बुधवार, 4 अप्रैल 2012

बड़ा सुकूं है जबके चारो ओर शोर है... ब्लॉग4वार्ता....संध्या शर्मा

संध्या शर्मा का नमस्कार... कल से आईपीएल का धमाल शुरु होने वाला है, इसका आगाज आज सेट मैक्स चैनल पर एक रंगारंग कार्यक्रम से हो गया…मैच की शुरुआत चेन्नई सुपर किंग्स और मुंबई इंडियंस के मुकाबले से होगी…७६ मैचों का आयोजन किया गया है जिसका फ़ाइनल मैच २७ मई को खेला जायेगा. इधर बस्तर में सैनिक बल के अत्याचार पर हंगामा मचाने वालों को यह चित्र भी देखना चाहिए… कि सैनिक बल वहां किस तरह कार्य कर रहे हैं……… अब प्रस्तुत हैं मेरी पसंद के कुछ लिंक्स……… 

रात करती इशारे कि महफिल उठी......
सर्द आहें तो कितनी निकलती मगर, दिल की जलती अगन कब है इससे बुझे। शक्ल अपनी दिखे ख्वाइशें थी बहुत, आईने की इजाजत मिली ना मुझे।1। खुद की आवाज तक तो वो सुनता नहीं, खाक उसकी मुनादी से बस्ती जगे। टेढ़ी गलियों...

भोली गाय
बहुत समय पहले की बात है| किसी जंगल में एक गाय रहती थी| जो जंगल में घास चर कर अपना पेट भरती थी| इसी जंगल में एक शेर भी रहता था जो जंगली जानवरों का शिकार किया करता था| समय आने पर ...

अनागत कुसुम
हवा के झझकोरे से बिखरे पत्तों को देखकर बच्चों की भाँति ठिठक जाता है - भीरु मन और चलने से मना करता है एक भी कदम... फिर उसी हवा के झोंके में देखता है भर अचरज - मन कोरा कोंपल -कलियन कि प्रस्तुत होता है अप्रस्त..
समापन करते हुए श्री हरेश कुमार सक्सेना मैं और मेरी छोटी बहिन साधना मैं काव्य पाठ करते हुए साधना वैद संचालन करते हुए 
मुझे पता है .. बिलकुल कायदे से पता है.. देखते रहते हो तुम मुझे कहीं छुप के ..हर वक्त जब कोई नहीं होता है आस-पास, तब आ के खड़े हो जाते हो मेरे समक्ष . पता है ...तुम ही हो कोई और कैसे होगा भला ? तुम्हारे अल...
फरवरी १४, तब मैने लिखा था कि शायद १७०० पन्नों की ई बुक शान्ताराम की शुरुवात ही है- वाकई ९८८ पन्नों की पुस्तक- परन्तु ईबुक में पन्ने बढ़ जाते हैं. आज १ अप्रेल- खत्म हुई पुस्तक. मानो एक युग का अन्त हुआ. यह ...
मेष लग्नवालों के लिए 3 , 4 और 5 अप्रैल 2012 को स्वास्थ्य या व्यक्तिगत गुणों को मजबूती देने के कार्यक्रम बनेंगे, स्मार्ट लोगों का साथ मिलेगा। रूटीन काफी सुव्यवस्थित होगा। अपनी या संतान पक्ष की पढाई लिखाई क...
ये तस्वीर अपने आप में बहुत कुछ बयां करती है. इसे मैंने फेसबुक से लिया है. 
** * हम भारत में रहते है और हमे अपनी भारतीय संस्कृति पर बहुत गर्व है , हम श्रवन कुमार के आदर्शो को मानते है . हमे ये कतई गवारा नही कि हमारे संस्कार पर कोई ऊँगली उठाये ...हम विश्वगुर...
तो हमारी एक दोस्त से बहस छिड़ गयी कि हिन्दी लिखने वालों को सरल लिखना चाहिए या हिन्दी की गुणवत्ता बरकरार रखते हुए क्लिष्ट? उसे मेरी बहुत ही सरल और सुस्पष्ट हि....
* *फिल्म देखने का नजरिया बदलेगा अंतर्राष्ट्रीय मीडिया फिल्म फैस्टीवल: कुलपति* *भ्रष्टाचार के खात्में के लिए फिल्मों में सामाजिक संवेदनशीलता जरूरी: शाह....
शायद 1990 की बहार का मौसम था जबकि वे एक दूसरे के प्रति अनुरक्त हुए होंगे और फिर शादी के पवित्र बंधन में बंधना उनकी मजबूरी बन गया ! फिलहाल उनके दो बच्चे हैं..
* * * * *मेरा जनम -दिवस * *२८ march* *मेरे जन्म दिन पर आप सभी दोस्तों का मैं आभार प्रकट करती हूँ ----इस दिवस को आप सबने अपने प्यार से यादगार बना दिया .....  
मशाल इन्कलावी बुझाई क्यों गयी है - इबारत लिखी अमन की,मिटाई क्यों गयी है , टुटा है हौसला , बिकता इमान है , इंसानियत से दुरी , बनायीं क... 
आज दिल कुछ अजीब से लम्हात में जी रहा है ,बड़ा सुकूं है जबके चारो ओर शोर है ...शरीर ऐसा शांत है मानो कितनी मुद्दत के बाद गहरी नींद सोये हो, आस पास की हलचल ध...  
छोटी छोटी चीजें जीवन की दिशा बदल सकती हैं, लेकिन उन छोटी छोटी चीजों पर अमल होना चाहिए, इस रविवार मैं अपने ससुराल में था, यहां घर के मुख्‍य द्वार पर कुछ इंग...  

क्या यही हैं वो विधान? जिससे बना मेरा भारत महान! - सरकारी नौकर बनने के लिए कुछ न कुछ न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता की आवश्यकता होती है। किन्तु शैक्षणिक योग्यताओं वाले सरकारी नौकरों को अपने नियन्त्रण में रखकर सरक...
मेरा मन जैसे खेत में खड़ा एक बिजुका महसूसता है हर पल तुम्हारी आवन-जावन को बिना कोई सवाल किये........... और भावनाएं जैसे पीहर में बैठी विवाहिता गिन रही ह... 
*संचार माध्यमों ने* कुछ ऐसी फ़िजा बनाई कि मैं भी पृथ्वी प्रहर (अर्थ आवर) मनाने को संकल्पित हो गया। अर्थ आवर आने पर उसका जोरदार स्वागत करने के लिए मोमबत्...  
*एक समय था जब देश देश की तरह चला करता था. अब तो लगता है देश किसी बड़े सेठ की दूकान है, जो अपने लाभ की ही चिंता में लगा रहता है. दुःख होता है कि हमारी सरकार...   
पहाड़ों की एक महकती शाम...लड़की न भी चाहे तो भी चाँद की किनारी आँचल से छू ही जाती. वो मुंह फिराकर नाराज होने का नाटक करे तो भी चाँद शदीद मोहब्बत सीने में..

अब लेते हैं आपसे विदा मिलते हैं, अगली वार्ता में, नमस्कार..... 

8 टिप्पणियाँ:

वाह! बढिया वार्ता और उम्दा लिंक्स। आभार

बेहतर वार्ता ....अच्छे लिंक्स का संकलन ....!

बहुत सुन्दर लिंक्स से सजी चर्चा

बहुत बढिया ..
अच्‍छे अच्‍छे लिंक्‍स मिले ..
आभार संध्‍या जी !!

http://t.co/b0lxYD9O अति सुंदर

अच्छी लिंक्स से सजी ब्लॉग ४वार्ता |धन्यवाद संध्या जी मेरी पोस्ट झलकियां शामिल करने के लिए |
आशा

काफी लिंक्स मिल गए .आभार.

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणी में किसी भी तरह का लिंक न लगाएं।
लिंक लगाने पर आपकी टिप्पणी हटा दी जाएगी।

Twitter Delicious Facebook Digg Stumbleupon Favorites More