सोमवार, 4 जून 2012

तुम पहाड़ पर चढ़ो …. ब्‍लॉग4वार्ता .. संगीता पुरी

आप सबो को संगीता पुरी का नमस्‍कार , शनिवार को पेट्रोल के दामों में प्रति लीटर दो रुपये की कि गई कमी को और कम किए जाने की मांग शहरवासियों द्वारा की जा रही है। शहरवासियों के अनुसार केंद्र व राज्य सरकारों के साथ पेट्रोलियम कंपनियां को भी आम आदमी के हित में अपने टेक्स में कमी लाना चाहिए जिससे लोगों को राहत मिल सके। पेट्रोल मूल्य वृद्धि पर चौतरफा राजनीतिक विरोध के बावजूद प्रधानमंत्री की आर्थिक सलाहकार परिषद के अध्यक्ष सी. रंगराजन ने डीजल और रसोई गैस की कीमतों में बढ़ोतरी की वकालत कर जनता के जले पर नमक छिड़क दिया है। रंगराजन का मानना है कि लोगों की नाराजगी की परवाह किए बगैर सरकार को इस पर तुरंत फैसला लेना चाहिए। सरकार जो भी फैसला लेती है , उसे मानना तो लोगों की मजबूरी है। अब चलते हैं आज की वार्ता पर ....
गर्मी   गरम लू के थपेड़ों में झुलस जाते हैं कुछ अरमान भाप हो जाती हैं कुछ ख़्वाहिशें वक़्त बन जाता है अंगारों भरी सड़क जलता है फ़र्श और तपती हैं दीवारें झील सूख कर बन जाती है .
तुम पहाड़ पर चढ़ो ….तुम पहाड़ पर चढ़ो हम तुम्हारी सफलता के लिए दुआएं करेंगे; तुम जमीन खोदकर पाताल में उतर जाओ, जब तक तुम बाहर नहीं आ जाते हम तुम्हारे लिए फिक्रमंद रहेंगे. 
सफाई ईश्वर का रूप है*प्रेरक प्रसंग-**38*** *सफाई ईश्वर का रूप है*** गांधी जी सफाई पसंद व्यक्ति थे। उनका मानना था कि सफाई ईश्वर का रूप है। वे घर में तो सफाई रखते ही थे, सार्वजनिक सफाई का भी उन्हें काफ़ी ख़्याल रहता था।वे तो ...
बाल गीत चूँ चूँ चिड़िया चुन दाना संजीव 'सलिल' * * चूँ-चूँ चिड़िया चुन दाना. मुझे सुना मीठा गाना.. तुझको मित्र बनाऊँगा मैंने मन में है ठाना.. कौन-कौन तेरे घर में मम्मी, पापा या नाना?
 छुट्टे पशुओं का आतंक
आपके शहर में कितना है यह तो मैं नहीं जानता लेकिन बनारस में छुट्टे पशुओं का भंयकर आतंक है। नींद खुलते ही कानों में चिड़ियों की चहचहाहट नहीं बंदरों की चीख पुकार सुनाई पड़ती है। खिड़की से बाहर सर निकाले नहीं...
ईनाम का फंडा...ऐसा कोई क्षेत्र नहीं बचा है जिसके लिए रमन राज को पुरस्कार नहीं मिला है। सत्ता में आते ही मिल रहे पुरस्कार की झड़ी थमने का नाम ही नहीं ले रहा है और लोग हैरान है कि ऐसा क्या हो रहा है।
 हर ओर इक तमाशा फ़ैला है , कहीं शोर कहीं शराबा फ़ैला है - * * * * * * * * * * * * * * * * *मऊसम का भविष्यवाणी सत्य हुआ , आज अभी तनिक सा बरस गए बदरा , गरम तवे पे मारा पानी , हुआ छन से , ओईसे ही धरती से उलटा मार रहा ह... 
 जहाँ पेड़ से भी होती है मित्रता - छत्तीसगढ़, बस्तर अंचल और ओड़िसा में "मीत" यानी मित्र बनाने की सुदीर्घ परम्परा रही है। माहापरसाद (महाप्रसाद), सखी, फूल, तुलसीजल (तुलसीदल), भोजली, गंगाजल, 
ललित डॉट कॉम खबर की पुष्टि की दैनिक भास्कर ने -- ललित शर्मा - मैने दो दिन पूर्व अपनी पोस्ट धरती पर यमराज के एजेंट में डॉक्टरों द्वारा कम उम्र की महिलाओं को बीमारी का डर बता कर बच्चेदानी निकालने वाली घटना का जिक्र किया...
किनारे बैठ मोहब्बत को उलीच रही हूँ - किनारे बैठ मोहब्बत को उलीच रही हूँ जानती हूँ ना ............. मेरी मोहब्बत कफ़न ओढ़ कर सो रही है बताओ तो ज़रा............. तुमने तो मोहब्बत के सारे गुलाब कब
'राईट टू रिकॉल' ? - मंत्री ... सांसद ... विधायक ... भृष्टाचार के आरोप लगे जांच हुई अपराध कायम हुए सबूत मिले गिरफ्तार हुए जेल गए जेल में रहे जमानत हुई फिर से... 
 शुक्र का पारगमन- एक दुर्लभ घटना - ‘भोर का तारा‘ या ‘सांध्य तारा‘ के रूप में सदियों से परिचित शुक्र ग्रह अर्थात ‘सुकवा‘ 6 जून, 2012 को एक विचित्र हरकत कर...
वो खुशनुमा अहसास.. (कहानी--16 )
बच्चे मन लगाकर पढ़ रहे थे...उनका रिजल्ट अच्छा  आ रहा था. माँ ने भी अब उसका मायके में रहना स्वीकार कर  लिया था. बल्कि उन्हें अब यहाँ ज्यादा अच्छा लगता था..बातों बातों में कह ही देतीं..."बेटा के यहाँ तो केवल खाना और सोना था....

अब लेते हैं विदा .. मिलते हैं एक ब्रेक के बाद ....

8 टिप्पणियाँ:

दिन भर की गरमाहट को यथावत रखती वार्ता।

आज की वार्ता पूरे दिन के लिये काफी है,,,,,

अच्छे लेख समेटे वार्ता

बढ़िया वार्ता... काफी सारे लिंक्स... आभार संगीताजी

वार्ता की वतातीं बातें बेहतरीन हैं...

बढ़िया वार्ता

अच्छे लिंक्स
बढिया वार्ता

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणी में किसी भी तरह का लिंक न लगाएं।
लिंक लगाने पर आपकी टिप्पणी हटा दी जाएगी।

Twitter Delicious Facebook Digg Stumbleupon Favorites More