शनिवार, 23 अक्तूबर 2010

बदलाव - एक भारतीय मुस्लिम का करारा जवाब - ब्लॉग 4 वार्ता - शिवम् मिश्रा

प्रिय ब्लॉगर मित्रो ,
प्रणाम !

एक दिन नारद जी वाल्मीकि जी के आश्रम में पहुंच गए। उन्होंने महर्षि से प्रश्न किया कि वेदों में कहा गया है कि मनुष्य बनो। पर समझ नहीं आता कि वेदों को पढ़ने वाला मनुष्य ही होता है, फिर मनुष्य कैसे मनुष्य बने? वह तो पहले से ही मनुष्य है। महर्षि ने नारद जी को समझाते हुए कहा कि प्रत्येक व्यक्ति मानव नहीं होता। एक आकृति या जन्म प्रक्रिया किसी को मानव नहीं बनाती, मानव की सार्थकता उसके मानवीय आचरण में है।

इस पर नारद जी ने पुन: प्रश्न किया कि ऐसा कौन सा मानव है, जिसमें मानव होने के समस्त गुण हों? जो गुणवान, वीर्यवान, कृतज्ञ, सत्यव्रत को धारण करने वाला हो व सबके हित में लगा हो? क्रोध को जीतने वाला तथा अपने शत्रु को भी आदर देने वाला कौन हो सकता है? इस पर महर्षि वाल्मीकि ने कहा कि इक्ष्याकु कुल में उत्पन्न राम एक आदर्श मानव हैं। वह सहज, सरल, संयमी, परोपकारी और धैर्ययुक्त है। वह शत्रु को भी आदर देते हैं। वह विनम्र है और आस्थावान है। पाप का विनाश शत्रुता से नहीं, कर्तव्य मानकर करते हैं। जो उसके आचरण को अपने जीवन में उतार लेगा, वही मानव कहलाएगा।

देखा जाए, तो महर्षि वाल्मीकि की रामायण के राम आदर्शो के प्रतीक हैं। महर्षि अपने राम को प्रत्येक मानव में देखना चाहते हैं, ताकि उसका मानव जीवन सफल हो सके। महर्षि वाल्मीकि ने मानव बनने के लिए गुणों का वर्णन किया है।

अथर्ववेद भी महर्षि वाल्मीकि के इस चिंतन की पुष्टि करता है। उसमें लिखा है, हे मनुष्य तू वीर्यवान है, तेजस्वी है, अपनों में आनन्दमय और ज्योतिर्मय है। तू श्रेष्ठा प्राप्त कर सब ही प्राणियों के हित में कार्य कर।

भारतीय चिंतन में बुद्धि के परिमार्जन को आवश्यक तत्व माना गया है। बुद्धि भी हमें असत्य और सत्य का भेद कराती है, अत: उसका परिमार्जन आवश्यक है। अहंकार और स्वयं को विशिष्ट दिखाने की भावना, ये दोनों बातें मानव बनने में बाधक हैं।

धर्म आत्मकल्याण का साधन तभी बनता है, जब प्राणिमात्र के कल्याण के लिए कार्य किया जाए। महर्षि वाल्मीकि ने मनुष्य बनने के लिए मानव हित में आचरण करने को प्राथमिकता दी है। 22 अक्टूबर को वाल्मीकि जयंती है। हमें महर्षि के विचारों का अनुसरण कर मनुष्य बनने की कोशिश करनी चाहिए।

आइये अब चलते आज की ब्लॉग वार्ता की ओर....

सादर आपका

शिवम् मिश्रा

-------------------------------------------------------------------------------------------------

कोई नया विरह ग्रन्थ बन जायेगा ............... :- एक अरसा हुआ हमें बिछड़े ना जाने कौन से वो पल थे कौन सा वो लम्हा था जब हम जुदा हुए कुछ तुम्हारी बेलगाम चाहतें थीं कुछ मेरी मजबूरियां थीं शायद तभी रिश्ते में दूरियां थीं जरूरत से ज्यादा दूजे को ...


काश ! भारत के भ्रष्ट राजनेता सूरत के महमूद रिक्शा वाले से ही कुछ सबक ले लें :- बात बहुत छोटी सी है, लेकिन महत्वपूर्ण है । कल सुबह-सुबह 4 बजे जब मैं ट्रेन से उतरा तो सूरत में बहुत तेज़ बारिश हो रही थी । स्टेशन परिसर में भी पानी भर गया था । यात्रियों की तकलीफ़ देखते हुए ऑटो रिक्शा ...


हर किसी को "और" चाहिए......... यह दिल मांगे मोर . :- *आज अगर हम चारो ओर देखें तो कोई भी अपनी जिंदगी से संतुष्ट दिखाई ही नहीं देगा। हमारे पास जो है वह कम ही मालूम पड़ता है. हर किसी को "और" चाहिए......... यह दिल मांगे मोर . * *चाहे किसी प्राप्य को प्राप्त...


स्वप्न वासवदत्ता - अंक 5 (संस्कृत नाटक का संपादित सरल हिन्दी रूपान्तर) :- (पद्मिनिका का प्रवेश) *पद्मिनिकाः* मधुरिके! मधुरिके! *मधुरिकाः* (प्रवेश करके) आई सखी, आई। *पद्मिनिकाः* मधुरिके! राजकुमारी पद्मावती सिर की पीड़ा से अत्यन्त व्यथित हैं। जा सखी, आर्या अवन्तिका को बुला ला। उन...


कब तक लुटता रहेगा आम उपभोक्ता :- आज का जमाना विज्ञापनों का है। इन विज्ञापनों के चक्कर में उपभोक्ता इस कदर फंस जाता है, कि उसे कई बार सोचने का भी मौका नहीं मिलता है। विज्ञापनों में अंदर कुछ होता है तो बाहर कुछ और होता है। अगर कहीं पर कोई ...


देखते हैं कब तलक तुम हमको झेले जाओगे--------दीपक मशाल:- देखते हैं कब तलक तुम हमको झेले जाओगे ना करें कि हाँ करें हम, तुम तो पेले जाओगे चीर उतरा द्रोपदी का आज कान्हा गुम रहा दांव खोकर भी सभी तुम, खेल खेले जाओगे ओए सुन लो फालतू इतना नहीं है माल ये एक चुटकी की ...


राशि लग्नानुसार शनि की लघु कल्याणी अढैया और साढे साती विचार : आसमानी बाबा :- कुछ भक्तजनों द्वारा आसमान में हमको अनगिनत संदेश भेजे गये। और बताया गया कि आजकल ब्लागाव्रत मे घोर अव्यस्था फ़ैली हुई है. एक अखण्ड ब्लागाव्रत की अवधारणा को कुछ तुच्छ मानसिकता वाले स्वयं भू क्षत्रपों ने खंडित...


आज विश्व दीपक का जनमदिन है :- आज, 22 अक्टूबर को अंतर्नाद वाले विश्व दीपक का जनमदिन है। बधाई व शुभकामनाएँ....


भाग ६ - कैलीफिर्निया में श्री विश्वनाथ :- यह श्री गोपालकृष्ण विश्वनाथ की अमरीकी/कैलीफोर्निया प्रवास पर छठी अतिथि पोस्ट है। ------------------------------ इस बार बातें कम करेंगे और केवल चित्रों के माध्यम से आप से संप्रेषण करेंगे। *शॉपिंग: =====...


अंग्रेजी मईया की किरपा.... :- इस बात में दो राय नहीं कि हिंदी की दुर्दशा दिखाई देती है, कारण सिर्फ बाजारवाद नहीं, अंग्रेजी की चमक इतनी तेज़ है कि लोग उससे बच नहीं पाते...और हमारी सरकार भी छीछा-लेदर करने से बाज़ नहीं आती, हिंदी के ...


पिता की खाली कुर्सी...खुशदीप :- एक बेटी ने एक संत से आग्रह किया कि वो घर आकर उसके बीमार पिता से मिलें, प्रार्थना करें...बेटी ने ये भी बताया कि उसके बुजुर्ग पिता पलंग से उठ भी नहीं सकते... जब संत घर आए तो पिता पलंग पर दो तकियों पर सिर रख...


सपनों का घर , कमाल के नन्हें पौधे ...और होशियारपुर के बारे में कुछ रोचक बातें ...पंजाब यात्रा -२ :- * * * * *सुबह सुबह की हल्की ठंड में जब होशियारपुर बस अड्डे पर उतरा तो पौ नहीं फ़टी थी ॥जैसा कि पहले ही सोच चुका था कि इस बार तो मैं हर पल को सहेजने की कोशिश जरूर करूंगा और देखिए न मेरी कोशिश का नतीजा आप के ...


बदलाव :- याद करूँ बचपन को जब जब बेड़ी लगती पाँव में। जो कुछ मैंने शहर में देखा वो दिखते हैं गाँव में।। घूँघट में सिमटी दुल्हन अब बीते दिन की बात है। जीन्स पेंट, मोबाइल, टी०वी०, गाड़ी भी सौगात है। मन की बातें, अपना ...


मुन्ना भाई को मिली दोहरी खुशी ! :- बॉलीवुड अभिनेता संजय दत्त की पत्नी मान्यता ने गुरुवार को उन्हें दोहरी खुशी दी। 32 वर्षीय मान्यता ने यहां ब्रीच कैंडी अस्पताल में जुड़वां बच्चों को जन्म दिया। इनमें एक बेटा और एक बेटी है। संजय दत्त के ...


नई ग़ज़ल/ बाप से भी ये घूस वसूलें...... :- *साहब....'शार्टकट' में ''साब जी'' भी। हमारे यहाँ ये शब्द व्यंग्य में भी कहा जाता है. बहुत पहले एक फ़िल्मी गीत लोकप्रिय हुआ था-''साला मैं तो साहब बन गया, साहब बनके कैसा तन गया''. साहब बन कर अक्सर लोग तन जाते...


महकता गुलाब...जो कहीं खो गया... :- अतीत का वो सुनहरा पन्ना उड़ गया है मेरी डायरी से जिस पर रखा था मैंने खुशबू बिखेरता एक गुलाब पता नहीं वो आँधी थी, या कोई तूफ़ान जिसमें बिखरा मेरा सब सामान दूर-दूर उड़कर अब हुआ आँखों से ओझल समेटते-समेटते अब तो मे...


मुन्नार की सैर करलो ! :- मुन्नार, सुदूर दक्षिण भारत के केरल प्रान्त का धरती का स्वर्ग ! इसके बारे में लिखूंगा ख़ास नहीं , क्योंकि नेट पर इसके बारे में आपको बहुत सारी जानकारियाँ उपलब्ध हो जायेंगी ! यहाँ एक हालिया एल्बम अपलोड कर रहा...


एक भारतीय मुस्लिम का करारा जवाब - - - - - - - mangopeople :- मैं कुछ कहु उसके पहले ये वीडियो देखिये और मजे ले लीजिये मुशर्रफ की बेईज्जती, का फिर बाते होंगी | एक चीज पर ध्यान दीजियेगा मुशर्रफ का चेहरे की उड़ती रंगत और उनकी प्रतिक्रिया ना दे पाने की कसक |


प्राईम टाइम - हँसने और मुस्कुराने के लिए ..... :- बस स्टैंड में एक बस काफी देर से खड़ी थी तो झल्लाकर एक यात्री ने ड्राईवर से पूछ लिया - अरे भाई यह खटारा कब रवाना होगी ? ड्राईवर ने यात्री को उत्तर दिया - जब इस खटारा में कचरा पूरी तरह से भर जायेगा । ------ ...


इसी का नाम प्यार है :- खामोश कीचड़ की तरह वजूद से लिपट गए हो तुम्हारे नाम के छीटों से आज भी आँचल दागदार है भरे ज़माने में रुसवा हुए निगाह ना उठा पाए तुम हँस के कहते हो इसी का नाम प्यार है....


“सभ्यता से लोग अब लड़ने लगे!” (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”) :- *भूख से व्याकुल हुई मैं जा रही हूँ। * *घास के बदले में कूड़ा खा रही हूँ।। * *याद आते हैं मुझे वो दिन पुराने। * *दूर तक मैदान थे कितने सुहाने।। *


हिस्स : क्या इस तरह की फिल्मों पर प्रतिबन्ध लगाया जाना चाहिए? :- हिस्स, मल्लिका शेरावत की नई फिल्म है, जिसे हॉलीवुड निर्देशक जेनिफर लिंच ने निर्देशित किया है। यह फिल्म नाग नागिन के सम्बंधों जैसी काल्पनिक कथा वस्तु पर आधारित है। इसकी कहानी सिर्फ इतनी है कि अमेरिका से...


मुझे शिकायत हे जी.....बात सिर्फ शराब की नहीं :- बात सिर्फ शराब की नहीं यह लेख मुझे मेल से आया पढ कर अच्छा लगा सोचा आप सब से बांट लू, ओर मैने जेसे का तेसा इसे यहां प्रकाशित कर दिया Dainik Bhaskar, 20 Oct 2010 : एक ताजा सर्वेक्षण से पता चला है कि भारत के ...


ब्लाग पाठकों से अनुरोध -सतीश सक्सेना :- कुछ दिनों से अपनी समझ के प्रति मोह भंग हुआ है, जिन लोगों को बेहतरीन मानता रहा हूँ वे अपनी असलियत बता गए ! अब तो अपनी समझ पर ही तरस आने लगा है ! अपनी उम्र के घिसे हुए लोगों से शिकायत नहीं है , कष्ट नयी ...


अँधा प्रेम !!! :- प्रेम,एक ऐसी दिव्य अनुभूति, जिससे सुन्दर,जिससे अलौकिक संसार में और कोई अनुभूति नहीं।जब यह ह्रदय में उमड़े तो फिर सम्पूर्ण श्रृष्टि रसमय सारयुक्त लगने लगती है.ह्रदय विस्तृत हो ब्रह्माण्ड में और ब्रह्माण्ड ...


आप सब का धन्यवाद :- कल मेरे बेटे के घुटने का अप्रेशन सफ़ल हो गया,आप सब के आशिर्वाद से, लेकिन उसे दर्द बहुत थी रात को , आप्रेशन से एक घंटा पहले हम वहां गये, फ़िर कुछ समय बाद डा० ने इस का आप्रेशन शुरु किया, हम मियां बीबी वही बेठ...


शक :- शक- एक ऐसी कीटनाशक दवा, जिसके प्रयोग से- कीटों के साथ-साथ फसल भी समूल नष्ट ।


शेयर बाजार पर ग्रहों का प्रभाव :- प्राचीन काल से ही अज्ञानता जैसे शब्‍द से मानव जाति को सख्‍त नफरत रही है। शायद इसी कारण प्रकृति के उलझे हुए रहस्‍यों को न जान पाना उसके लिए एक भयंकर चुनौती बनी रही और उसने प्रकृति के सारी रहस्‍यों को सुलझान...


पूर्व मु्ख्यमंत्रियों के बच्चों की रेस में गुम है बिहार :- तीन दशक पहले उम्मीदवारों की सूची देख कर कर्पूरी ठाकुर ने एक ही नाम सूची में से काटा था और वह नाम खुद कर्पूरी ठाकुर का था। इससे पहले तमाम नेता आपत्ती करते खुद कर्पूरी ठाकुर ही बोल पड़े कि मेरे परिवार से एक ...


वॉट ऐन आइडिया सर जी!! :- अभी दू चार महीना पहिले, हमरे हेड ऑफिस से कुछ अधिकारी लोग आए कोई प्रोजेक्ट के सिलसिला में। ऊ लोग को बहुत सा कागज पत्तर देखकर फाईनल रिपोर्ट बनाना था. अब सबसे बड़ा समस्या ई कि दूनो अधिकारी केरळ का था अऊर कागज...


-------------------------------------------------------------------------------------------------


ब्लॉग 4 वार्ता के मंच से आज की ब्लॉग वार्ता बस यहीं तक .....अगली बार फिर मिलता हूँ एक और ब्लॉग वार्ता के साथ तब तक के लिए ......

जय हिंद !!

22 टिप्पणियाँ:

वाल्मीकि जयंती की बधाई एवं शुभकामनाएँ.

बहुत बढ़िया चर्चा रही.

बहुत मेहनत से अपने काम को अंजाम देते हैं आप, चर्चा देखने से ही मालूम चलता है।
शुभकामनायें शिवम जी।

इतनी लंबी चर्चा हमारे लिए तो लगता है कुछ नहीं छोड़ा है आपने

बहुत कुछ एक ही स्थान पे मिल गया. धन्यवाद्

बहुत बढिया वार्ता है शिवम भाई।

बधाई हो........बहुत सार्थक चर्चा,,,,,,,,,,

मेरी पोस्ट को स्थान देने के लिए शुक्रिया !

अच्छी चर्चा प्रस्तुत की है ... शिवम् जी कई सारे लिंक मिले.....आभार

बढ़िया चर्चा शिवम भाई।

शिवम भाई, आपकी चर्चा सबसे अलग हटकर होती है, आप चाहे मानें या न मानें।
वाल्मीकि जयंती की हार्दिक शुभकामनाएँ।

बहुत बढिया वार्ता है ।

22 अक्टूबर को वाल्मीकि जयंती है। हमें महर्षि के विचारों का अनुसरण कर मनुष्य बनने की कोशिश करनी चाहिए।
बहुत बढिया संदेश दिया है आपने .. महत्‍वपूर्ण पोस्‍टों के लिंक तो आप उपलब्‍ध कराते ही हैं .. हमारे लिए ऐसा ही मेहनत करते रहें .. शुक्रिया शिवम जी !!

बहुत बढ़िया चर्चा

वाल्मीकि जी का प्रसंग बहुत अच्छा लगा | मेरी पोस्ट को चर्चा में शामिल करने के लिए धन्यवाद | आज आपके वन लाइनर की कमी खल रही है |

बहुत ही उम्दा प्रस्तुति शिवम भाई ..कमाल के लिंक्स सहेजे हैं ।

आप सब का बहुत बहुत आभार !

वाल्मीकि जयंती की बधाई एवं शुभकामनाएँ.

बहुत बढ़िया चर्चा रही

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणी में किसी भी तरह का लिंक न लगाएं।
लिंक लगाने पर आपकी टिप्पणी हटा दी जाएगी।

Twitter Delicious Facebook Digg Stumbleupon Favorites More