मंगलवार, 27 अप्रैल 2010

आज सिर्फ़ अक्षय कात्यानी की मदद हेतु आपस मे चर्चा

http://4.bp.blogspot.com/_p4fwR-VKt70/S9XfoBgwnZI/AAAAAAAACKk/7QM0fMf-rUg/s1600/azad3.jpgमित्रो एक युवा जो जीवन जीने के लिये संघर्ष कर रहा है जी हां मैं अक्षय कात्यानी जिसके इलाज़ हेतु मात्र दो लाख रुपयों की ज़रूरत है विस्तृत जानकारी इन लिंक्स पर प्राप्त की जाए और अविनाश जी की तरह हम मदद कर सकतें है
अविनाश वाचस्पति - कुछ दिनों से देख पढ़ रहा हूं। पर आज इस पोस्‍ट में खाता संख्‍या संबंधी निम्‍न जानकारी मिल गई है।
Name- Sudhir Kumar Katyayani,
Account No.- 09322011002264,
Bank Name- Oriental Bank of Commerce,
Branch- Arera Colony Branch, Bhopal (M.P.)
कल मतलब मंगलवार को ही मैं इसमें एक हजार रुपये जमा कर रहा हूं। एक शुरूआत है। आप भी अगर आर्थिक रूप से सक्षम हैं तो ऐसा ही नेक कदम उठाएं। मैं अतुल पाठक से तो परिचित नहीं हूं परन्‍तु मदद करने के लिए परिचितता आवश्‍यक नहीं है। मुझे यह भी नहीं लगता कि कोई सरकारी मदद मिल सकती है, मिल सकेगी। पर उसकी उम्‍मीद क्‍यों करें हम, हम तो बस शुरू हो जाएं अभी।

जो भी सक्षम हैं और मदद करने का जज्‍बा रखते हैं। हम अपनी बेमर्जी से अपनी जेब तो कटवा सकते हैं। अपना वर्षों से संचित माल-असबाब तो लुटवा सकते हैं। पर ऐसे मौकों पर चुप्‍पी क्‍यों साध लेते हैं ? वैसे निश्चित रूप से मदद पहुंचना आरंभ हो चुकी होगी।

तो हाथ मत बांधिए
कतार बांधिए
और बांधिए बंधन ऐसा
जिस पर मानवता
कर सके गर्व
ऐसा निभायें धर्म
सबसे बड़ा मानवधर्म
इसे अनदेखा मत कीजिए
अपने मन से पूछिए
वो आपकी नेक विचारों की
अवश्‍य तस्‍दीक करेगा।

यह मत सोचिए कि मेरे एक हजार रुपये से क्‍या होगा ? एक हजार भी नहीं चाहिए सिर्फ एक हजार रुपये देने वाले 200 इंसान चाहिएं। नुक्‍कड़ पर अवश्‍य ही 50 इंसान तो मिल सकेंगे। चाहते तो सब होंगे मदद करना। पर 50 ने भी कर दी तो हो गई है शुरूआत। न भी हो, पर मैं क्‍यों रूकूं, मैं तो अपना कर्म करता चलूं। मालूम नहीं दिन कितने हैं, पर दिनों की प्रतीक्षा क्‍यों करें, आज ही इस नेक काम को क्‍यों नहीं करें

लिंक्स

13 टिप्पणियाँ:

एक असहाय की मदद के लिए गुहार
और उसके ओर मदद के लिए बढते हाथ
मानवता का परिचायक हैं।

धन्यवाद गिरीश जी

....स्वास्थ्य लाभ के लिये शुभकामनाएं !!

बेहद दुःख हुआ अक्षय के बारे में जानकार. हम भी जो संभव हो सकेगा आज ही दिए गये खाते में जमा करवाते हैं. इश्वर इन्हें इस बीमारी से निजात दिलाये यही दुआ है.
regards

हम आपके साथ हैं, साथी हाथ बढ़ाना ... :) हम आज ही अपने एकाऊँट में ये नंबर जोड़ते हैं और कल NEFT कर देंगे।

वैसे सरकार भी तो कर से चलती है

कर हमारे कटते हैं

कर से वे जीते हैं

इसलिए नौ-कर कहलाते हैं

करस्‍वामी हम ही हैं

सीमा जी

विवेक जी

हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग की इस ताकत को
मिसाल बना देंगे हम। अतुल पाठक इस ताकत की बदौलत हरा देंगे यम को।

इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

आनंद आ गया आपका पर्सनल न्योता देख कर अविनाश भाई !
मगर सुबह ही आपकी अपील पर कुछ धनराशि उस बच्चे के खाते में ऑन लाइन ट्रान्सफर कर चुका हूँ ! अगर और मदद चाहिए तो भी बताइयेगा !
इस बीमारी का आसान इलाज होमिओपैथी में है केवल किसी अच्छे होमिओपैथ से कोंस्टीटयूशनल ट्रीटमेंट करना पड़ेगा !

बहुत ही बढिया पहल की है आपने अविनाश जी, इस तरह की कोशिशें ही हमें इन्सान बने रहने में मदद करती हैं।

इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

सतीश जी जैसा सुधीर जी से आप सुबह ही फोन पर बात हुई है, के अनुसार अक्षय को इंजेक्‍शन लगने हैं। आप उनसे विस्‍तार से उनके फोन नंबर 09329632420 पर बात कर सकते हैं।

@गिरीश भाई,
@अविनाश भाई,

हमसे जो भी बन पड़ेगा वो तो हम ट्रांसफर कर ही देंगे...

लेकिन मैं कुछ और भी सोच रहा हूं...अक्षय पत्रकार है...भोपाल में रह रहा है...भोपाल मध्य प्रदेश की राजधानी है...
हर राज्य की तरह मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का ज़रूर राहत कोष होगा...पत्रकारों को वैसे ही वरीयता दी जाती है...अगर शिवराज जी से संपर्क किया जाए तो उसके मुफ्त इलाज के लिए मदद मिल सकती है...अक्षय की समस्या सिर्फ इलाज से ही खत्म नहीं हो जाएगी...बाद में दवा और उसके पुनर्वास के लिए भी पैसे की ज़रूरत पड़ेगी...जो भी मदद इकट्ठी होगी वो बाद में इस काम पर खर्च की जा सकती है...मुख्यमंत्री से संपर्क करने में हमारे सम्मानित और वरिष्ठ ब्लॉगर अजित वडनेरकर मदद कर सकते हैं...वो नाइट ड्यूटी करने की वजह से रात देर तक जागते हैं...इस वक्त शायद उनका सोने का वक्त होगा...रात को मैं उनसे फोन पर बात करता हूं...

जय हिंद...

एक अनुपम प्रयास के लिए शुभकामनाएँ .
सतीश सक्सेना जी की बात पर भी गौर किया जाना चाहिए .
अक्षय अगर प्रैस क्लब के मेबेर हैं तो शासन से भी त्वरित सहायता प्राप्त की जा सकती है

जी खुशदीप भाई। अजित जी से बात करियेगा। http://nukkadh.blogspot.com/2010/04/blog-post_959.html अजित जी की टिप्‍पणी इस पोस्‍ट में है जो कि नुक्‍कड़ पर है। आप अवश्‍य देखिएगा। मैंने भी आज सुबह सुधीर कत्‍यानी जी के खाते में ऑनलाईन राशि ट्रासफर कर दी है।

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणी में किसी भी तरह का लिंक न लगाएं।
लिंक लगाने पर आपकी टिप्पणी हटा दी जाएगी।

Twitter Delicious Facebook Digg Stumbleupon Favorites More