का है !!

ब्लोगिंग में अनुशासन का महत्व .... :- कितने जानते है और कितने मानते है ??

कोई लड़की बोर ही नहीं होती ! :- है ना कमाल ??

पाखण्ड अच्छा है :- सिर्फ़ अच्छा ......अरे हुज़ूर बहुत अच्छा कहिये !


वामपंथी क्रान्तिकारी चे ग्वेवारा, भारत माता और सरस्वती से भी बड़े हैं…? :- बिलकुल नहीं !!

लव ..कैन किल यू...! :- बट हाउ ?

मैनपुरी में कम्प्यूटर शिक्षा :- खुद फर्जी और बांट रहे असली ज्ञान - प्रशासन बेखबर , छात्र हैरान !! :- हद है !

ये क्या है???? :- आप बताओ ?

देश के सभी कानून अंग्रेजी, हिन्दी और क्षेत्रीय भाषाओं में इंटरनेट पर उपलब्ध क्यों नहीं? :- इतनी महेनत कौन करे ?

देवदूत???????? :- या यमदूत ????????

११ सितम्बर......क़ुरान जलाओ दिवस :- ह्म्म्म !!

नज़ीर अकबराबादी की ईद :- ईद मुबारक !!

वह कुछ असमंजस में पड़ गयी :- पर क्यों ??

ताऊ अस्पताल में बाबा श्री ललितानंद जी महाराज :-  पूजा करवाने गए थे या बीमार थे ??

ग़ज़ल पढ़िए और देखिये कि कैसे एक कुकुर को आती है गिनती और जोड़, घटाना------->>>दीपक मशाल :- क्या बात है !!

आप समझ भी नहीं पाते और पल में जिंदगी का ढर्रा बदल जाता है. :- सत्य वचन !

....और ये रही सेंचुरी पोस्ट ;) :- बहुत खूब .... ऐसे ही झिलाते रहो, भईया !!

मेरी जिंदगी के कुछ लम्हे (राजदूत मोटर साईकिल, मेरी हीरो रेंजर और कालिया का वेस्पा स्कूटर..) :- मेकनिक हो का ??

नास्तिक अपना मुसीबत भरा समय किसके सहारे काटें ?? :-क्यों आप हो ना !

नीतिगत मामलों में सर्वोच्च न्यायालय व्याख्या ना करें क्योंकि ये अधिकार सोनिया गाँधी को है ....? :- और क्या मुझे या आपको ??

एक भीगी सी शाम और शर्मशार कर देने वाले विचार. :- यह मौसम का जादू है मितवा !!

और यह रही आज की ५१ वी लिंक ........

हरितालिका तीज व्रत - पूजा :- हमारे घर पर आज हो रही है !

-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
आज की ब्लॉग वार्ता बस यहीं तक अगली बार फिर मिलुगा एक और ब्लॉग वार्ता के साथ तब तक के लिए ......

जय हिंद !!

39 टिप्पणियाँ:

सारे लिंक्स छूटे हुए थे, यहीं से जा रहा हूँ सब जगह!

झकास वार्ता, शानदार लिंक, बधाई जी बधाई।

यहीं से जा रहा हूँ सब जगह!

बहुत अच्छी प्रस्तुति।

हिन्दी, भाषा के रूप में एक सामाजिक संस्था है, संस्कृति के रूप में सामाजिक प्रतीक और साहित्य के रूप में एक जातीय परंपरा है।

हिन्दी का विस्तार-मशीनी अनुवाद प्रक्रिया, राजभाषा हिन्दी पर रेखा श्रीवास्तव की प्रस्तुति, पधारें

बहुत बढ़िया वार्ता ...बहुत से लिंक्स मिले ..आभार

बहुत बढ़िया वार्ता शिवम् जी ! रचनाओं की हेडिंग के संग नुक्ताचीनी अच्छी और उम्दा किस्म की है !

.
शिवम् जी, बहुत सुन्दर वार्ता। आपकी इस अथक मेहनत के लिए बधाई एवं बढ़िया लेख पढवाने के लिए आभार।
.

ब्लॉग 4 वार्ता को आपने बहुत सुन्दर लिंक्स से सजाया है!

बहुत अच्छी परिचर्चा रही...बधाई

बहुत बढ़िया वार्ता शिवम् जी,बधाई !

अब तक तो सुना था नेट से अवसाद बड़ता है :) अच्छा लगा पढकर कि घटता है :)
बढ़िया वार्ता.

बडी शानदार चर्चा की है……………काफ़ी लिंक्स मिले …………………आभार्॥

isa guldaste men sajaye sare phool mahak rahe hain aur kheench rahe hain apani or.
meri post shamil karne ke liye dhanyavad.

बहुत बढ़िया चर्चा..... बधाई

बटोर आप लाए हैं
और बांट रहे हैं सब
लग रहा है कितना सुखद।

सार्थक और सराहनीय प्रयास है आपका ,आपके इस प्रयास के लिए आभार ...

वाह जी, बहुत से लिंक्स पर पढ़ आये।

मिश्राजी,

एक आलसी ब्लॉग प्रेमी का धन्यवाद स्वीकार कीजिए।
हमें बलॉग लिखने के लिए समय नहीं मिलता, और न ही हम इतना मेहनत करने के लिए तैयार हैं, इसलिए औरों के ब्लॉग पर जाकर आनंद उठाते हैं।
और कभी टिप्पणी भी किया करते हैं। बस इसीसे ही मेरा यह शौक पूरा हो जाता है।
इतने सारे अच्छे ब्लॉग हैं कि समझ में नहीं आता कहाँ कहाँ जाऊँ।
आपने मेरा काम आसान कर दिया।
जिसे खाने का शौक है उसे यदि एक ही रेस्टोराँट में तरह तरह के पकवान और मिठाइयाँ मिल जाए तो कैसे लगेगा?
बस यही अनुभव हम यहाँ महसूस कर रहें हैं।
अपना प्रोजेक्ट जारी रखिए।
शुभकामनाएं
जी विश्वनाथ, बेंगळूरु

बेहतरीन चर्चा!

ईद की बहुत-बहुत मुबारकबाद!

बहुत सुंदर लिंक्स हैं। पढ़ने को बहुत कुछ।

मेरे [पोस्ट को इस चर्चा में शामिल करने के लिए बहुत आभार :)

लगता है कि कम्प्यूटर अब ठीक हो गया है.. सिवम बाबू, आज त हमरी सिरीमती जी भी तीज का कथा पढकर खुस हुईं.. इसके लिए आपको खास धन्यवाद!!

कई रोचक पोस्टों के समागम ने चर्चा को अलग ही दर्ज़ा दे दिया है.. बधाई शिवम् भाई..

बहुत मेहनत भरा काम है चिठ्ठो के लिन्क देना . वह भी रोज़

शानदार, जानदार और धमाकेदार वार्ता! बहुत बहुत धन्यवाद इतने सारे लिंक मिले !

Vaah Bahut hi lajawaan charcha hai. Bahut se maye link hai is charcha mein. Dhanyawad

शिवम भाई आज ब्लाग वार्ता की धूम है।
धूम 2 हो जाए तो आनंद मंगल हो जाए।

हा हा हा

ललित भाई ,
कल की ब्लॉग वार्ता आप लगा लो .......सब कुछ ठीक रहा तो परसों लो धूम २ !!

आप सब का बहुत बहुत आभार !

.
.
.
वाकई आपने पूरे ब्लॉगवुड की सैर करा दी,
कई सारे अच्छे लिंक मिले,

मेरी पोस्ट को शामिल करने हेतु आभार!


...

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणी में किसी भी तरह का लिंक न लगाएं।
लिंक लगाने पर आपकी टिप्पणी हटा दी जाएगी।

Twitter Delicious Facebook Digg Stumbleupon Favorites More