बुधवार, 14 अप्रैल 2010

आखिर आज़ ताउ से न मिल सका जानते हैं क्यों ....?

आज दिनभर से ताऊ की तलाश पाड्कास्ट इन्टर व्यू  के वास्ते परीशान था.  उनका बैठक  आरामगाह में वे न मिले ! सो सोचा कहीं   कुछ पार्टी में तो नहीं हैं http://blog.gilachess.com/wp-content/uploads/image93.png वहां भी न थे ताउ . सो अपन ने एक ज़िन्दा चूहा बतौर उत्कोच देकर राम प्यारी http://1.bp.blogspot.com/_S46EZmGC1oo/SwZlUfNf_DI/AAAAAAAAECc/zzbPyrnznD4/S1600-R/rampyari-on-mission3.JPGसे पतासाजी की तो बस दम्बूक दिखाई हमारी हुलिया टाईट हो गई ,इब क्या करॆं हम भी क्या किसी से कम हैं गुरु सुभीता-खोली तक झांख आये जहा मिले ये श्रीमान =>http://farm1.static.flickr.com/185/392906032_5aae47496e.jpgबोले बगैर इत्ता कुछ इनने कर दिया कि अपनी तो सिट्टी-पिट्टी गुम उधर दूर से http://download.wapday.com/animation/coontent/7270-t/trombone_sliding.gifबज रही बिगुल की आवाज़ मुझे सुनाई दी जिसके बीच -बीच में एलान ये हो रहा था कि ब्लाग 4 वार्ता पर कल ताऊ वार्ता करें उसी के वास्ते अंतर्ध्यान हो गए कल ब्रह्म: मुहूर्त में पोस्ट लगाके , अब इसे आप ताऊ की वार्ता  को हाइप करना कहिये अथवा  अथवा कुछ और अपन ने पोस्ट लिखना थी सो लिख दी ............जय राम जी की

2 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणी में किसी भी तरह का लिंक न लगाएं।
लिंक लगाने पर आपकी टिप्पणी हटा दी जाएगी।

Twitter Delicious Facebook Digg Stumbleupon Favorites More