शुक्रवार, 17 सितंबर 2010

मुख्‍य मंत्री करेंगें ललित शर्मा जी की वेब पोर्टल ललित कला डाट इन का लोकार्पण - आखिर ब्लॉगर्स की इज्जत का सवाल है भाई। - ब्लॉग 4 वार्ता - शिवम् मिश्रा

प्रिय ब्लॉगर मित्रो,
प्रणाम !

आज का दिन श्री ललित शर्मा जी के लिए एक बेहद खास दिन है .......उनका बरसो का सपना आज पूरा होने जा रहा है | आज मुख्यमंत्री जी, ललित जी की, वेब पोर्टल ललित कला डाट इन का लोकार्पण करेंगे ! 

ललितकला .इन ललित शर्मा जी परिकल्पनायो का ही फल है | 

उनके ही शब्दों में, 
 
"प्रिय मित्रों,
भारत की ललित कलाओं को एक मंच पर लाने की मेरी बरसों की तमन्ना थी। जिसमें परम्परागत शिल्प कला, हस्त शिल्प कला,  चित्र कला, एवं अन्य पारम्परिक कलाओं का समावेश हो। ऐसे कलाकार जिन्हे कभी कोई मंच न मिला हो, उनकी प्रतिभा दुनिया की अंधी गलियों में दम तोड़ रही हो, उन्हे एक मंच मिले और वे भी अपनी कला का प्रदर्शन दुनिया के सामने कर सकें। उन्हे वह स्थान मिल सके, जिसको वे डिजर्व करते हैं। मैने देखा है कि गाँव में एक से एक कलाकार कला की साधना करते हैं। लेकिन उनके पास अपनी कला के प्रदर्शन के लिए स्थान और मंच नहीं होता।
मैं कई कार्यक्रमों में प्रदेश से भी बाहर गया हूँ वहां भी मैने शिल्पकला के अद्भुत कार्य देखे। जिन्हे देखकर लोग दांतो तले उंगली दबा लेते हैं। देखते रह जाते हैं। मशीनों से काम होने के कारण परम्परागत रुप कार्य करने वाले कारीगरों के समक्ष रोजी रोटी की भी समस्या है। हस्त निर्मित शिल्प एवं कलाकृतियाँ का निर्माण वर्तमान में बहुत कम हो गया है। परम्परागत शिल्पकारों ने जीविकोपार्जन के लिए अन्य काम धंधे करने शुरु कर दिए। जिससे लकड़ी, लोहे, तांबे, सोना चांदी, पत्थर, कपड़ा इत्यादि पर होने वाले काम अब काफ़ी कम हो गए हैं।
मेरा एक सपना है कि ऐसे कलाकारों को एक मंच देना तथा वेब साईट के माध्यम से उनकी कला परिचय पूरी दुनिया से कराना। उनके बनाए हुए उत्पादों को उपभोक्ताओं तक पहुंचाना। जिससे कलाकारों का जीवन यापन हो सके। वर्तमान में यह वेबसाईट प्रारंभिक स्वरुप में है। भारत भर से जानकारी एकत्रित करना भी बहुत श्रम साध्य कार्य है। लेकिन हमने अपने सम्पर्कों एवं साथियों के सहयोग से इसे पूरा करने का बीड़ा उठाया है। ईश्वर की कृपा एवं सबकी मेहनत रही तो अवश्य ही इस कार्य को पूरा करने में हम कामयाब होगें।मेरे इस कार्य में कई साथी साथ में जुड़े हैं। इसलिए अब उपरोक्त कार्य मेरे अकेले का न होकर हम सबका है।ललित कला वेबसाईट पर मेरे सहयोगी श्री जी.के.अवधिया,अल्पना देशपांडे,धीरज ताम्रकार,गिरीश बिल्लौरे जबलपुर, इत्यादि हैं।

सादर आपका
ललित शर्मा"
 

ब्लॉग 4 वार्ता  के इस मंच से, मैं, पूरे वार्ता दल और आप सब की ओर से, श्री ललित शर्मा जी को और ललितकला.इन  को हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनाएं देता हूँ | सफलता आपके कदम चूमे !

और अब पेश है आज की ब्लॉग वार्ता ...... 

सादर आपका 

-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
सब से पहले एक खास खबर :- 

मुख्‍य मंत्री करेंगें ललित शर्मा जी की वेब पोर्टल ललित कला डाट इन का लोकार्पण :- हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनाएं !
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

सलाह ! :- मानो तो मानो ....नहीं तो तुम जानो !

आखिर ब्लॉगर्स की इज्जत का सवाल है भाई। :- बात पते की .......ज़रा ध्यान से मामला है पते का !



हम ही रोटी हम ही अचार :- कौन बना रहा है खाने का विचार ?










बच्चों से बातें करना :- बहुत टेढ़ी खीर है !



और अब जाट आरक्षण :- अभी तो और भी आने बाकी है ! 



प्रेम की पराकाष्ठा :- अति उतम !

हिन्दी दिवस पर चेन्नई में सत्यशीलता ज्ञानालय आयोजित "ठहाकों की एक शाम - राष्ट्र के नाम" में हास्यकवियों ने मचाई धूम :- झूम झूम !

दिल्ली ब्लॉगर्स करेंगे धमाल .........ब्लॉगर्स और मीडिया ...होंगे आमने सामने ...ब्लॉग मीडिया का विरोधी .....या ,कि बन सकता है ...पूरक मीडिया ..........  :- देखेंगे हम लोग !

हमर छत्तीसगढ़ : हरियर छत्तीसगढ़ :- जय हो !

राज कर रही है तीन बेटों की मां... :- क्या सच में !!??

... जय जय लोकतंत्र !!! :- कितना सफल है यह मंत्र ??

ब्लोगिंग को बनाएं तनावमुक्त जीवन का एक हिस्सा :-  आज ही बनाये अपना एक चिटठा !!

आओ,हमारे समय के पत्रकार हो जाओ :- आओ, बिना ताज के सरताज हो जाओ !!


ओह ! वो श्वेत श्याम फ़ोटो का जमाना ... :- याद आता है !

हां सोचती तो है कभी कभार छै: बरस की थी तब वो भी तो बन गई थी दुलहनियां :- और अब क्या है ?


अफसोस की बात है कि विदेशियों के हाथों बिके हुए लोग देशी पत्रकारों को बिकाऊ कह रहे है… :- खुद को धोखा दे रहे है !

कश्मीर में पत्थर उठाने वाले कौन हैं...खुशदीप :- कुछ सिरफिरे ...!

सड़क मार्ग से महाराष्ट्र: सुरेश चिपलूनकर से हंसी ठठ्ठे के साथ कोंकण रेल्वे की अविस्मरणीय यात्रा और रत्नागिरि के आम :- आम के आम गुठलियो के दाम !

भारतीय शिल्प विज्ञान की सारी दुनिया कायल----ललित शर्मा :- सत्य वचन !

आज डॉ अमित त्यागी का जनमदिन है :- बधाइयाँ और शुभकामनाएं !

एक बड़ी-घनी मूँछ वाले को देखकर :- डर लगता है क्या ??

एक बुरी खबर :-

मेरा प्यारा साथी हमेशा के लिये चला गया........ :- खुश रहना मेरे यार !!

-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
आज की ब्लॉग वार्ता बस यहीं तक .......अगली बार फिर मिलता हूँ एक और ब्लॉग वार्ता के साथ तब तक के लिए ......

जय हिंद !!

29 टिप्पणियाँ:

सार्थक और सराहनीय प्रयास तथा प्रस्तुती ,ललित शर्मा जी हार्दिक बधाई और शुभकामनायें ...

ललित जी को अनेकानेक बधाई एवं शुभकामनाएँ.


बहुत बढ़िया चर्चा.

ललित कला के समग्र कला मंच को मेरी ओर से बहुत-बहुत बधाई और शुभकामनाएँ!

ललित कला मंच को बधाई और बहुत बहुत |
शुभ कामनायें |
आशा

क्या कहने..............

बहुत बहुत बधाई !

गज़ब का है ये सिलसिला

ललित जी और शिवम जी...बहुत अच्छी प्रस्तुति.

बहुत ही अच्छी चर्चा शिवम भाई .....इस अथक प्रयास के लिए बहुत बहुत शुभकामनाएं आपको

बहुत बढ़िया चर्चा!

saarthak charchaa
lalit bhaai ko bahut shubhkaamnaaye

ललित जी को हार्दिक बधाई।

ऐसा काम तो बस ललित शर्मा ही कर सकते हैं.. बधाई

ललित जी बहुत शुभकामनाएं और बधाईयाँ !
और अनपढ़े लिंक -शुक्रिया !

ललित जी को बहुत बधाई, वाकई उनके लिए आज खास दिन है

वाह, जी वाह ! अपने ललित जी तो बड़े आदमी बन गए !! बहुत बहुत शुभकामनाएं और बधाईयाँ !

ललित जी को बहुत बहुत बधाई...

नीरज

सार्थक प्रस्तुती ,ललित शर्मा जी हार्दिक बधाई और शुभकामनायें ...

ललित को बहुत-बहुत बधाई।

बढ़िया वार्ता है . और ललित शर्मा जी को बधाई.और शुभकामनायें.

ललित जी को हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनायें! बहुत ख़ुशी हुई सुनकर! बढ़िया चर्चा! हमेशा की तरह सुन्दर प्रस्तुती!

ललित शर्मा जी हार्दिक बधाई और शुभकामनायें

ललित जी को बधाई एवं शुभकामनाएँ.

आप सब का बहुत बहुत आभार !

सब का बहुत बहुत आभार !

बहुत ही अच्छी चर्चा....आदरणीय ललित भाईसाब को बधाईयाँ

शिवम भाई, ब्लॉगर्स की इज्जत बढ़ाने का शुक्रिया।
ललित भाई को हार्दिक बधाई।

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणी में किसी भी तरह का लिंक न लगाएं।
लिंक लगाने पर आपकी टिप्पणी हटा दी जाएगी।

Twitter Delicious Facebook Digg Stumbleupon Favorites More